Skip to content
Home » Charak Chikitsha Chapter 10 Apsmar Chikitsha

Charak Chikitsha Chapter 10 Apsmar Chikitsha

0%
0 votes, 0 avg
63

Charak Chikitsha Chapter 10 Apsmar Chikitsha

1 / 60

चरक सहिता अनुसार निम्नलिखित में से कौन सा रसायन अपस्मार की चिकित्सार्थ वर्णित है ?
According to Charaka Samhitā, which of the following Rasāyana is explained for the treatment of Apasmāra

2 / 60

चरक के अनुसार अपस्मार के भेद कितने हैं
Types of Apasmāra according to Charaka are

3 / 60

पीत फेन किस अपस्मार का लक्षण है
Pīta phena is lakshana of which apasmāra

4 / 60

चरक चिकित्सा में अपस्मार में वर्णित "प्लंकषादि तैल" में प्लंकष से क्या तात्पर्य है ?
What does "Plamkasha" in Plamkashādi oil mentioned in charaka chikitsā mean ?

5 / 60

परुषारूणकृष्णानि पश्येद्रूपाणि किसका लक्षण है
"ParushĀrunaKrishnāni pashyedarūpāni" is the symptom of

6 / 60

अपस्मार चिकित्सा में उद्वर्तनार्थ इनमें से क्या वर्णित नही किया गया है ?
What is not explained for Udvartana in Apasmāra Chikitsā

7 / 60

जिह्वाSक्षिभ्रू स्त्रवल्लालो हस्तौ पादो च विक्षिपन् यह किस व्याधि का पुर्वरूप है
"Jivhākshibhrū sravalalālo hastau pādo cha vikshipana" premonitory symptom of which disease

8 / 60

चरक संहिता के अपस्मार चिकित्सा में कौनसे प्राणियों का मूत्र वर्णित नही हैं ?
Mūtra of which living being is not explained in Apasmāra chikitsā in Charaka Samhitā

9 / 60

अनलव्याप्तलोकदर्शी किस अपस्मार का लक्षण है
"Anlavyāptalokadarshi" is the symptom of which Apasmāra

10 / 60

निम्न में से किस अपस्मार में रसायन चिकित्सा करते है ?
In which of the following apasmar rasayan chikitsa is done ?

11 / 60

अतत्वाभीनिवेश की चिकित्सा है -
Treatment of atatvabhinivesh is -

12 / 60

चरक अनुसार पित्तज अपस्मार की चिकित्सा है -
According to Charak, treatment of pittaj apasmar is -

13 / 60

अतत्वाभिनिवेश में प्रयुक्त पञ्चगव्य घृत का अनुपान क्या है ?
What is the anupan of panchagavya ghrut used in atatvabhinivesh ?

14 / 60

पलंकषादी तैल का चरकोक्त रोगाधिकार कौनसा है ?
Palamkashādi taila Rogādhikāra is

15 / 60

कम्पते प्रदाशेद्दन्तां किस अपस्मार का लक्षण हैं ?
"Kampate pradāshedantām" is the symptom of which Apasmāra

16 / 60

वचा चूर्ण को मधु के साथ प्रयोग किया जाता है
Vachā chūrna with madhu is used for treating

17 / 60

निम्न श्लोक किस व्याधि की सम्प्राप्ति के सन्दर्भ है "धमनीभि:श्रिता दोषा हृदयं पीडयन्ति हि। सम्पीडयमानो व्यथते मूढो भ्रांतेन चेतसा।।"
Dhamnibhishrita dosha hridayam pidyanti hi. Sampīdyamāno vyathate mudho bhramtena chetasā" the following stanza is about the samprāpti of which vyādhi

18 / 60

किस व्याधि को "कृतास्पद" कहा गया है ?
Which disease is known as "Kritaspad" ?

19 / 60

तम: प्रवेश बीभत्सचेष्टम किस व्याधि का लक्षण है ?
"Tama pravesh bibhatsacheshtam" is the symptom of which disease ?

20 / 60

अपस्मार के प्रारंभिक दोषों का प्रकोप काल
Prakopa kāla of prārambhika dosha of Apasmāra

21 / 60

अपस्मार चिकित्सा में वर्णित कायस्थादि वर्ति में "कायस्था" है
What is "kāyasthā" in kāyasthā varti mentioned in Apasmāra Chikitsā?

22 / 60

चरक अनुसार स्मृतिनाश किस व्याधि में होता है ?
According to Charak, smrutinash occurs in which disease ?

23 / 60

चरक अनुसार अपस्मार की चिकित्सार्थ किस घृत का प्रयोग प्रतिदिन वर्णित है ?
According to Charak, which ghrut should be used everyday for the treatment of apasmar ?

24 / 60

चरक संहिता में अपस्मार चिकित्सा में नस्य के लिए कौनसे मूत्र का उल्लेख नही है ?
Nasya of which Mūtra is not explained in Apasmāra Chikitsā by Charaka Samhitā

25 / 60

कपिलानां गवां मूत्रं नावनं परमं हितम् किसकी चिकित्सा के सन्दर्भ में है
"Kapilānām gavām mūtram nāvanam paramam hitam" is said in context of which disease

26 / 60

चरकानुसार अपस्मार में स्नान करना चाहिए
Snāna in Apasmāra should be done in

27 / 60

महापंचगव्य घृत किस ज्वर का नाश करता है
Mahāpanchgavya ghrita is used to treat which jvara

28 / 60

तैरावृताना हृत् स्त्रोतो मनसां सम्प्रबोधनं किसकी चिकित्सा है ?
"Tairāvritānā hrita sroto manasām samprabodhanam" is treatment of

29 / 60

जलौका की विष्ठा का उबटन किस व्याधि में लगाना चाहिए
Stool.of leech as ubatana is used in which disease

30 / 60

अपस्मार चिकित्सा में "प्लंकषादि तैल" के निम्न प्रयोग का विधान है
Usage of plamkashādi oil is as

31 / 60

अपस्मार के कौनसा तैल नस्य के लिए उपयोगी है ?
Which tail is used for nasya in apasmar ?

32 / 60

कौनसा अपस्मार असाध्य है ?
Which Apasmāra is Asādhya

33 / 60

पञ्चगव्य घृत का प्रयोग नहीं करते है -
Panchagavya ghruta is not used in -

34 / 60

हृदये व्याकुले किस व्याधि का लक्षण है ?
"Hrudye vyakule" is the symptom of which disease ?

35 / 60

चरकसंहितानुसार, रिक्त स्थान की पूर्ति करे- "दुश्चिकित्सयो हयपस्मारश्चिरकारी कृतास्पाद:। तस्मात् .......नं प्रायशः समुपाचरेत्।।"
According to Charaka Samhitā, fill in the blank - "Dushchikitsyo hayapsmārashchirakārī krutāspadah , tasmāt ......... enam prāyashah samupācharet"

36 / 60

अपस्मार चिकित्सा में उद्वर्तनार्थ प्रयुक्त योग में वर्णित 'अपेतराक्षसी' से कौनसे औषधी द्रव्य का ग्रहण करना चाहिए ?

37 / 60

चरक ने अत्तत्वाभिनिवेश रोग का वर्णन किस व्याधि के साथ किया है
Charaka has explained atatavābhinivesha with which disease

38 / 60

शीत अंग कौनसे अपस्मार का लक्षण हैं ?
Shīta amga is lakshana of Apasmāra

39 / 60

मुच्यते चिरात् किस अपस्मार का लक्षण है
Muchyate chirāta is the symptom of which Apasmāra

40 / 60

चरकोक्त पंचगव्य घृत किस रोगाधिकार में है ?
Charakokta Panchagavya Ghruta is in which Rogādhikāra ?

41 / 60

आमलकादि घृत किस दोषज अपस्मार का नष्ट करता है ?
Aamalakadi ghrut destroys which doshaj apasmar ?

42 / 60

रजस्तमोभ्यां वृद्धाभ्यां बुद्धौ मनसि चावृते किस व्याधि का लक्षण है ?
"Rajastamobhyam vruddhabhyam buddho manasi chaavrutte" is the symptom of which disease ?

43 / 60

वचादि घृत किस दोषजन्य अपस्मार में हितकारक होता है ?
Vachadi ghrut is beneficial in which doshaj apasmar ?

44 / 60

अहित अशुचि भोजन का सेवन किस व्याधि का हेतु कहा गया है ?
Ahita, Asuchi bhojan is the reason for which disease

45 / 60

तैरावृतानां हृत्स्रोतो मनसां संप्रबोधनम्। तीक्ष्णौरादौ भिषक् कुयार्त् कर्मभिर्वमनादिभि:।। यह चिकित्सा सिद्धांत है :
"Tairāvritānām hritasroto mansām samprabodhanam. Tikshanaurādau bhishaka kuryāta karmabhirvamanādibhi" is chikitsā siddhāmta of

46 / 60

सन्निपातज अपस्मार की साध्यासाध्यता होती है -
Sadhyasadhyata of sannipataj apasmar is -

47 / 60

पुष्य नक्षत्र में संग्रह किये हुए कुते के पित्त का अंजन लगाने से कौन सा रोग नष्ट हो जाता है
Dog bile, collected during pushya nakshatra, is used as anjana for the cure of

48 / 60

अतत्वाभिनिवेश में शतावरी का प्रयोग किसके साथ करते है ?
Shatāvari is used with what in Atatvābhinivesha

49 / 60

दोषवेगे च विगते सुप्तवत् प्रतिबुद्धयते किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"doshavege ch vigate suptavat pratibuddhyate" is the purvaroop of which disease ?

50 / 60

जलाग्नि द्रुमशैलभ्यश्च विषमेभ्यश्च तं सदा रक्षेत ......... |' किस व्याधि की चिकित्सा में है ?
"Jalāgni drumashailabhyashcha vishamebhayashcha tam sadā raksheta" is treatment of which vyādhi

51 / 60

पुष्य नक्षत्र में संग्रह किये हुए कुते के पित्त का अंजन लगाने से कौन सा रोग नष्ट हो जाता है
Dog bile, collected during pushya nakshatra, is used as anjana for the cure of

52 / 60

विषमां कुरुते बुद्धिम् नित्यानित्ये हिताहिते' कथन किसके लिये है?
"Vishamām Kurūte buddhim nityānitye hitāhite" is said for

53 / 60

निम्न में से चरक ने महागद किसे कहा है ?
Charak has said Mahagad to which of the following ?

54 / 60

पंचगव्य घृत का रोगाधिकार है
Rogādhikāra of panchgavya ghrita

55 / 60

पञ्चगव्य घृत का प्रयोग नहीं करते है -
Panchagavya ghruta is not used in -

56 / 60

किस व्याधि में रोगी नित्य और अनित्य हितकर और अहितकर वस्तुओं में अपनी बुद्धि विषम रूप में करता है
In which disease does the a patient makes perverted judgements regarding nitya, anitya and hitakara, ahitkara objects

57 / 60

चरकानुसार अपस्मार में प्रयुक्त यमक है
According to Charaka yamaka in Apasmāra

58 / 60

अलक्ष्मी नाशक औषधी योग है ?
Alakshamī nāshaka aushadhī yoga is

59 / 60

चरक अनुसार सैंधवादि घृत का रोगाधिकार है -
According to Charak, rogadhikar of saindhvadi ghrut is -

60 / 60

अलक्ष्मीग्रहरोगघ्नम् चातुर्थिकविनाशनम् किस योग की फलश्रुति है
"Alakshamīrogaghnama chāturthikavināshanama" is phalashruti of which disease

Your score is

The average score is 69%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *