Skip to content
Home » Charak Chikitsha Chapter 8 Rajyakshma Chikitsha

Charak Chikitsha Chapter 8 Rajyakshma Chikitsha

0%
0 votes, 0 avg
78

Charak Chikitsha Chapter 8 Rajyakshma Chikitsha

1 / 87

स्त्रोत्सां सन्निरोधाच्च रक्तादिनां च संक्षयात् किस व्याधि से सम्बंधित है ?
"Strotasam sannirodhaccha raktadinam ch sankshyat" is related to which disease ?

2 / 87

जलाशयानां शैलानां वनानां ज्योतिषामपि। यह किस व्याधि का पुर्वरूप है
"Jalāshayānām shailānām vanānām jyotishāmapi" is premonitory symptom of which disease

3 / 87

कंठोध्वन्स किस राजयक्ष्मा का लक्षण है
Kamthodhvansa is the symptom of which type of Rājayakshmā

4 / 87

तालिशादि चूर्ण गुटीका मे वंशलोचन का प्रमाण
Quantity of Vamshalochana in tālīshādādi chūrna gutikā is

5 / 87

अंसपार्श्व अभितापश्च सन्ताप: करपादयो: ज्वर: सर्वांगश्च किस व्याधि का सामान्य लक्षण है
"Amsapārshava abhitāpashcha santāpah karapādayoh jvarah sarvămgashch" is the symptom of which disease

6 / 87

तालीशादि चूर्ण में यदि पिप्पली का प्रयुक्त प्रमाण 4 तोला है तो मरिच कितने प्रमाण में प्रयुक्त होनी चाहिए
In tālīshādi chūrna if the quantity of pippalī is 4 tolā then what should be the quantity of marich

7 / 87

राजयक्ष्मा के रोगी के लिए पथ्य दुग्ध है
Pathya dugdha for a patient of Rājayakshmā

8 / 87

पीनसजन्य स्वरभेद में किस दोष से होने वाले लक्षण पाये जाते है ?
In peenas swarabheda, symptoms resembles similar to which dosha ?

9 / 87

स्त्रीमद्यमांसप्रियता प्रियता चावगुण्ठने किस व्याधि का पूर्वरूप है
"Strīmadhyamāmsaprīyatā priyatā chāvagunthane" is Pūrvarūpa of which vyādhi

10 / 87

यवानी षाडव चूर्ण निर्माण में प्रयुक्त यवानी का प्रमाण है
What is the Quantity of yavānī in the formation of yavāni shādava chūrna

11 / 87

अयथाबलारम्भ' किसका निदान है
"Ayathābalārambha" is the cause of

12 / 87

धात्वाग्नि मन्द से होता/होती है ?
Manda dhātvāgni causes -

13 / 87

आचार्य चरक ने स्वरभेद के कितने कारणों का उल्लेख किया है ?
Number of causes of Svarabheda mentioned by charaka are

14 / 87

तालीशादि चूर्ण में पिप्पली एवं शर्करा का अनुपात है -
Ratio of pippali and sharkara in talisadi churna is -

15 / 87

एकादश रूप यक्ष्मा नाशक योग है
Ekādasha rupa yakshma nāshaka yoga is

16 / 87

निम्न में से कौन सा लक्षण त्रिरूप राजयक्ष्मा के अंतर्गत नहीं आता है ?
Which of the following symptom is not among trirupa Rājayakshmā

17 / 87

सप्तक बल का वर्णन किस व्याधि के सन्दर्भ में आया है
Saptaka bala is explained under which disease

18 / 87

निम्न में से किस व्याधि से पीड़ित रुग्ण को उसके खाने में मक्खियाँ केश आदि पड़ जाने का आभास होता है ?
A patient suffering from which of the following disease feels as if flies and hair have fallen in his food and drinks?

19 / 87

सभी प्रकार के राजयक्ष्मा ........ दोष प्रबल होते है ।
All types of rajayakshma are .......... dosh predominant .

20 / 87

राजयक्ष्मा के पर्याय है -
Synonyms of rajyakshma are -

21 / 87

चरक संहिता के राजयक्ष्मा चिकित्सा अध्याय में किस स्वरभेद को नहीं माना है ?
Which type of Svarabheda charaka did not mentioned in Rājayakshmā Chikitsā adhyāya ?

22 / 87

राजयक्ष्मा में कास का स्वरूप है -
Characteristic of kaas in rajayakshma is -

23 / 87

दो काल दन्त धावन करना किसकी चिकित्सा बताई गई है

24 / 87

यक्ष्मा के मुख्य कारण है -
Main causes of yakshma are -

25 / 87

यक्ष्मा रोग से पीड़ित रोगी के हाथ पैर में दाह होने पर प्रयुक्त योग है
What should be advised to a patient of Rājayakshmā with burning in hands and feet

26 / 87

शयुष्यतां क्षीयमाणानां पततां यच्च दर्शनं किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"Shayushyatam kshiyamananam patatam yaccha darshanam" is the purvaroop of which disease ?

27 / 87

अन्त्यादुर्ध्वं द्विगुणितं लेहयेन्मधुसर्पिषां किसके सन्दर्भ में आया है
"Atyantādürdhavam dvigunitam lehyenmadhusarpishām" has been said in context of

28 / 87

यवानीषाडव चूर्ण निर्माण में प्रयुक्त मरिच की संख्या कितनी है
Quantity of maricha in formation of yavāni shādava chūrna

29 / 87

स्नेह स्वेदोपन्नानां सस्वेदं यन्न कर्शनं। किस व्याधि का चिकित्सा सूत्र है ?
"Sneha svedopannānam sasvedanam yanna karshanam" is chikitsā sutra of which vyādhi

30 / 87

लघुपंचमूल से सिद्ध जल का पान किस व्याधि में करना चाहिए ?
Laghupanchmūla siddha jala should be consumed in which vyādhi

31 / 87

राजयक्ष्मा के सप्तबल का नाश किस घृत के द्वारा होता है
Which ghrita pacifies saptabala of Rājayakshmā

32 / 87

साहस, वेगधारण, क्षय, विषमाशन हेतु है -
Saahas, Vegadharan, Kshaya, Vishamashana are causes of -

33 / 87

राजयक्ष्मा में निदान की संख्या है
Nidāna for Rājyakshamā are

34 / 87

अन्नपान में मक्षिका,केश,घुन का गिरना किस व्याधि का पूर्वरूप है
Falling of flies, hair and insects in food and drinks is premonitory symptom of which disease

35 / 87

किस व्याधि में पुरीष का संरक्षण करना चाहिए
In which disease purīsha samrakshana should be done

36 / 87

यवानी षाडव चूर्ण है
Yavānī shādava chūrna is

37 / 87

राजयक्ष्मा में किस व्याधि समान पथ्य पालन करना चाहिए ?
In rajayakshma, similar pathya should be followed as that of which disease ?

38 / 87

यवानी षाडव चूर्ण का घटक द्रव्य
Content of Yavānī Shādava chūrna is

39 / 87

किस व्याधि को "प्राणक्षयप्रदः" कहा जाता है ?
Which disease is known as "pranakshayaprada" ?

40 / 87

सप्त बल का वर्णन किस व्याधि में आया है
Sapta bala has been explained in which disease

41 / 87

कृच्छ्रात्प्रवर्तते' किस स्वरभेद का लक्षण है ?
"Kruchchratpravartate" is the symptom of which swarabheda ?

42 / 87

यवानी षाडव चूर्ण में प्रयुक्त मरिच की संख्या कितनी है
Quantity of maricha in yavāni shādava chūrna is

43 / 87

एतत् व्याधिसमूहस्य रोगेशस्य समुत्थितम्। रुपमेकादशविधम् सर्पिरग्र्यम् व्यपोहति किस घृत के सन्दर्भ में कहा गया है
"Etata vyādhisamūhasya rogeshasya samuthitama. RūpamaEkādashavidhama sarpiragrayam vyapohati" has been said in the context of which ghrita

44 / 87

पुरीष रक्षा किस व्याधि में महत्वपूर्ण है ?
Purisha raksha is important in which disease

45 / 87

चरक अनुसार कौनसा लक्षण षडरूप यक्षमा में सम्मिलित नहीं है ?
Which of the following lakshana is not included in Shadarūpa yakshmā according to Charaka

46 / 87

राजयक्ष्मा के एकादश रूप में नहीं है
Which of the following is not under ekādasha yakshmā rupa

47 / 87

यक्ष्मा में पथ्य है
Pathya in yakshmā is

48 / 87

निम्न मे से षडरूप राजयक्ष्मा का रूप नही है।

49 / 87

स्त्रोत्सा च यथास्वेन ......... पुष्यति धातुतः
"Strotasa ch yathaswena ......... pushyati dhatutah"

50 / 87

स्वप्ने केशास्थिराशीनां भस्मनश्चाधिरोहणम् किस व्याधि का पुर्वरूप है
"Svapne keshāsthirānām bhasmanshchādhirohanam" is premonitory symptom of which disease

51 / 87

चरकोक्त यवानीषाडव चूर्ण निर्माण में पिप्पली व् मरिच की क्रमशः संख्या है
What is the number of pippalī and maricha respectively in yavānīshādava chūrna mentioned by charaka

52 / 87

चरक संहिता के अनुसार, सितोपलादि चूर्ण का वर्णन निम्नलिखित अध्यायरोगाधिकार ) में मिलता है ?
According to Charaka Samhitā, Sitopalādi chūrna is mentioned in which of the following Chikitsā adhyāya rogādhikāra ) ?

53 / 87

चरक अनुसार षड् रूप राजयक्ष्मा में नहीं है
Which of the following is not in shadarūpa yakshmā

54 / 87

स्वप्ने केशास्थिराशीनां भस्मनश्चाधिरोहणम् - किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"Svapne keshāsthirāshīnām bhasmanashchādhikarohanam" is the pūrvarūpa of which disease ?

55 / 87

षडरूप व एकादश राजयक्ष्मा में समान लक्षण है -
Common symptoms in shadaroop and ekadash rajayakshma are -

56 / 87

मन्दो विबद्धश्च स्वर: खुरखुरायते किस स्वरभेद का लक्षण है ?
"Mando vibadhhashch swara khurakhurayate" is symptom of which swarabheda ?

57 / 87

चरक मतानुसार, निम्नांकित किस व्याधि में "आवस्थिक चिकित्सा" बताई गई है ?
According to Charaka, "Āvasthika Chikitsā" is mentioned in context to which of the following disease ?

58 / 87

राजयक्ष्मा में घृतपान का काल है -
Time of ghrutapan in rajayakshma is -

59 / 87

जीवन्त्यादि घृत दिया जाता है
Jīvantyādi ghrita is advised in

60 / 87

पित्तज अरूचि में मुख किस रस से युक्त होता है ?
In pittaj arochi, mukha contains which rasa ?

61 / 87

चरक मतानुसार सितोपलादि चूर्ण का रोगाधिकार है ?
According to Charaka, rogādhikāra of Sitopalādi Chūrna is -

62 / 87

राजयक्ष्मा में निर्दिष्ट पेय है -
Peya indicated in rajayakshma is -

63 / 87

चरकानुसार तालिशादि चूर्ण का रोगाधिकार है
Rogādhikāra of tālīshādi chūrna

64 / 87

रसः स्रोतः सु रुद्धेषु स्वस्थानस्थो विदहृयते। किस व्याधि की सम्प्राप्ति है ?
"Rasah srotah su ruddheshu svasthānastho vidahriyate" is samprāpati of which vyādhi

65 / 87

खर्जूरादि घृत किस व्याधि का नाश करता है
Kharjūrādi ghrita cures which disease

66 / 87

यक्ष्मा मे दोष संधि मे जाकर कौनसे लक्षण उत्पन्न करते है
Which symptoms appear in Dosha samdhi in yakshmā

67 / 87

आचार्य चरक के अनुसार शोष मे किस गति से क्षय होता है?
Acc. to Acharya charak In shosha Kshaya happens by which gati ?

68 / 87

चरकानुसार कफ तथा पित प्रधान यक्ष्मा में किसका मांस देना चाहिये
Which māmsa is given in kapha and pitta pradhāna yakshmā according to charaka

69 / 87

स्वरभेद का 'कासवेगज भेद' किस आचार्य ने दिया है ?
"Kāsavegaja bheda" of svarabheda is given by which Āchārya

70 / 87

षडरूप राजयक्ष्मा में सम्मिलित लक्षण नहीं है -
Following symptom is not included in Shadrūpa Rājayakshmā -

71 / 87

तालीशादि चूर्ण में तालीशपत्र यदि 1 तोला लेते हैं तो पिप्पली का कितना प्रमाण होना चाहिए
What should be the quantity of pippalī if tālīsha patra is 1 tolā in tālīshādi chūrna

72 / 87

चरकानुसार यक्ष्मा के षडरूप में से कौन सा रूप नही है
Which of the following is not a symptom of shadarupa yakshmā as per Charaka

73 / 87

सितोपलादि में घटक द्रव्यों का अनुपात क्रम से माना गया है सितोपला से शुरू करके त्वक तक) -
Ratio of ingredients in Sitopalādi is mentioned as -Starting from Sitopalādi upto Tvaka ) -

74 / 87

निम्न में से अपेक्षाकृत लघुत्तर है
Which of the following is laghuttara

75 / 87

बलं तस्य हि विडबलम् यह किसव्याधि के सन्दर्भ में है
"Balam tasya hi vidabalam" this has been said in context of

76 / 87

क्रोधो निश्वासरूपेण मूर्तिमान् निसृतो मुखात् किस व्याधि की उत्पत्ति में आया है
"Krodho nishvāsarūpena mūrtimāna nisrito mukhāta" has come in context of which vyādhi utapatti

77 / 87

अंसावमर्द किस प्रकार के यक्ष्मा का लक्षण है ?
Angaavamard is the symptom of which type of yakshma ?

78 / 87

तालीशादि चूर्ण में यदि तालीशपत्र का प्रमाण 1 तोला है तो शुंठी की मात्रा कितनी होगी
What is the quantity of Shunthī if the quantity of tālīshpatra is 1 tolā in tālishādi chūrna

79 / 87

एकादश रूप राजयक्ष्मा का नाश करता है
What pacifies the Ekādasha rupa Rājayakshmā

80 / 87

सितोपलादि चूर्ण का अनुपान है -
Anupan of Sitopaladi churna is -

81 / 87

निम्न में से पञ्चपंचमूलघृत का द्रव्य नही है।
Which of the following is not a content of panchpanchmūla ghrita

82 / 87

राजयक्ष्मा में निर्दिष्ट आहार है -
Aahar indicated in rajayakshma is -

83 / 87

क्रोधो निश्वासरूपेण मूर्तिमान् निसृतो मुखात् यह सन्दर्भ किस व्याधि की उत्पत्ति के सन्दर्भ में आया है
"Krodho nishvāsarupena mūrtimāna nisrito mukhāta" this has been said in the context of origin of which disease

84 / 87

वारुणी नामक मद्य का प्रयोग किस व्याधि में किया जाता है
Vārunī madhya is used in which disease

85 / 87

सितोपलादि चूर्ण में यदि दालचीनी 1 तोला की मात्रा में प्रयुक्त है तो वंशलोचन का प्रमाण होना चाहिए
In Sitopalādi chūrna if the quantity of dālachīnī is 1 tola then the quantity of vamshalochana wil be

86 / 87

वारुणी मद्य का सेवन करने वाले को नही होता है
The one who drinks vārunī madhya does not suffer from

87 / 87

जुगुप्सा चिकित्सा का वर्णन किस व्याधि में किया गया है ?
Jugupsa chikitsa is described in which disease ?

Your score is

The average score is 71%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

1 thought on “Charak Chikitsha Chapter 8 Rajyakshma Chikitsha”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *