Skip to content
Home » Charak Chikitsha Chapter 30 YoniVyapad Cikitsha

Charak Chikitsha Chapter 30 YoniVyapad Cikitsha

0%
0 votes, 0 avg
39

Charak Chikitsha Chapter 30 YoniVyapad Cikitsha

1 / 233

बलादि यमक तैल प्रयोग किस दोष युक्त योनिरोगों मे होता है ?
Balādi yamaka taila is used in which dosha yukta yoni roga ?

2 / 233

योन्यामधावनात कण्डूम् जाता: लक्षण है
"Yonyāmadhāvanāta kanduma jātāh" is the symptom of

3 / 233

गोपित्ते मत्स्यपिते वा क्षौमं त्रिसप्तभावितम ' is treatment of
Gopitte Matsyapitte Wā Kshaumam Trisaptabhāwitam is the treatment of

4 / 233

कण्डुग्रस्ताल्पवेदनाम् - यह निम्न में से किस योनि का लक्षण है
Kandugrastālpavedanām is the lakshana of

5 / 233

किस प्रकार के प्रदर में पाण्डुवर्ण का रक्तस्राव होता है ?
In which type of Pradara, bleeding is of Pāndu varna ?

6 / 233

अक्ताम् लवणतैलेन साश्मप्रस्तरसंकरै:' किसकी चिकित्सा है
"Akatāma lavanatailena sāshmaprastarasamkaraih" is the treatment of

7 / 233

प्राणवायु दुष्टि मे किस औषध सेवन काल का प्रयोग करना चाहिए

8 / 233

निम्नलिखित योनि व्यापद रोगों में से किसे "अनुपक्रमा" कहते हैं ?
Which of the following yoni vyāpada is called "Anupakrama"?

9 / 233

किस योनिव्यापद मे मांस व अस्थि मे वेदना होती है ?-
In which Yonivyāpada, there is pain in Māmsa and Asthi ?

10 / 233

अति बाला के साथ मैथुन करने से उत्पन्न होने वाला योनिव्यापद है
Yonivyāpada caused due to maithuna with atibāla is

11 / 233

रौक्ष्यात वायु गर्भं जातं जातं विनाशयेत' किसके सन्दर्भ मे कहा गया है
"Raukshyāta vāyu garbham jātam jātam vināshyeta" has been said in the context of

12 / 233

किस दोष युक्त स्तन्य पीने से बालक का शरीर नित्य उष्ण रहता है
The body of the child is always hot due to which breast milk dosha

13 / 233

चरकानुसार प्रदर का भेद नही है
Which of the following is not a type of pradara according to charaka

14 / 233

कफदुष्ट शुक्र में प्रयुक्त चिकित्सा है
Treatment of kaphadushta shukra

15 / 233

चरक संहिता में कितने शुक्रदोष वर्णित है
Shukradosha explained in charaka samhita are

16 / 233

कृमि युक्त योनिव्यापद कौन सा है ?
Which Yonivyapada contains Krumi ?

17 / 233

सुश्रुत के अनुसार रसायन के अयोग्य व्यक्ति है -
According to Sushruta, person contraindicated for Rasāyana are -

18 / 233

श्वेत पिच्छिल आर्तव का स्राव करने वाली योनि होती है
Shveta pichchila menstrual discharge is found in which Yonivyāpada

19 / 233

अकाले वाहमानाया गर्भेण पिहितोsनिल' किसके लिए कहा गया है
"Akāle vāhmānāyā garbena pihito anila" has been said for

20 / 233

समश्र्नत्या रसान् सर्वान्दूषयित्वा - यह निम्न में से किस योनि व्यापद का निदान है ?
Samasrantyā Rasān sarwāndushyitwa is the lakshana of which

21 / 233

पलाशादि वर्ति है
Palāshādi varti is

22 / 233

यदि कफ द्वारा शुक्रदुष्टि हुई हो तो कौन सा रसायन प्रयोग उत्तम होता है
Best rasāyana to be advised in shukradushti due to kapha?

23 / 233

चरकसंहिता अनुसार, स्तनों पर "पञ्चकोल" और "कुलत्थ" का बाह्य लेप निम्नलिखित किस स्तन्यदुष्टि की चिकित्सा में निर्दिष्ट है ?
According to Charaka Samhitā, external application of "Panchakola" and "Kulattha" over breast is indicated for the management of which of the following type of Stanya Dushti ?

24 / 233

चरक अनुसार पिपासा रोग में औषध कब देनी चाहिए ?
According to Charaka, when should the medicine be given in Pipāsā roga ?

25 / 233

चरकमतानुसार पिप्पल्यादि योग का प्रयोग निम्न में से किस व्याधि मे होता है
Pippalyādi yoga is used in which of the following Vyādhi according to Charaka

26 / 233

रक्तमार्गावरोधन्यो - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Raktamārgāwarodhinyo is the lakshana of the following

27 / 233

स्तन्य में दौर्गन्धय दोष से बाल में उत्पन्न व्याधि है
Daurgandhya dosha in breast milk causes which disease in the child

28 / 233

गर्भिणी द्वारा छर्दि का वेग धारण करने से उत्पन्न योनिव्यापद है
Yonivyāpada due to vega dhārana of chardi by garbhinī is

29 / 233

चरक मतानुसार, निम्नलिखित में से कौनसा अनुपान योनि दोष में पुष्यानुग चूर्ण के साथ निर्दिष्ट है ?
Which one of the following Anupāna has been indicated for Pushyānuga Chūrna in Yoni dosha, by Charaka?

30 / 233

श्रोणिवंक्षणपृष्ठार्तिज्वरार्तायाः - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Shroni Vamkshana Prashthārtī Jwarārtāyā is which Yonivyāpada

31 / 233

चरक अनुसार , निम्न में से योनिव्यापद का कारण नहीं है -
According to Charaka, following is not a cause of Yonivyapada -

32 / 233

आचार्य चरक मतानुसार, निम्न में से कौन सी वातज योनिव्यापद नही है ?
Which of the following is not Vātaja yoni vyāpada according to Āchārya Charaka ?

33 / 233

उदान वायु की विकृति में औषध कब लेनी चाहिए ?
In udāna vāyu vikriti, when should the medicine be taken ?

34 / 233

परिप्लुता योनि के सन्दर्भ में असत्य है
What is not true in context of Pariplutā yoni

35 / 233

काश्मर्यकुटजक्वाथ सिद्ध घृत की उत्तरवस्ति का प्रयोग किस योनिव्यापद में करते हैं
In which yonivyāpada uttara vasti with kāshmaryakutajakvātha siddha ghrita is administered

36 / 233

परिप्लुता और वामिनी योनि व्यापद किस दोष के कारण होते है ?
Pariplutā and Vāminī yoni vyāpada are caused due to which dosha

37 / 233

सभी योनि व्यापदो में प्रथमतः किसकी चिकित्सा करनी चाहिए ?
Treatment of which of the following should be done primarily in all Yonivyāpada ?

38 / 233

सान्निपातिक असृग्दर में स्राव का वर्ण होता है -
Colour of discharge in Sānnipātika Asrugdara is -

39 / 233

चरकानुसार समान वायु की विकृति में औषध सेवन कब करना चाहिए
Aushadha kāla in samāna vāyu vikriti according to Charaka is

40 / 233

निम्न में से प्रदर का प्रकार नही है
Which of the following is not a types of pradara

41 / 233

चरकानुसार पुत्रघ्नी योनिव्यापद में वातप्रकोप वायु के किस गुण के प्राधान्य से होता है
Which guna of vāyu is responsible for Vāta prakopa in putraghnī Yonivyāpada according to Charaka?

42 / 233

उदावृत्ता फलयोनि में क्या चिकित्सा निर्दिष्ट है ?
Which treatment is indicated in Udāvruttā phalayoni ?

43 / 233

कौन सी योनि गर्भाशय में गए हुए शुक्र को सात दिनों में ही स्राव करा देती है।
Shukra srāva from yoni in 7 days results due to which Yonivyāpada

44 / 233

षण्डी योनि है
Shandi yoni is

45 / 233

स्तन्य में वैवर्ण्य दोष से बाल में उत्पन्न व्याधि है
Vaivarnya dosha in breast milk causes which disease in the child

46 / 233

श्यामादि औषधियों का कल्क निम्न में से किस योनि रोग में धारण करना चाहिए ?
Kalka of shyāmādi aushadhīs is used for which of the following yoni roga

47 / 233

चरकानुसार क्लैब्य के भेद कितने होते हैं
How many types of klaibya are there according to Charaka

48 / 233

नितान्तरक्तं स्त्रवती मुहुर्मुहुरस्स्थार्ति लक्षण है :-
"Nitāntaraktam stravatī muhumuhursasthārti" is the characteristic of -

49 / 233

Charak Chikitsha Chapter 30 YoniVyapad Cikitsha

50 / 233

आर्तवे सा विमुक्ते तु तत्क्षणम् लभते सुखं किस योनिव्यापद का लक्षण है
“Ārtave sā vimukte tu tatakshanama labhate sukhama” is symptom of which yoni vyāpada

51 / 233

राजादन और कपित्थ पत्र कल्क को घृत में भूनकर सेवन से नष्ट होता है
Rājādāna and kapittha patra kalka when cooked in ghrita cures

52 / 233

चरक संहिता अनुसार प्रदर के भेद
Types of pradara according to charaka

53 / 233

अधावनात् कण्डूं जाताः कुर्वन्ति जन्तवः - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Adhāvnāt Kandu jātāh kurwanti jantawāh is said for

54 / 233

सशब्दरुक्फेनतनुरूक्षार्तवाअ्निलात् - यह निम्न में से किस योनि से स्त्रवित आर्तव का लक्षण है ?
Sashabdarukfenatanurukshārtavāanilāt is the lakshana of which Yonivyāpada

55 / 233

असृग्दर चिकित्सा विधान किसके अनुसार करना चाहिए ?
Asrigadara Chikitsā vidhāna should be like

56 / 233

गुडूच्यादि तैल का प्रयोग किस योनि व्यापद में करना चाहिए ?
Guduchyādi taia should be used for which yoni vyāpada

57 / 233

सूची-I को सूची -II के साथ सुमेलित कर और नीचे दिये गए कूट का प्रयोग करते हुए सही उत्तर चुनिए - A) वातज 1. तुवरक B). पित्तज 2). धातकी . कफज 3).पंचवल्कल D). योनि दौर्गन्ध्य 4) श्यामा 5) हिंस्रा
Match list 1 with list 2 and choose the correctly matched option A) vātaja 1) tuvaraka B) pittaja 2) dhātakī kaphaja 3) panchvalkala D) yoni daurgandhya 4) shyāmā 5) hinsrā

58 / 233

सुप्तिमायास - यह निम्न में से किस योनि का लक्षण है ?
Suptimāyāsamia the lakshana of which yoni

59 / 233

चरकसंहिता का "रहस्य स्थान" है
Which unit

60 / 233

चरक के अनुसार प्रदर के प्रकार है -
Types of pradara roga according to Charaka

61 / 233

श्वेतपिच्छिलवाहिनी ' is Lakshana of which Yonivyapada
Swetapichchilavāhinī is the lakshana of

62 / 233

चरक अनुसार कफ़ावृत्त शुक्र दोष की चिकित्सा है ?
According to Charaka, treatment of Kaphāvrita Shukra dosha

63 / 233

सा रुगार्ता रजः कृच्छ्रेणोदावृत्तं विमुञ्चति - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Sā Rugārtā Rajah Krachchrenodāvrattam Vimunchati is said for the following

64 / 233

अपान वायु वैगुण्य में औषध दी जानी चाहिए -
Medicine in Apāna Vāyu Vaigunya should be given -

65 / 233

योनिमणुद्गर कौनसे योनिव्यापद का लक्षण है ?
"Yonimanudgara" is symptom of which Yoni Vyāpada

66 / 233

चरक संहिता में पुष्यानुग चूर्ण का सर्वप्रथम निर्देश किस व्याधि में किया गया है ?
Pushyānuga chūrna is indicated first in which disease from Samhitā Samhitā ?

67 / 233

छर्दि एवं श्वास के वेग धारण से उत्पन्न योनिव्यापद
Yonivyāpada due to holding the urges of chardi and shvāsa?

68 / 233

हंसपदीमूल कल्क का धारण करना चाहिए
Hamsapadīmūlakalka dhārana is indicated in

69 / 233

वाराहे बहुशः पित्ते भावितैर्लक्तकैः कृता " - यह किस रोग की चिकित्सा है ?
"Vārāhe bahushah pitte bhāvitailarkatkaih kritā " this is the treatment of which disease

70 / 233

करीरादि कवाथ से योनि प्रक्षालन से क्या लाभ होता है ?
What are the benefits of yoni Prakshālana with karīrādi kvātha

71 / 233

अत्यंत बाला के साथ मैथुन करने से उतपन्न योनिव्यापद है
Having Coitus with the younger girl leads to which Yonivyāpada

72 / 233

पञ्चमूल प्रलेप का निर्देश किसके लिए किया गया है ?
Panchamūla Pralepa is indicated for which of the following ?

73 / 233

पुष्यानुग चूर्ण का अनुपान है
Anupāna of pushyānuga chūrna

74 / 233

वात प्रधान योनि रोग मे निम्न मे से किसकी उत्तर बस्ति देनी चाहिए ?
Which of the following is preparation of uttar basti for Vata dominant yoni roga ?

75 / 233

चरक मतानुसार, 'किंशुकोदक संकाश स्त्राव" किस प्रदर का लक्षण है ?
According to Charaka, "Kinshukodaka Sankāsha Strāva" is present in which of the following Pradara ?

76 / 233

चरक अनुसार क्षयजन्य नपुंसकता होती है -
According to Charaka, Kshayajanya Napumsakatā is -

77 / 233

चरकानुसार प्रदर के भेद हैं
Types of pradara according to Charaka

78 / 233

उत्तर पश्चिम देश में रहने वाले व्यक्तियों को सात्म्य होता है
What is sātmaya to the people of north western countries

79 / 233

बालक द्वारा दुर्गन्धित दुग्ध का सेवन करने से उत्पन्न व्याधि है
What disease does a child suffer when he drinks foul smelling milk

80 / 233

गुडूच्यादि तैल का प्रयोग योनि व्यापद में किस प्रकार करना चाहिए ?
How is guduchyādi taila used for the treatment of yoni vyāpada

81 / 233

पंञ्चवल्कल का कल्क निम्न में से किस योनि रोग में धारण करना चाहिए ?
Kalka of panchvalkala is used for which of the following yoni roga

82 / 233

किस प्रकार के स्तन्य हेतु तक्रारिष्ट का प्रयोग निर्दिष्ट है
Takrārishta is advised in which type of stanya

83 / 233

नितान्तम् रक्तं स्त्रवति मुहुर्मुहूरथार्तिमान....किसका लक्षण है-
"Nitāntam raktam stravati muhurmuhūrathārtimāna ......" is the symptom of -

84 / 233

चरक अनुसार क्षयजन्य नपुंसकता की साध्यसाध्यता है -
Sādhyāsādhyātā of Kaphaja Napumsakatā

85 / 233

धात्री में सारिवादि लेप का प्रयोग किस क्षीर दुष्टि में करना चाहिए
External application with sārivādilepa in dhātri should be done in which kshira dushti

86 / 233

पाण्डुंं सतोदमास्त्रोवं श्र्वेतं स्त्रवति वा - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Pāndu satodamāstrāvam swetam stravati vā is

87 / 233

चरक मतानुसार, अरजस्का का लक्षण है -
The main symptom of Arajaska according to Charaka is -

88 / 233

किंशुकोदकसंकाश स्राव' किस प्रदर का लक्षण है
"Kimshukodaka samkāsha srāva" is the symptom of which pradara

89 / 233

अतिनरकांक्षिणी' योनिव्यापद है
"Atinarakāmkshini" Yonivyāpada is

90 / 233

क्षीर के किस दोष के निवारण हेतु तक्रारिष्ट का प्रयोग किया जाता है ?
For redressal of which dosha of Kshīra, Takrārishta is used ?

91 / 233

वात दूषित स्तन्य का स्वरूप होता है -
Characteristic of Vāta Dūshita Stanya is -

92 / 233

भृशोष्णकुणपस्त्रावा - यह निम्न में से किस योनि से स्त्रवित आर्तव का लक्षण है ?
Bhrusoshna Kudapastrāvā is the lakshana of which yoni

93 / 233

रक्तप्रदर की चिकित्सा में कौनसा एक योग अत्यधिक उपयोगी है ?
Which one of the following formulation is excessive useful in the treatment of raktapradara ?

94 / 233

पञ्चमूल प्रलेप का निर्देश किसके लिए किया गया है ?
Panchmūla Pralepa is advised for

95 / 233

पवनोअतिव्यवायेन शोफ़सुप्तिरूज: स्त्रिया: किस योनि का लक्षण है
“Pavano ativyavāyena shophasuptirujah striyāh” is the symptom of which yonivyāpada

96 / 233

अभयामलकीय रसायन का प्रयोग किस दोष से दूषित शुक्र में करना चाहिए
Abhyāmalakiya rasāyana is advisable in shukra dushti due to which dosha

97 / 233

पांडुपिच्छिलार्तववाहिनी is Lakshana of which Yonivyapada
Pāndupichchilārtavavāhinī

98 / 233

वर्तिस्तुल्या प्रदेशिन्या धार्या योनिविशोधनी - यह निम्न में से किस के लिए कहा गया है ?
"Vartistulyā pradeshinyā dhāryā yoni vishodhanī" this has been said for which of the following

99 / 233

पृष्ठकट्यूरुवंक्षणम् रुजन् - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Prashthakatyurūvamkshanam Rujan is the symptoms of

100 / 233

पूर्वी देश में रहने वाले व्यक्तियों को सात्म्य होता है
What is sātmaya to the people residing in eastern countries

101 / 233

चरक अनुसार सैन्धवादि तैल का प्रयोग किसमें निर्दिष्ट है ?
According to Charaka, Saindhvādi Taila is indicated in which of the following ?

102 / 233

किस योनिव्यापद में मांस व अस्थि में वेदना होती है ?
Vedanā in Māmsa and asthi is found in which Yonivyāpada

103 / 233

पिच्छिला विवृता कालदुष्टा योनिश्र्च दारुणा - इन सभी मे निम्न में से किस कल्पना का प्रयोग होता है ?
"Pichchilā vivritā kāladushtā yonishcha dārunā" which of the following preparation is used for the above mentioned

104 / 233

मांसोत्सन्ना .......पर्ववंक्षणशूलिनी कौन सा योनिव्यापद है
Māmsotsannā............parvavamkshanashūlinī is which Yonivyāpada

105 / 233

बृहत् शतावरी घृत की मात्रा है
Quantity of brihata shatāvari ghrita

106 / 233

निम्न में से चरकोक्त पुष्यानुग चूर्ण का घटक नही है
Which of the following is not a content of pushyānuga chūrna

107 / 233

स्तन्य में पित्त दोष से है
What does pitta causes in breast milk

108 / 233

उदुम्बरादि तैल प्रयोग से कालदुष्टा योनि कितने दिन मे शुद्ध हो जाती है ?
Kāladushtā yoni gets purified in how many days with the use of udumbarādi taila

109 / 233

श्वास कास में भैषज्य काल है
Bhaishajya kāla in kāsa shvāsa

110 / 233

शुक्रदोषनाशक योग कौन से हैं
Shukradoshanāshaka yoga are

111 / 233

चरक अनुसार कफावृत्त शुक्र दोष की चिकित्सा है -
According to Charaka, treatment of Kaphāvruta Shukra dosha is -

112 / 233

बालक में हृद्रोग किस प्रकार के दुग्ध सेवन से होता है
Hridroga in an infant is due to to which type of milk intake

113 / 233

ज्वर, योनिशोथ व स्पर्श असहिष्णुता किस योनिव्यापद के लक्षण है ?
Jwara, Yonishotha and Sparsha Asahishnutā are the symptom of which Yonivyāpada ?

114 / 233

चरक के अनुसार कास-श्‍वास किस प्रकार के दूषित स्‍तन्‍य पान से होता है?
According to Charaka, shvāsa kāsa occurs due to which dūshita stanya pāna

115 / 233

वक्रयत्याननं योन्यां किसका लक्षण है
"Vakrayatyănanam yonyām" is the symptom of

116 / 233

कर्णिनी योनिव्यापद चरक मतानुसार किसकी विकृति के कारण होता है ?
According to Charaka, Karninī yonivyāpada is caused to due vikriti of ?

117 / 233

अंसवृतमुखी साती रुक्षफेनास्त्रवाहिनी - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Asamvrata Mukhi Sātī Rukhshafenāstravāhinī is the lakshana of which Yonivyāpada

118 / 233

किस योनिव्यापद में योनि में कृमि की उत्पत्ति मानी गयी है।

119 / 233

किंशुकोदक संकाश स्राव किस प्रदर का लक्षण है
Kimshukodaka samkāsha is the symptom of which pradara

120 / 233

चरक चिकित्सा 30 अध्याय का नाम क्या है
What is the name of 30th chapter of Charaka Chikitsā?

121 / 233

चरकोक्त पुष्यानुग चूर्ण का अनुपान है
According to Charaka anupāna of pushyānuga chūrna

122 / 233

चरक अनुसार योनिव्यापद के प्रकार है -
According to Charaka types of Yonivyapada are

123 / 233

चरक अनुसार, "मृग, अजा, आवि, वराह का रक्त और दधि, अम्ल, क्षौद्र, सर्पि का प्रयोग किस रोग में करते है ?
According to Charaka, blood of Mruga, Ajā, Āvi, Varāha and Dadhi, Amla, Kshaudra, Sarpi is used in which disease ?

124 / 233

निम्न में से कौन से दूषित स्तन्यपान से शिशु स्विन्न अतितृष्णा और अतिसार से ग्रस्त हो जाता है ?
Which of the following contaminated lactation causes the infant to suffer from svinna, atitrishnā and atisāra?

125 / 233

पुरुष से द्वेष करने वाली अस्तनी स्त्री योनि से उत्पन्न होती है
Astanī strī who dislikes men gives birth to

126 / 233

चरक मतानुसार, किस योनिव्यापद में योनि में कृमि की उत्पत्ति मानी गई है ?
Krimi utapatti is mentioned in which Yonivyāpada according to Charaka ?

127 / 233

असाध्य प्रदर का लक्षण है
Symptom of asādhya pradara

128 / 233

निम्न में से पित्तज योनि व्यापद कौन से है ?
Which of the following is pittaja yoni vyāpada

129 / 233

क्षीर......पीत्वा बालो हृद्रोगमृच्छति।
Kshīra.......pītvā bālo hridarogamrichchsti. Fill in the blanks

130 / 233

पित्त प्रधान योनि रोग मे निम्न मे से किसकी उत्तर बस्ति देनी चाहिए ?
Which of the following is preparation of uttar basti for pitta pradhāna yoni roga

131 / 233

पृष्ठकटि उरूवंक्षण वेदना किस योनिव्यापद का विशिष्ट लक्षण है ?
"Prushtakati Urūvankshana Vedanā" is the specific symptom of which Yonivyāpada ?

132 / 233

शुक्रदोषो में विशेष रूप से हितकर है
What is specially beneficial in Shukradosha

133 / 233

कासीस त्रिफला कांक्षी का प्रयोग करने से नष्ट होती है
Use of Kāsīsa triphala kamkshi cures

134 / 233

पलाशादि चूर्ण का प्रयोग किस योनि की चिकित्सार्थ निर्दिष्ट है ?
Use of "Palāshādi Chūrna" is Indicated for the treatment of which Yoni ?

135 / 233

अतिप्रवर्तते योन्यां लब्धे गर्भेअ्पि - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Atipravartate yonyām Labdhe Garbheapi is the symptoms of

136 / 233

चरकानुसार उदुम्बरादि तैल का प्रयोग किसमे निर्दिष्ट है ?
Udumbarādi taila is advised by Charaka in which of the following

137 / 233

चरकानुसार, समानवात विकृति में उपयुक्त भैषज्यकाल कौनसा है ?
According to Charaka, which is the appropriate Bhaishjya Kala for "Samāna Vāta Vikruti" ?

138 / 233

चरक अनुसार कर्णिनि योनिव्यापद में कौनसा दोष होता है
Which disharmony is involved in karnini Yonivyāpada according to Charaka?

139 / 233

कफज योनिव्यापद में किस विशेष वर्ति को योनि में बार बार धारण करने का निर्देश किया गया है ?
Which vishesh varti has been asked to put in yoni in kaphaja Yonivyāpada?

140 / 233

स्तन्यविकारों में "वैरस्यम् फेनसंघातो" लक्षण किस दोष की प्रधानता से होता है
Among stanyavikārā, the symptom "vairasyama phenasamghato" is due to which dosha pradhānatā

141 / 233

व्यवायमतितृप्ताया is Nidaana of which Yonivyapada
Vyavāyamatitraptāyā is the nidāna of which Yonivyāpada

142 / 233

निम्न में से वात - कफज योनि व्यापद कौन से है ?
Which of the following are Vāta kaphaja yoni vyāpada

143 / 233

अक्तां लेवणतैलेन साश्मप्रस्तरसंकरै :' किस व्याधि का चिकित्सा सूत्र है?
"Aktām lavanatailena sāshmaprastarasankaraih" is the chikitsā sūtra of which disease ?

144 / 233

चरकानुसार वातज योनिव्यापद की संख्या कितनी है
Number of Vātaja Yonivyāpada according to Charaka

145 / 233

काश्मर्यकुटजक्वाथ सिद्ध घृत की उत्तरवस्ति का प्रयोग किस योनिव्यापद में करते हैं
In which yonivyāpada uttara vasti with kāshmaryakutajakvātha siddha ghrita is administered

146 / 233

बालकों में क्षामस्वर स्तन्य के किस दोष से दूषित होने पर होता है ?
Kshāma svara in infants is due to which stanya dosha

147 / 233

चरक अनुसार उदुम्बारादि तैल का प्रयोग किसमें निर्दिष्ट है ?
According to Charaka, use of Udumbarādi taila is indicated in which of the following ?

148 / 233

ध्वजभंग होता है
Dhvajabhamga is

149 / 233

धात्री को मुलेठी,मुनक्का,सिन्दुवार सिद्ध दुग्ध पान किस स्तन्यदुष्टि में देना चाहिये
Mulethi, munakka, sindhuvāra siddha dugdha pāna should be given to dhātri in which stanyadushti

150 / 233

अपान वायु वैगुण्य में औषध दी जानी चाहिए
Medicine that should be advised in apāna vāyu vaigunya

151 / 233

आचार्य चरक अनुसार ,किस योनिव्यापद में योनियों में कृमियों की उपस्थिति मानी गयी है ?
In which Yonivyāpada, presence of worms is considered !

152 / 233

गुडूच्यादि तैल का प्रयोग किस योनिव्यापद की चिकित्सार्थ निर्दिष्ट है -
Use of Gudūchyādi Taila is indicated for treatment of which Yonivyāpada ?

153 / 233

पुष्यानुग चूर्ण में कौन सा अंजन प्रयुक्त होता है
Amjana used in pushyānuga chūrna is

154 / 233

अस्तनी किस योनि का लक्षण है
"Astani" is symptom of which yoni

155 / 233

अपान वायु की विगुणता में औषध काल है
Aushadhakala in vigunta of apāna vāyu

156 / 233

स्तन्य में 'फेनसंघात' दोष से बालक में उत्पन्न व्याधि है
"Phenasamghāta" in breast milk causes which disease in the child

157 / 233

व्यवायकाले रुन्धन्त्या वेगान् प्रकुपितोsनिल:' किस योनिव्यापद से सम्बंधित है
"Vyavāyakāle rundhantayā vegāna prakupiteanilah" is related to which Yonivyāpada

158 / 233

कम आयु वर्ग की लड़की के साथ सहवास करने से होता है -
The coitus with a low age group girl leads to -

159 / 233

स्तन्य में विरस दोष से बाल में उत्पन्न व्याधि है
Virasa dosha in breast milk causes which disease in the bāla

160 / 233

समान वायु वैगुण्य में औषध सेवन ..... काल में करवाना चाहिए | -
Aushadha Sevana Kāla in Samāna Vāyu Vaigunya will be........

161 / 233

वातज प्रदर की चिकित्सा में प्रयुक्त वसा है
Vasā used in treatment of Vātaja pradara?

162 / 233

बृहत् शतावरी घृत निर्माण में निम्न में से किस वर्ग का प्रयोग किया जाता है ?
Which of the following varga is used in.preparation of brihata Shatāvari ghrita

163 / 233

चरकानुसार योनिव्यापद कितने हैं
Number of yonivyāpada according to charaka

164 / 233

वातपित्तकृतान् रोगान हत्वा गर्भं दधाति तत् किस तैल की फलश्रुति है
"Vātapitta kritāna rogāna hatvā garbham dadhati the tata" is phalashuti of which oil

165 / 233

कार्श्यवैवर्ण्यजननी भृशम् किस योनि का लक्षण है
"KārshyaVaivarnyaJanani bhrishama" is the symptom of which yoni

166 / 233

पृष्ठकटि उरूवंक्षणवेदना किस योनिव्यापद का विशिष्ट लक्षण है ?
"Prushthakati Urūvankshanavedanā" is the symptom of which Yonivyāpada ?

167 / 233

मातृदोषादणुद्वारां " - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Mātradoshāt Anu Dwāram is

168 / 233

कुर्याद्विण्मूत्रसङ्गार्ति - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Kuryādvitmūtrasamgārti is the Lakshana of which Yonivyāpada

169 / 233

ध्वजभंगजन्य क्लैब्य में कौन सी चिकित्सा प्रशस्त मानी गयी है
Best treatment in dhvajabhamgajanya klaibya is

170 / 233

सेन्धवादि तैल के प्रयोग से मुख्यतः क्या नष्ट होता है ?
Saindhavādi taila mainly pacifies

171 / 233

चरक संहिता के अनुसार 'सर्पिमज्जावसोपमम् ' स्राव यह किस व्याधि का लक्षण है?
According to Charaka Samhitā , "Sarpimajjāvasopamam" strāva is the symptom of which disease ?

172 / 233

क्षीर के किस दोष के निवारण हेतु तक्रारिष्ट का प्रयोग किया जाता है ?
Takrārishta is used to cure which Kshīra dosha

173 / 233

बला तैल निर्माण में स्नेहपाक मे स्नेह से कितने गुणा दुग्ध का प्रयोग होता है ?
While making Balā Taila for Snehapāka, how many times milk is used than Sneha

174 / 233

चरकानुसार एंव सुश्रुतानुसार योनिव्यापद की संख्या है?
Types of Yonivyāpada according to Charaka and Sushruta?

175 / 233

हिक्का मे किस औषध सेवन काल मे औषध दी जाती है
Aushadha sevana kāla in hikkā

176 / 233

रक्तस्थापन औषधि का प्रयोग निम्न मे से किस अवस्था में करना चाहिए ?
Rakta sthāpana aushadhi should be used in which of the following avasthā

177 / 233

शिशु द्वारा अतिस्निग्ध दुग्ध पान से उतपन्न व्याधि है
Disease in an infant if he drinks atisnigdha dugdha

178 / 233

किंशुकोदक संकाशं is Lakshana of
Kinshukodaka Samkāsham is the lakshana of

179 / 233

पित द्वारा शुक्र के दूषित होने पर प्रयुक्त चिकित्सा है।

180 / 233

मातृ दोष के कारण उत्पन्न योनिव्यापद है
Yonivyāpada due to mātridosha

181 / 233

चरक ने किस योनि रोग में जीवनीय गण सिद्ध तैल की अनुवासन बस्ति का उल्लेख किया है
In which yoni roga anuvāsana vasti is administered with jīvanīya gana siddha taila as per Charaka

182 / 233

बीजदोषात्तु गर्भस्थमारुतोपहताशया - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Bējadoshāttu Garbhastha Mārutophatāshayā is the lakshana of which Yonivyāpada

183 / 233

चरक अनुसार स्तन्य दोष के प्रकार है -
Types of Stanya dosha by Charaka -

184 / 233

योन्यामधावनात् किस योनिव्यापद का निदान है
“Yonyāmdhāvanāta” is the cause of which yonivyāpada

185 / 233

निम्न में बीज दोषज व्याधि कौन सी है ?
Which of the following is bīja doshaja vyādhi?

186 / 233

. 'अतिनरकांक्षिणी ' यह किस योनिरोग का लक्षण है?
"Atinarakānkshinī" is the symptom of which yoni roga ?

187 / 233

काश्मर्यादि घृत का प्रयोग किस योनि व्यापद मे होता है ?
Kāshmaryādi ghrita is used in which yoni vyāpada

188 / 233

नीलपीतासितार्तवा - यह निम्न में से किस योनि से स्त्रवित आर्तव का लक्षण है ?
Nēlapētāsitārtavā is the lakshana of which of the following

189 / 233

अतिप्रवर्तते योन्यां लब्धे गर्भेअ्पि - निम्न मे से किस योनि व्यापद का लक्षण है ?
Atipravartate yonyām Labdhe Garbheapi is the symptoms of

190 / 233

प्रसवकाल या आवी के अनुपस्थित होने पर प्रवाहण करने से कौनसा योनिव्यापद हो सकता है
In the absence of prasavakāla if a women tries to push the fetus out, the Yonivyāpada caused is

191 / 233

मृदुभिः पञ्चभिर्नारीं स्निग्धस्विन्नामुपाचरेद् - निम्न मे से किस की चिकित्सा है ?
"Mridubhih panchbhirnārīm snigdha svinnāmupāchared" this is the treatment of which of the following

192 / 233

सिन्धुवासियों के लिए कौनसी वस्तु सात्म्य है
What is sātmaya to simdhu vāsi

193 / 233

व्यवाय काल में वेगधारण से उत्पन्न योनिव्यापद है
Holding the urge during vyavāya kāla causes which Yonivyāpada

194 / 233

चरकानुसार वामिनी में दोष प्राधान्य है
According to charaka, dosha pradhānya in vāminī

195 / 233

पाण्डुवर्णा' किस योनिव्यापद का लक्षण है -
Pāndu varnā is the symptom of which yonivyāpada