Skip to content
Home » Annaraks adhyaya aiapget mcqs

Annaraks adhyaya aiapget mcqs

0%
1 votes, 5 avg
48

7. Annaraks adhyaya

1 / 85

मधु में विष के कारण किस वर्ण की रेखा दिखाई देती है
Which Colour Rekha present in Visha Dushita Madhu ?

2 / 85

कम्पिल्लक विरुद्ध है -
Kampillaka is Viruddha when

3 / 85

अष्टाङ्ग हृदय मतानुसार, ग्रीष्म ऋतु के अतिरिक्त ऋतु में दिवास्वाप होता है -
According to Ashtānga Hrudya, Divāsvapna svapna except in grīshma ritu is -

4 / 85

कथन 1."यत्किंचिद्दोषमुत्क्लेश्य न हरेत्तत्स्मासत: " सात्म्य की परिभाषा है । कथन 2."यत्किंचिद्दोषमुत्क्लेश्य न हरेत्तत्स्मासत: " विरुद्ध की परिभाषा है ।
Statement 1- "Yatkinchiddoshamutkleshya na Harettatsmāsatah" is the definition of Sātmya. Statement 2- "Yatkinchiddoshamutkleshya na Harettatsmāsatah" is the definition of Virūddha.

5 / 85

पानी जैसी रेखाएं किस विषयुक्त अन्न में बनती है
Water like lines are formed in which Visha yukta Anna

6 / 85

सविष अन्न सेवन से जीव जीव में क्या लक्षण दिखाई देते हैं ? ( वाग्भट )
What are the symptoms in Jīva Jīva due to intake of savisha anna ? ( Vāgbhata )

7 / 85

सविष अन्न की मयूर द्वारा परीक्षा के सम्बंधित लक्षण है -
Symptoms on examining Savisha anna by Mayura

8 / 85

कथन 1. अष्टांग हृदय अनुसार सुख दु:खं पुष्टि: कार्श्यं बलाबलं .... निद्रा के अधीन हैं । कथन 2.अष्टांग हृदय अनुसार सुख दु:खं पुष्टि: कार्श्यं बलाबलं .... ब्रह्मचर्य के अधीन हैं ।
Statement 1- According to Ashtānga Hrudya, "Sukha Dukham Pushtih Kārshyam Balābalam.... " is sunordinate of Nidrā. Statement 2- According to Ashtānga Hrudya, "Sukha Dukham Pushtih Kārshyam Balābalam.... " is sunordinate of Brahmacharya.

9 / 85

तिल कल्क को उपोदिका शाक के साथ खाने से होता है
What happens if Tilakalka is taken with Upodika Saka?

10 / 85

माष सूप के साथ विरुद्ध है -
Viruddha with māsha sūpa is

11 / 85

मधु के साथ सम भाग में विरुद्ध है -
What is viruddha with sama bhāga madhu

12 / 85

सविष अन्न सेवन से मार्जार में क्या लक्षण दिखाई देते हैं ?
What are the symptoms in mārjāra due to intake of savisha anna

13 / 85

अकाल शयन से उत्पन्न विकारों की चिकित्सा में प्रयुक्त कर्म है -
What treatment is done in diseases due to akāla shayana

14 / 85

अष्टाङ्गहृदय अनुसार विषमिश्रित दुग्ध में किस वर्ण की रेखा उत्पन्न होती है
According to Ashtāmga Hridaya, if milk us mixed with poison then lines of which colour are formed

15 / 85

. कदली फल किसके साथ असेवनीय है ?
Kadalī phala should not be consumed with

16 / 85

विषमिश्रित तक्र में किस वर्ण की रेखा उत्पन्न होती है ?
Lines of which colour are formed in Visha mishrita takra

17 / 85

शूल्य मांस के विरुद्ध मांस है -
Viruddha Māmsa of Shūlya Māmsa is

18 / 85

अकाल शयन से उत्पन्न रोग है -
Disease due to akāla shayana is

19 / 85

फेनोर्ध्वराजीसीमन्त तन्तु बुद् बुद संभव' किसके विषयुक्त होने के लक्षण है
"Phenordhava rājī sīmanta tantu buda buda sambhava" is symptom of poisoning of which of the following

20 / 85

विषयुक्त की चिकित्सा में हृदय शुद्धि हेतु प्रयुक्त रसभस्म है -
Rasa bhasma for Hridaya shuddhi for the treatment of Vishayukta is

21 / 85

अष्टांगहृदयानुसार विष चिकित्सा में ताम्र भस्म का कितनी मात्रा में प्रतिदिन सेवन करवाना चाहिए ?
According to Ashtānga Hrudya , in the treatment of visha , tāmra bhasma should be taken daily in how much quantity ?

22 / 85

बलाका का मांस किसकी वसा में तल कर खाने से सद्य: मारक होता है ?
Balākā māmsa cooked with vasā of which of the following kills instantly

23 / 85

मृण्मये पात्र में विष युक्तता के लक्षण है -
Symptoms of Visha in Mrinmaya pātra

24 / 85

विरुद्ध द्रव्य किसके लिए प्रभावहीन होते है ?
Viruddha dravya has no prabhāva in which conditions ?

25 / 85

वाराह मांस के साथ किसका मांस विरुद्ध है ?
Vārāha Māmsa with which Māmsa is Viruddha

26 / 85

त्रय: उपस्तंभ में अब्रम्हचर्य को माना है -
Who has included abramhacharya in trayah upastambha

27 / 85

सही कथन है -
Which of the following is true

28 / 85

विषैले अन्न से किसका प्रस्खलन होता है (अष्टांगहृदय)
Poisonous food causes praskhalana of?(Ashtāmga Hridaya)

29 / 85

यत्किंचिद्दोषमुत्क्लेश्य न हरेत्तत्स्मासत: किसकी परिभाषा है ?
"Yata kimchida dosham utkleshya na hareta tasmātah" is the definition of

30 / 85

रात्रि जागरणअसात्म्य होने वाले को रात्रि जागरण करने पर प्रातः कितना सोना चाहिए ?
After Asātmya Rātri jāgarana, for how long one should sleep during day

31 / 85

बिंदूभिश्चाच्यो अंंगानां (शरीर अवयवों पर बिंदुओ की उत्पत्ति) यह लक्षण है -
"Bimdubhushchāpyo amgānām" this is symptom of

32 / 85

कथन 1. अष्टांग हृदय अनुसार जो शरीर में जो दोष क्रम से घटाये जाते हैं वे दोष फिर उत्पन्न नहीं होते हैं । कथन 2. अष्टांग हृदय अनुसार शरीर में जो गुण क्रम से बढ़ाये जाते हैं वे शरीर में स्थिर रहते हैं ।
Statement 1 - The Doshas which are reduced in order from the body, those defects do not arise again. Statement 2 - According to the Ashtanga heart, the qualities which are progressively increased in the body remain stable in the body.

33 / 85

कालरात्रि के समान कौनसी निद्रा है -
Which type of Nidrā is like Kāla rātri

34 / 85

निम्न में से विषदाता का लक्षण हैं -
Which of the following are characteristics of Vishadātā

35 / 85

आचार्य वाग्भट्ट अनुसार दिवास्वाप में कौनसा/कौनसे दोष कुपित होते है ?
According to Āchārya Vāgbhata, which doshas gets aggrevated in Divasvāpa ?

36 / 85

विषदुष्ट भात के लक्षण -
Visha dushta bhāta symptoms are

37 / 85

सविष अन्न की क्रौंच द्वारा परीक्षा के सम्बंधित लक्षण है -
Symptoms on examining savisha anna by Kraumcha

38 / 85

विरुद्ध सेवन की चिकित्सा है -
What is the treatment of Viruddha Āhāra Sevana

39 / 85

किसके पात्र में 10 दिन तक रखा घृत त्याज्य है -
Ghrita kept in which container for 10 days should not be consumed

40 / 85

दूध के साथ विरुद्ध है -
Viruddha with milk is

41 / 85

किस मत्स्य का मांस दूध के साथ विशेष रूप से विरुद्ध है ?
Milk along with which fish is considered Viruddha

42 / 85

विषमिश्रित तुषोदक में किस वर्ण की रेखा उत्पन्न होती है
Lines of which colour are formed in Visha mishrita tushodaka

43 / 85

विषमिश्रित मस्तु में किस वर्ण की रेखा उत्पन्न होती है
What coloured lines are formed in Visha mishrita mastu

44 / 85

बिस के साथ विरुद्ध है -
Viruddha with bisa is

45 / 85

वाग्भट अनुसार दिवास्वाप किस स्थिति मे निषिद्ध नहीं हैं ?
According to Vāgbhata, Divāsvāpa is NOT contraindicated in which condition ?

46 / 85

लकुच फल किसके साथ असेवनीय है ?
Lakucha should not be consumed with

47 / 85

विषयुक्त प्राणी की हृदय शुद्धि के पश्चात् निम्न भस्म को 1 शाण की मात्रा में देने का विधान है -
After Hridaya shuddhi of poisoned person, the following bhasma is used in quantity of 1 shāna

48 / 85

क्रमणापचिता दोषा: क्रमणापचिता गुणा: ............" यह सूत्र संबंधित है -
"Kramanāpachitā doshah Kramanāpachitā gunāh......" this is related to

49 / 85

स्वेदमूर्च्छाध्मानमदभ्रमा:' किस स्थानगत विष के लक्षण है
"Sveda mūrchchā ādhmāna mada bhramāh" is lakshana of which sthāna gata visha

50 / 85

विषयुक्त अन्न को अग्नि में डालने पर लक्षण उत्पन्न होते हैं -
Symptoms arising when poisonous food is added to the fire

51 / 85

A. अष्टांग हृदय अनुसार जिनमे कफ मेद की अधिकता होती हैं और जो नित्य स्निग्ध भोजन करते हैं उन्हें किसी भी ऋतु में दिन में नही सोना चाहिए । R. क्योंकि दिन में सोने से वायु दूषित होती हैं ।
A. According to Ashtānga Hrudya, the ones having excess of Kapha Meda and who regular have uncoutous diet should not sleep during day time in any season. R. Because sleeping during day vitiates Vāyu.

52 / 85

उपोदिका का किसके साथ सेवन विरुद्ध है ?
Upodikā consumed with which of the following is considered Viruddha

53 / 85

A.. अष्टांग हृदय अनुसार निद्रा अधिक आने पर तीक्ष्ण अंजन, तीक्ष्ण वमन, चिंता, क्रोध आदि करने चाहिए । R. इन सभी कर्मो से श्लेष्मा का बहुत अधिक क्षय होने से निद्रा का नाश होता हैं ।
A. According to Ashtānga Hrudya, in excess sleep, Tīkshna Anjana, Tīkshna Vamana, Worry, Anger etc should be done. R. All these activities leads to excess decrease in Shleshmā leading to destruction of sleep.

54 / 85

अविमांस का सेवन किसके साथ विरुद्ध है ?
Avi māmsa is Viruddha when consumed with which of the following

55 / 85

आचार्य वाग्भट ने वैरोधिक आहार का वर्णन किया है-
Where did Āchārya Vāgabhatta describe Vairodhika Āhāra

56 / 85

दुग्ध के साथ विरुद्ध है -
What is viruddha with milk

57 / 85

असात्म्य रात्रि जागरण करने पर प्रात: काल आधे समय सोने से पूर्व स्थिति है -
How should one sleep in the morning after asātmya rātri jāgarana

58 / 85

विष की चिकित्सा में हृदय शुद्धि पश्चात अष्टांगहृदय ने कितनी मात्रा में स्वर्ण भस्म का सेवन करने को कहा है ?
Swarna bhasma should be consumed in what quantity for the treatment of Visha after Hrudya shuddhi according to Ashtāmga Hridaya ?

59 / 85

कथन1. अष्टांग हृदय अनुसार कांस्य पात्र में 10 दिन तक रखा घृत त्याज्य होता हैं । कथन 2. अष्टांग हृदय अनुसार तक्र के साथ सिद्ध कम्पिल्लक विरुद्ध होता हैं ।
Statement 1- According to Ashtānga Hrudya, 10 days old Ghruta kept in bronze container is discarded. Statement 2- According to Ashtānga Hrudya, use of Takra with Kampillaka is Viruddha.

60 / 85

आमाशय गत व पक्वाशय गत विष की चिकित्सा है क्रमशः-
Treatment of Āmāshayagata and Pakvāshaya gata visha respectively is

61 / 85

सविष अन्न सेवन से हंस में क्या लक्षण दिखाई देते हैं ?
What are the symptoms of swan due to intake of Savisha Anna

62 / 85

तैल में विष के कारण किस वर्ण की रेखा दिखाई देती है
Lines of which colour are formed in Visha mishrita taila

63 / 85

पक्वाशय गत विष का लक्षण हैं -
Symptoms of Pakvāshaya gata visha are

64 / 85

निम्न में से विषदाता का लक्षण नही है ?
Which of the following is not a characteristic of Vishadātā

65 / 85

काकमाची का सेवन किसके साथ विरुद्ध है ?
Kākamāchī consumed with which of the following is considered Viruddha

66 / 85

विषमिश्रित कौनसे द्रव्य में कृष्ण वर्ण की रेखा उत्पन्न होती है
Black coloured lines are formed when poison is mixed with which of the following

67 / 85

हृदयरोध लक्षण है -
Hridaya rodha is symptom of

68 / 85

विषैले मद्य में किस वर्ण की रेखाएं बनती है
Lines of which colour are formed in poisoned Madhya

69 / 85

विषयुक्त अन्न के स्पर्श से उत्पन्न लक्षण है-
Symptoms on touching Vishayukta anna

70 / 85

अतिनिद्रा जन्य विकारों की चिकित्सा है -
Treatment of atinidrā janya vikāra

71 / 85

विषमिश्रित मांसरस में किस वर्ण की रेखा उत्पन्न होती है
Which colour lines are formed on vishamishrita māmsa rasa

72 / 85

पृषत व कुक्कुट मांस के साथअसेवनीय है -
What should not be consumed with prishata and Kukkuta māmsa

73 / 85

सविष अन्न की वानर द्वारा परीक्षा के सम्बंधित लक्षण है -
Symptoms on examining Savisha anna by monkey

74 / 85

रात्रि में भी निद्रा वर्जित है -
Sleep is contraindicated in night for

75 / 85

आचार्य वाग्भटानुसार दिवास्वाप में कौनसा / कौनसे दोष कुपित होते है ?
Which Dosha prakopa happens in Divāsvapna according to Āchārya Vāgabhatta

76 / 85

आनूप मांस के साथ विरुद्ध है -
Viruddha with Ānupa Māmsa is

77 / 85

अपथ्य त्याग का पादांशिक क्रम वर्णित है -
Pādāmshika krama of apathya tyāga is explained in

78 / 85

त्रय: उपस्तंभ वर्णित है -
Trayah upastambha is explained in

79 / 85

सविष अन्न की काक द्वारा परीक्षा के सम्बंधित लक्षण है -
Symptoms on examining Savisha anna by kāka

80 / 85

यत्किञ्चितदोषत्क्लेश्य न हरेत्ततत्समासत किसकी परिभाषा है ?
"Yatkinchitadoshatkleshya na Harettatatsamāsat" is the definition of -

81 / 85

मयूरकंठतुल्योष्मा' किसके विषाक्त होने के लक्षण है
"Mayurakamthatulyoshmā" is due to poisoning of

82 / 85

सविष अन्न सेवन से चकोर में क्या लक्षण दिखाई देते हैं ?
What are the symptoms in chakora due to intake of savisha anna

83 / 85

सुख दु:खं पुष्टि: कार्श्यं बलाबलं .......जीवितं न च किसके लाभ-हानि है -
"Sukha dukha pushtih kārshyam balābalam...... jīvitam na cha" is said in context of

84 / 85

कथन 1. अष्टांग हृदय अनुसार रात्रि में जागना स्निग्धता उत्पन्न करता हैं । कथन 2.अष्टांग हृदय अनुसार रात्रि में जागना रूक्षता उत्पन्न करता हैं ।
Statement 1 - According to Ashtānga Hrudaya, waking up till night develops Snigdhatā. Statement 2 - According to Ashtānga Hrudaya, waking up till night develops Rūkshatā.

85 / 85

मधु व घृत भिन्न मात्रा में होने पर भी किसके साथ असेवनीय है ?
Madhu and ghrita in different quantities are non consumable with

Your score is

The average score is 40%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *