Skip to content
Home » Charak Indriya Chapter 10 Sadyomaraneeyam Indriyam

Charak Indriya Chapter 10 Sadyomaraneeyam Indriyam

0%
0 votes, 0 avg
4

Charak Indriya Chapter 10 Sadyomaraneeyam Indriyam

1 / 14

किस प्रदेश में उत्पन्न छेदन के समान शूल शीघ्र मृत्यु का सूचक है ?
Pain like chedana in which body part signifies immediate death

2 / 14

किस स्थान में उत्पन्न वातष्ठीला सद्योमरणीय का सूचक है ?
Vātāshthīlā occurring inwhich of the following sthāna signifies sudden death

3 / 14

अतिसार और तृष्णा के साथ किस प्रदेश में परिकर्तन समान वेदना रोगी की सद्य मृत्यु की सूचक है ?
Vedanā like Parikartana along with Atisāra and Trishnā is the indicative of sudden death of the patient

4 / 14

जो रोगी दुर्बल हो तो प्रबल वायु उसके हृदय और गुदा को जकड़ ले , तो वह कितने समय का अरिष्ट है ?
The patient which is weak, and Strong Vāyu takes control of Hridaya and Gudā this is the Arishta of

5 / 14

किस अवस्था में हुआ हिक्का रोग सद्य मारक अरिष्ट है ?
Hikkā roga is Sadhyah māraka Arishta in which stage
ed

6 / 14

गुदग्रह और तृष्णा के साथ किस प्रदेश में परिकर्तन समान वेदना रोगी की सद्य मृत्यु की सूचक है ?
Vedana as of Parikīrtana in which part of the body alongwith gudagraha and trishna is the indicative of sudden death

7 / 14

तृष्णा के साथ किस शोथ से पीड़ित रोगी की जीवन लीला शीघ्र नष्ट हो जाती है ?
Patient of Trishnā also suffering from which shotha is likely to die soon

8 / 14

तृष्णा रोगी में वाताष्ठीला होने पर ......समय में मृत्यु हो जाती है
Presence of Vatāshthīlā in the patient of trushnā leads to death in the duration of .......

9 / 14

प्रबल वायु जिस रोगी के वंक्षण और गुदा को जकड़कर श्वासरोग उत्पन्न कर देती है, तो वह उसे कितने समय में मार डालती है ?
Aggravated vāyu when causes spasm in vamkshana and gudā and causes shvāsa roga kills a patient in how many days

10 / 14

वायु किस स्थान का आश्रय लेकर संज्ञा का हरण कर लेती है ?
Vāyu situated at which place makes a man unconscious

11 / 14

चूर्णकसन्निभम् - किस प्रदेश का अरिष्ट लक्षण है ?
" Chūrnakasannibham " is the arishta symptom of which region ?

12 / 14

कर्दमदिग्धाभा - किस प्रदेश का अरिष्ट लक्षण है ?
"Kardamadigdhābhā" is arishta lakshana of which pradesha

13 / 14

किसी भी रोग के साथ किन उपद्रवों का आना सद्य मृत्यु का सूचक है ?
Which of the following complications in a disease signifies immediate death

14 / 14

किन व्याधियों से एक ही समय में आक्रान्त होना सद्यमारक माना जाता है ?
Suffering from which of the following disease together signifies immidiate death

Your score is

The average score is 50%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *