Skip to content
Home » Charak Chikitsha Chapter 9 Unmad Chikitsha

Charak Chikitsha Chapter 9 Unmad Chikitsha

0%
0 votes, 0 avg
79

Charak Chikitsha Chapter 9 Unmad Chikitsha

1 / 78

कितने वर्ष के बाद घृत लाक्षा रस के समान हो जाता है
After how many years does ghrita becomes like lākshā rasa

2 / 78

उन्माद में शोधन के पश्चात् आचार विभ्रंश होने पर क्या चिकित्सा करनी चाहिए ?
In Unmāda on having āchāra vibhransa, after shodhana which treatment should be done

3 / 78

निम्न में से ग्रहावेश का हेतु है -
Of the following, cause of grahavesh is -

4 / 78

रहस्यभाषिणम् लक्षण है
“Rahasyabhāshinam” is the symptom of

5 / 78

उन्मादे वातजे पूर्वं ......... विशेषवित्
Unmaade vaataje purvam........ visheshavit"

6 / 78

अमर्षसंरम्भविनग्नभावा: किसका लक्षण है
“Amarehasarambhavinagna bhāvā” is the symptom of

7 / 78

उन्माद रोग की सम्प्राप्ति में कौन सा स्त्रोतस दुष्ट होता है
Srotasa dushti in samprāpti of Unmāda roga

8 / 78

परस्पर प्रतिद्वन्द्व चिकित्सा का उल्लेख है
Paraspara pratidvandva treatment is explained for

9 / 78

प्रतिद्वन्द चिकित्सा की जाती है
Pratidvanda chikitsā is done in

10 / 78

सिद्धार्थकादि अगद किस व्याधि की चिकित्सा में प्रयुक्त किया जाता है ?
Siddharthakadi agad is used in the treatment of which disease ?

11 / 78

बुद्धिस्मृतिकरं चैव बालानां चाङ्गवर्धनम् किस घृत के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Buddhismrutikaram chaiva balanam ch angavardhanam"

12 / 78

नारीविविक्तप्रियताSतिनिद्रा' किस उन्माद का लक्षण है
“NāriviviktapriyatāAtinidrā” symptom of which unmāda

13 / 78

निम्न में से कौनसा योग उन्माद में वर्णित नहीं है ?
Which of the following yog is not mentioned in unmada ?

14 / 78

चरक अनुसार निम्न में से किस एक प्रकार के उन्माद रोग में रोगी असमय में नाचता, गाता और हँसता है ?
According to Charaka, which of the following Unmāda patient sings, dances and laughs at irregular times

15 / 78

लशुनाद्य घृत के सन्दर्भ में असत्य कथन है -
Incorrect statement in relation to lashunadya ghrut is -

16 / 78

निम्न में से पुराण घृत में कौनसा रस होता है ?
Which of the following rasa is present in prapuran ghrut ?

17 / 78

विरुद्धदुष्टाशुचिभोजनानि प्रघर्षणम् देवगुरुद्विजानाम किस व्याधि का विशिष्ट निदान है
“ViruddhaDushtaAshuchiBhojanāni pragharshanam devagurudvijānam”is vishishta nidāna of

18 / 78

चक्रपाणि मतानुसार मनोवह स्त्रोतस का मूल है
Mūla of manovaha srotasa according to chakrapāni

19 / 78

किस उन्माद में ताडनादी कर्म निषेध है ?
Tādanādi karma is contraindicated in which vyādhi

20 / 78

चरक संहिता मे कितने भूतोन्माद बताये है
Number of bhutonmāda in charaka samhita

21 / 78

उन्माद कालो अनियतश्च यस्य किस उन्माद का विशिष्ट लक्षण है ?
"Unmāda kālo aniyatashcha yasya" is the specific symptom of which Unmāda ?

22 / 78

बस्त मूत्र नस्य का प्रयोग किस व्याधि में किया जाता है
Bastya mūtra nasya should be used in which disease

23 / 78

रूद्र पूजा का निर्देश किस व्याधि की चिकित्सा में किया गया है ?

24 / 78

लशुनाद्य घृत का प्रयोग किया जाता है
Lashunādhya ghrita is used in

25 / 78

चरक मतानुसार, शंखकेशांत सन्धि स्थित सिरा का वेधन करना चाहिए ?
According to Charaka, Shamkha keshanta samdhi sthita sirāvedhana is done in ?

26 / 78

लाक्षारसनिभं शीतं किस घृत के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Laksharasanibham shitam" is said with reference to which ghrut ?

27 / 78

बलं च भुङक्ते किस उन्माद का लक्षण है
“Balam cha bhumkate” is symptom of which unmāda

28 / 78

महाकल्याणक घृत में कुल द्रव्यों की संख्या कितनी है ?
How many total dravyas are there in mahakalyanak ghrut ?

29 / 78

चरक के अनुसार उन्माद के कितने भेद होते हैं
According to charaka, how many types of unmāda are there

30 / 78

चरकानुसार उन्माद के भेद है
Types of unmāda according to Charaka

31 / 78

प्रतिद्वन्द चिकित्सा में कामज उन्माद किस प्रकार शांत किया जा सकता है
How can kāmaja unmāda be be pacified due to pratidvanda chikitsā

32 / 78

चरक अनुसार पुंसवन क्रिया में श्रेष्ठ घृत है -
According to Charak, most preferred ghrut for punsavan kriya is -

33 / 78

प्रतिद्वन्द्व चिकित्सा किसमें की जाती है
Pratidvandva chikitsā is done in

34 / 78

चरक अनुसार विगत उन्माद का लक्षण है -
According to Charak, symptoms of vigat unmaad are -

35 / 78

आयुर्वेद के आठ अंगों में से भूतविद्या का वर्णन चरक में कहाँ पर उपलब्ध है
Where is Bhūta Vidhyā among Ashtāmga of Āyurveda explained in Charaka

36 / 78

महाकल्याणक घृत विशेष रूप से किसका नाश करता है
Mahākalyānaka ghrita is used for

37 / 78

पित्तज उन्माद की चिकित्सा है
Treatment of pittaja unmāda is

38 / 78

आचार्य चरक ने उन्माद की चिकित्सार्थ किसकी पूजा का निर्देश किया है ?
Āchārya charaka has asked to pray which God for the treatment of Unmāda

39 / 78

अप्रसन्नदृष्टिमपश्यन्तं निद्रालु किस ग्रहोन्मत्त पुरुष का लक्षण है
“Aprasannadrishtimapashyantam nidrālu” is symptom of which grahonmatta purusha

40 / 78

किस उन्माद में ताडनादी कर्म निषेध है ?
Tādanādi karma is contraindicated in which vyādhi

41 / 78

कल्याणक घृत का रोगाधिकार है ?
Rogādhikāra of Kalyānaka Ghruta is -

42 / 78

अमर्त्यवाग् विक्रमवीर्यचेष्टो ज्ञानादिविज्ञानबलादिभिर्य: किस उन्माद का लक्षण है ?
"Amartavag vikramaviryacheshto gyanadivigyanabaladibhirya" is the symptom of which unmada ?

43 / 78

उन्माद की चिकित्सा में औषधचूर्णों के नस्यार्थ एवम् अंजनार्थ प्रशस्त भावना द्रव्य है
Bhāwnā dravya in the medicine for nasya and Anjana in the treatment of Unmāda

44 / 78

चरक संहिता अनुसार प्रपुराण घृत है
Prapurāna ghrita according to charaka samhita is

45 / 78

कामज उन्माद की प्रतिद्वन्द चिकित्सा है
Pratidvanda chikitsā of kāmaja unmāda is

46 / 78

निम्न में से कौनसा घृत अनुभवसिद्ध उन्मादनाशक है ?
Which of the following ghrut is anubhavsiddha unmaadanashak ?

47 / 78

कितने वर्ष तक रखने पर घृत में उग्रगंध आ जाती है
In how many years does ghrita gets ugragamdha

48 / 78

अबद्धवाकत्वं हृदयं च शून्यं क्या है
“Abaddhavākatvam hridyayam cha shunyam” is

49 / 78

बलं च भुङ्क्ते' लक्षण है
“ Balam cha bhumkate” is the symptom of

50 / 78

तैरल्पसत्वस्य मला: प्रदुष्टा बुद्धेर्निवासं हृदयं प्रदूष्य ' किस व्याधि की सम्प्राप्ति है
"Tairalpasatvasya malāh pradushtā bhuddhernivāsam hridyam pradushya" samprāpti of which vyādhi

51 / 78

तैरल्पसत्वस्य मला: प्रदुष्टा बुद्धेर्निवासं हृदयं प्रदुष्य किस व्याधि की सम्प्राप्ति है ?
"Tairalpasatvasya malāh pradushta buddhernivāsam hrudyam pradushya" is the samprāpti of which disease ?

52 / 78

लाक्षारसनिभं शीतं किस घृत के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Laksharasanibham shitam" is said with reference to which ghrut ?

53 / 78

विरुद्धभैषज्य विधिर्विवर्ज्य: किस उन्माद की चिकित्सा है ?
"Viruddha bhaishajya vidhirvivarjya" is the treatment of which unmaad ?

54 / 78

भोजन के बाद बल का बढ़ना किस उन्माद का लक्षण है
Increase in physical strength after having food is the symptom of which Unmāda

55 / 78

रूद्र के प्रमथ नामक गणों की पूजा करने वाला व्यक्ति किस रोग से मुक्त हो जाता है
The worship of prathamās, the attendants of lord Rudra, makes the person free from which disease

56 / 78

उन्माद के सामान्य लक्षणो में से प्रथम है
Prathama sāmānya lakshana of unmāda is

57 / 78

मनबुद्धिदेहसंवेजनं हितम् क्रिया निम्न में इष्ट है
“Manabuddhidehasamvejanam hitam” this kriya is ishta in

58 / 78

जीर्णे बलं' किस उन्माद का लक्षण है
“Jīrne balam “ symptom of which unmāda

59 / 78

लशुनाद्य घृत के सन्दर्भ में असत्य कथन है -
Incorrect statement in relation to lashunadya ghrut is -

60 / 78

नारिविविक्तप्रियता' यह लक्षण किस उन्माद का है ?
"NāriViviktaPriyatā" is the symptom of which Unmāda

61 / 78

जीर्णे बलं किस उन्माद का लक्षण है
Jīrne balam is the symptom of which unmāda

62 / 78

चरक अनुसार अपामार्गाद्यञ्जन योग का वर्णन किसकी चिकित्सा में किया गया है ?
According to Charak, apamargadyanjana yog has been mentioned for treatment of which of the following ?

63 / 78

उन्माद का प्रथम हेतु क्या है
Prathama hetu of Unmāda is

64 / 78

चरक संहिता अनुसार कितने वर्ष पुराना घृत पुराण घृत है
According to charaka samhita how many years old ghrita is considered old ghrita

65 / 78

निम्न में से भूतोन्माद का प्रकार नहीं है -
Of the following, not a type of bhutonmaada -

66 / 78

भिन्नरुक्षस्वरं किसका लक्षण है
“Bhinnarukshasvaram” is the symptom of

67 / 78

रूद्र के प्रमथ नामक गण की पूजा का विधान किस व्याधि में किया गया है
Worship of prathamās, the attendants of lord Rudra is said in which disease

68 / 78

लशुनाद्य घृत का रोगाधिकार है
Rogādhikāra of lashunādhya ghrita is

69 / 78

चण्ड,साहसिक,तीक्ष्ण,गम्भीर किस उन्माद का लक्षण है
Chanda, sāhsika,tikshana, gambhira is the symptom of which disease

70 / 78

राजद्वारे च शस्यते यह फलश्रुति चरकोक्त किस योग के लिए दी गयी है
“Rājadvāre cha shasyate” this phalashruti is given for which formulation

71 / 78

निम्न में से ग्रहावेश का हेतु है -
Of the following, cause of grahavesh is -

72 / 78

लशुनाद्यघृत का प्रयोग उन्माद में ........... करते है।
Use of lashunadya ghrut in done for .........

73 / 78

रक्तविप्लुताक्षं द्विजातिवैद्यपरिवादिनम् की उन्माद का लक्षण है
“Raktaviplutākshama dvijātivaidyaparivādinam” is the symptom of which unmāda

74 / 78

उन्माद और अपस्मार में .......... साम्य है |
Similar in unmada & apasmar is -

75 / 78

शरीर में सरसों का तैल लगाकर धूप में उतान शयन कराकर केवाँच को शरीर में स्पर्श कराना किस व्याधि की विशेष चिकित्सा है
When a patient is made to lie flat in the sun after application of mustard oil and kapikachchu is rubbed on the body, this type of special treatment is done in

76 / 78

शुभगन्धम् किस उन्माद का लक्षण है
“Shubhagandham” is symptom of which unmāda

77 / 78

कल्याणक घृत के कुल घटकों की संख्या है
Total contents of kalyānaka ghrita are

78 / 78

पुराण घृत के लक्षण चरक संहिता के किस अध्याय में वर्णित है ?
Purana ghrita lakshanas are explained in which adhyāya of Charaka Samhita ?

Your score is

The average score is 71%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

1 thought on “Charak Chikitsha Chapter 9 Unmad Chikitsha”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *