Skip to content
Home » Charak Chikitsha Chapter 12 Sotha Chikitsha

Charak Chikitsha Chapter 12 Sotha Chikitsha

0%
0 votes, 0 avg
64

Charak Chikitsha Chapter 12 Sotha Chikitsha

1 / 93

मर्मानुगत और राजिमान शोथ होता है
Marmānugata and rājimāna shotha are

2 / 93

क्षारगुटिका की मात्रा है ?
Dose of Kshāragutikā is -

3 / 93

चरकानुसार शोथ के पूर्वरूप में निम्नोक्त कौन सा लक्षण नहीं पाया जाता है ?
As per Charaka, which of the following Lakshana is not a Pūrvarūpa of Shotha ?

4 / 93

शोथ की चिकित्सार्थ किस व्याधि में वर्णित अरिष्ट हितकारक होते है ?
Arishta mentioned in which disease are beneficial in the treatment of shotha ?

5 / 93

क्षारसूत्र का वर्णन चरक संहिता में किस व्याधि के संदर्भ में किया गया है ?
Kshāra Sūtra is mentioned in Charaka Samhitā in context to which disease ?

6 / 93

त्रिफलाद्यारिष्ट का रोगाधिकार है
Rogādhikāra of triphalādhya arishta

7 / 93

ताम्रा सशूला किस पिड़का का लक्षण है
Tāmrā sashūlā is the symptom of which which pidikā

8 / 93

प्रशाम्यति प्रोन्नमति प्रपीडितो दिवाबली किस शोफ का लक्षण है ?
"Prashāmyati pronnamti prapīdito divābalī" is the symptom of which shopha ?

9 / 93

चरकानुसार दन्तविद्रधि में दोष प्राधान्य है
Dosha pradhānya in danti Haritaki

10 / 93

गोमूत्र के साथ हरीतकी चूर्ण का सेवन किस शोथ की चिकित्सा है
Intake of Haritaki chūrna with Gomūtra is advised in which type of shotha

11 / 93

मसूरिका मे दोष प्राधान्य

12 / 93

निदानदोषर्तुविपर्ययक्रमैरुपाचरेत्तं बलदोषकालवित् किस व्याधि का चिकित्सा सूत्र है ?
"Nidan dosh hetuviparyay kramerupachatettam baladosha kaalvit" is the chikitsa sutra if which disease ?

13 / 93

प्रोन्नमति प्रपीडितो किस शोथ का लक्षण है ?
"Pronnamati prapidito" is the symptom of which shotha ?

14 / 93

कक्षा में दोष प्राधान्य चरकानुसार
Dosha pradhānya in kakshā

15 / 93

यज्ञोपवीत प्रतिमा किस रोग के संदर्भ में कहा गया है ?
"Yagyopvit pratima" is said in relation with which disease ?

16 / 93

जालकगर्दभ की चिकित्सा है
Treatment of jālakagardhabha

17 / 93

अगदवेदसिंधु किसके लिए कहा गया है
Agadadevasimdhu has been said for

18 / 93

सिरा के विकार से उत्पन्न ग्रन्थि का लक्षण है
Symptom of granthi produced due to vikāra of sirā

19 / 93

क्षारसूत्र का प्रथम वर्णन किस आचार्य ने किया है ?
Kshar sutra is first described by which Acharya ?

20 / 93

चरक अनुसार त्रिविध शोथ में सम्मिलित नहीं है -
According to Charak, not included in trividh shoth is -

21 / 93

श्लीपद चिकित्सा है
Treatment of shlīpada

22 / 93

सर्षप लेपन किसकी चिकित्सा में बताया गया है ?
Application of Sarshapa is mentioned in the treatment of which of the following ?

23 / 93

गोमूत्र का हरीतकी के साथ सेवन प्रशस्त है
Use of Gomūtra with haritaki is best used in

24 / 93

पुनर्नवारिष्ट के साथ किसका सेवन करना चाहिए ?
Punarnavarishta should be used along with ?

25 / 93

दवथु किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"Davathu" is the pūrvarūpa of which disease ?

26 / 93

विसर्प रोग नाशक चिकित्सा किस शोथ में की जाती है
Visarpa roga nāshaka chikitsā is done in which type of shotha

27 / 93

चरक अनुसार श्रेष्ठ शोथघ्न घृत कौनसा है ?
According to Charak, which is the preferable

28 / 93

चरक के अनुसार "अगदवेद सिन्धु प्रवर्तन " से क्या तात्पर्य है ?
According to Charaka, what does "agadaveda sindhu pravartana" mean

29 / 93

क्षारसूत्र प्रयोग का वर्णन चरक संहिता चिकित्सा स्थान के किस अध्याय में है ?
Use of Kshāra Sutra has been advised in which chapter of Chikitsā sthāna

30 / 93

चरक अनुसार विदारिका का अधिष्ठान है -
According to Charak, origin of vidarika is -

31 / 93

दिवाबली शोथ कौन सा है
Which of the following is "divābali" shotha?

32 / 93

अर्शांस्यचेष्टा न च देहशुद्धिमर्मोपघातो विषमा प्रसूति" किस रोग का निदान है ?
"Arshānsyacheshtā na cha dehashuddhimarmopaghāto vishamā prasūtī" is the cause of which disease ?

33 / 93

चरक अनुसार शोथ में प्रयोग किया जाना वाला घृत है -
According to Charak, ghrut used in shoth is -

34 / 93

शोथ की चिकित्सा के सन्दर्भ में सही विकल्प चुने - "विबद्ध विट्केSनिलजले .............. |"
Select the correct option for treatment of shotha - "vibaddha vitke anilajale ........"

35 / 93

तालुविद्रधि में दोष प्रधानता है -
Dosh predominance in Taluvidradhi is -

36 / 93

अष्टशत अरिष्ट का रोगाधिकार है
Rogādhikāra of ashtshata arishta?

37 / 93

चरक संहिता मतानुसार, भगन्दर का चिकित्सा सिद्धांत है -
Principle of management of Bhagandara as per Charaka Samhita is/are -

38 / 93

जिसके अग्रभाग से सदैव स्राव होता रहे उसे आचार्य चरक ने क्या कहा है
The one with discharge for their mouth are named by charaka as

39 / 93

कंस हरीतकी निर्माणार्थ गुड़ की प्रयुक्त मात्रा कितनी है
Guda mātrā for preparation of Kamsa Harītaki

40 / 93

चरक मतानुसार, "अष्टशतारिष्ट" किस व्याधि में निर्दिष्ट है ?
According to Charaka, "Ashtashatārishta" is indicated in which disease ?

41 / 93

चरकोक्त उपजिह्विका में दोष है
Dosha in upajivhikā is

42 / 93

घृतं सतिक्तं किस दोष से उत्पन्न शोथ की चिकित्सा है ?
"Ghrutam satiktam" is the treatment of shotha occurred from which dosh ?

43 / 93

श्लीपद मे चिकित्सा की जाती है
What treatment is done in shlīpada

44 / 93

अगदवेद सिन्धु प्रवर्तनादि प्रवर - विश्लेषण किसके लिए आया है ?
"Agadaveda sindhu pravartanādi pravara" - this specification has come for which of the following ?

45 / 93

कृष्णात्रेय द्वारा बताया योग नहीं है ?
Which yoga is not mentioned by Krushnātreya ?

46 / 93

कंस हरीतकी में कितनी हरीतकी होती है
What is the number of haritaki in kamsa Haritaki

47 / 93

कंस हरीतकी की मात्रा है
Quantity of kamsa Haritaki

48 / 93

रोमांतिका में दोष प्राधान्य है चरक
Dosha pradhānya in romāmtikā as per Charaka

49 / 93

पुनर्नवारिष्ट के साथ किसका सेवन करना चाहिए ?
Punarnavarishta should be used along with ?

50 / 93

मर्मानुगतो राजिमान युक्त शोथ होता है
Marmānugato rājimāna yukta shotha is

51 / 93

चरक अनुसार वृद्धि रोग के प्रकार है -
Types of vriddhi rog according to Charak are -

52 / 93

चरकानुसार आगन्तुज शोथ की चिकित्सा किसके समान करनी चाहिए
According to Charaka, treatment of āgantuja shotha should be done like

53 / 93

चरक अनुसार उपकुश में दोष प्राधान्य है -
Dosh predominance in upakush according to Charak is -

54 / 93

चरक अनुसार चित्रक घृत का रोगाधिकार है
Rogādhikāra of chitraka ghrita according to Charaka is

55 / 93

चरक के अनुसार शोथ का क्रमशः पुर्वरूप एवम् रूप है
Premonitory symptom and symptom of shotha respectively, according to Charaka is

56 / 93

क्षार गुडिका का प्रयोग किस व्याधि की चिकित्सा में किया जाता है ?
Use of kshar gudika is used in the treatment of which disease ?

57 / 93

चरक अनुसार चित्रक घृत का रोगाधिकार
Rogādhikāra of chitraka ghrita according to Charaka is

58 / 93

ताम्र वर्ण की एवम् शूल युक्त पिड़का जिसके अग्र भाग से स्राव होता रहे का नाम क्या है
Tāmra varna evum shūla yukta pidkā having discharge in front is named as

59 / 93

कंस हरीतकी की मात्रा है -
Quantity of kansa haritaki is -

60 / 93

कंस हरीतकी निर्माण में गुड़ की मात्रा है
Quantity of jaggery in formation of kamsa Haritaki

61 / 93

शरीर के सम्पूर्ण भाग में स्फोट के समान,दाह,ज्वर,प्यास से युक्त पिडिका का नाम क्या है
In which pidika the eruptions appear all over body and the patient suffers from dāha, fever and thirst

62 / 93

दिवाबली किस शोथ का विशिष्ट लक्षण है ?
"Divābalī" is the specific symptom of which shotha ?

63 / 93

चरक अनुसार विदारिका में दोषदुष्टि है -
According to Charak, doshadushti in Vidarika is -

64 / 93

चरक द्वारा वर्णित अष्टशतअरिष्ट में प्रयुक्त प्रत्येक दृव्यों को कितनी मात्रा में लेने का विधान है
Quantity of each dravya required in preparationof ashtashata arishta

65 / 93

चरकानुसार विडालिका का स्थान क्या है
Sthāna of vidālikā according to Charaka

66 / 93

कंसहरीतकी का रोगाधिकार है -
Rogadhikar of kansaharitaki is -

67 / 93

चरकानुसार शोथ में विशेष रूप से दूषित दूष्य हैं
Vishesh dushita dushya in shotha according to Charaka

68 / 93

चरक अनुसार उष्मा, दवथु, सिरा आयाम किसका पूर्वरूप है
According to Charaka Ushmā, davathu and sirā āyāma are premonitory symptom of

69 / 93

शोथ का सामान्य लक्षण है
Sāmānya lakshana of shotha is

70 / 93

कफज शोथ की चिकित्सा में प्रयुक्त त्रिकटु,निशोथ को किस भस्म के साथ प्रयोग करना चाहिये
Trikatu and nishotha should be used with which bhasma for the treatment of Kaphaja shotha

71 / 93

शोथ रोग में भोजन एवम् जल का परित्याग के निम्न काल तक उष्ट्री दुग्धपान प्रशस्त माना है
In shotha roga the patient should avoid taking food and water and take camel milk for how long?

72 / 93

अन्तर्गले घूर्घुरिकान्वितं किसका लक्षण है
"Antargale ghurghurikānvitama is the symptom of

73 / 93

चरकानुसार कक्षा रोग ने दोषप्राधान्य है
Dosha pradhānya in kakshā roga according to Charaka

74 / 93

सिरा आयाम है
Sirā ăyāma is

75 / 93

क्षारगुटिका में क्रमशः कितने क्षार व लवण है ?
How many kshar & lavan are in kshargutika respectively ?

76 / 93

चरक अनुसार भगन्दर की चिकित्सा है -
According to Charak, treatment of bhagandar is -

77 / 93

रोमांतिका के सन्दर्भ में असत्य है
What is untrue in context of romāmtikā

78 / 93

चरक अनुसार जालकगर्दभ में किस दोष का प्राधान्य है ?
According to Charak, which dosh is predominant in Jalakargardabh ?

79 / 93

चरक मतानुसार "कंसहरीतकी" का मुख्य रोगाधिकार है -
According to Charaka, main rogādhikāra of "Kamsaharītakī" is -

80 / 93

कंस हरीतकी के निर्माण में प्रयोग की जानी वाली हरीतकी की संख्या है -
Number of haritaki used in the formation of kansa haritaki is -

81 / 93

शोथ की चिकित्सा में गुडार्द्र का प्रयोग कब तक करना चाहिए
For how long should gudārdra should be used for the treatment of Shotha?

82 / 93

आमदोषोत्पन्न शोथ की चिकित्सा है
Treatment of āmadoshautapanna shotha

83 / 93

रात्रिबली शोथ है
Rātribali shotha is

84 / 93

चरक अनुसार ग्रन्थि के भेद है -
According to Charak, types of granthi are -

85 / 93

धात्री का प्रयोग किस व्याधि की चिकित्सार्थ किया गया है ?
Use of dhatri is done in the treatment of which disease ?

86 / 93

शैलेयादि तैल किस शोथ में उपयोगी है ?
Shaileyadi tail is used in which shotha ?

87 / 93

वैहायसे स्थापितमादशाहात किस अरिष्ट के बारे में कहा गया है ?
"Vaihayase sthapitama dashaahat" is said for which arishta ?

88 / 93

गुडार्द्रक प्रयोग की प्रारंभ में कितनी मात्रा बताई गयी है ?
How much is the quantity of gudardrak at the starting ?

89 / 93

गंडीराद्यारिष्ट का रोगाधिकार
Rogādhikāra of gamdīrādhyārishta

90 / 93

शोथ को दबाने पर दब जाना व पुनः उठना किसका लक्षण है
On pressing the shōtha it depresses an again rising is the symptoms of which shōtha

91 / 93

गलस्य पार्श्वे ......... एक: स्याद् ......... बहुभिश्च गण्डै: |
"Galasya parshve ......... ek syad ......... bahubhishch galgandae"

92 / 93

निम्न में से कृष्णात्रेय द्वारा बताया योग नहीं है ?
Which of the following yoga is not explained by Krishnātreya

93 / 93

क्षारगुटिका की मात्रा किसके समान है ?
Quantity of kshargutika is similar to ?

Your score is

The average score is 71%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *