Skip to content
Home » Charak Sutra 11 Trisheshaniy Adhayay

Charak Sutra 11 Trisheshaniy Adhayay

0%
1 votes, 5 avg
56

Charak Sutra 11 Trisheshaniy Adhayay

1 / 92

दूरस्थ पुष्प के रमणीय रूप को देखने के साथ साथ घ्राणेन्दिय का सन्निकर्ष न होने पर भी उसकी गन्ध का अनुभव होना - किस प्रकार का प्रत्यक्ष है ?
Looking towards a beautiful flower at a distance without smelling it we can feel the smell of it this type of pratyaksha is

2 / 92

अनुमान के कितने भेद है ?

3 / 92

श्रीयशोज्ञानसिद्धानां व्यपदेशादतद्विधा किस वैद्य के लक्षण हैं
“ShriYashoJnānaSiddhānāma Vyapadeshādatadvidhā” is the characteristic of which vaidya?

4 / 92

झूठ बोलना , प्रतिकूल बोलना , चुगली करना - वाक् इन्द्रिय का कौन सा योग है ?
To lie, adverse talks, cheating are which yoga of Vāga Indriya

5 / 92

आत्मेन्द्रियमनो अर्थानां सन्निकर्षात् प्रवर्तते यह श्लोक किसके सन्दर्भ मे कहा गया है ?
"Ātmendriyamano arthānām sannikarshāt pravartate" this Shloka is in the context of

6 / 92

निम्न में से चरकोक्त एषणा नही है
As per charaka, which of the following is not an ”Eshanā”?

7 / 92

कारण और कार्य दोनो से भिन्न सामान्य दर्शन से अनुमान लगाना क्या कहलाता है?
Anumāna by Sāmānya darshana apart from Kārya and Kārana is caled

8 / 92

ऋषियों द्वारा धर्म शास्त्रों में किनके लिये मोक्ष का उपदेश नही किया गया है?
Moksha has not been said for whom by Rishis in Dharma Shāstra

9 / 92

शब्द प्रमाण किस प्रमाण को कहा गया है ?
Shabda Pramāna is which Pramāna

10 / 92

सत् और असत पदार्थो की परीक्षा कितने प्रकार से की जाती है ?
Examination of sat and asata padārtha is done through how many types ?

11 / 92

निम्न सन्दर्भ किसके लिए आया है "बुद्धि पश्यति या भावान् बहुकारणयोगजान्"
“Buddhi pashyati yābhāvāna bahukāranayogajāna” the following has been said in the context of

12 / 92

न ह्यत: पापात् पापीयोअ्स्ति यदनुपकरणस्य दीर्घमायुः यह किस एषणा के संदर्भ मे कहा गया है ?
"Na Hyatah Pāpāt Pāpīyoasti Yadanupakarnasya Dhīrghamāyu" is said about which Eehnā

13 / 92

बाल्य , युवा , वृद्धावस्था के अनुसार स्थित बल कौन सा है ?
Bala according to Bālya, Yuvā and Vridhhāvasthā is

14 / 92

सन्धिपीडा को देख कर वात प्रकोप का अनुमान करना - किसका उदाहरण है ?
Anumāna of Vāta prakopa due to Sandhi pīdā is the example of

15 / 92

लौकिक प्रत्यक्ष के साधक सन्निकर्ष कितने है ?
How many are sādhaka sannikarsha of laukika pratyaksha

16 / 92

दार्शनिको मे प्रत्यक्ष के कितने भेद बताये गए है?
How many types of Pratyaksha is described in Dārshinaka

17 / 92

प्रत्यक्ष ज्ञान किनके सन्निकर्ष से उत्पन्न होता है ?
Pratyaksha gnāna is originated from sannikarsha of ?

18 / 92

अपतानक और अर्दित किस मार्गगत रोग हैं
Apatānaka and Ardita are which mārgagata roga?

19 / 92

विरुद्ध , असिद्ध, बाधित - किसके भेद है?
Viruddha, Asiddha , Bādhita are the types of

20 / 92

यथार्थ ज्ञान के लिए

21 / 92

गर्भ को देखने से अतीत मैथुन का ज्ञान - यह किस प्रमाण का उदाहरण है ?
Knowledge of past intercourse looking at the womb is the example of

22 / 92

शरीर दोष समुत्थ:रोग: ......Sharira dosha samutthah rogah ...........

23 / 92

गुदभ्रंश किस मार्गगत व्याधि है
Gudabhramsha is which mārgagata roga?

24 / 92

शुक्र की रक्षा के लिए कितने प्रकार के मैथुन से बचना चाहिए ?
Types of intercourse to be avoided for Shukra Rakshā

25 / 92

नाभि और गुदा - निम्न में से किस रोग मार्ग का अंग है ?
Nābhi and Gudā are amga of which roga mārga

26 / 92

प्रत्यक्ष ज्ञान में बाधक हेतु है
Bādhaka hetu in pratyaksha jnāna are?

27 / 92

चरक ने कितने प्रकार के बल का उल्लेख किया है
How many types of bala did Charaka mentioned?

28 / 92

वैदिक आप्तोपदेश किसे कहा गया है ?
What is called Vaidika Āptopadesha

29 / 92

संसार में सुख और दुख किसके बिना नही होता ?
Sukha and dukha in Samsāra cannot be without

30 / 92

स्नायु और कण्डरा - यह रोगो के किस मार्ग का हिस्सा है ?
Snāyu and Kandarā this is part of which mārga of roga

31 / 92

वैद्यभाण्डौषधै: पुस्तै: पल्लवैरवलोकनै:। उपरोक्त सन्दर्भ किस प्रकार के वैद्य के लिए कहा गया है
“VaidyaBhāndaushadaih Pustaih PallavairaAvlokanaiah” this has been said in the context for which type of vaidya?
ed

32 / 92

न्याय दर्शन के अनुसार प्रत्यक्ष पूर्वक अनुमान के कितने प्रकार है ?
Pratyaksha pūrvaka anumāna according to Nyāya darshana are

33 / 92

पुर्नजन्म की सिद्धि कितने प्रमाणों से होती है
Rebirth is determined by how many pramanā?

34 / 92

लौकिक और अलौकिक किसके भेद है ?
Laukika and Alaukika are the types of

35 / 92

चरक सूत्र 11 के अनुसार रोग उत्पति मे क्या कारण है?
Roga utapatti kārana according to Charaka sutra 11

36 / 92

चरक अनुसार "विबुद्धा" किसके लिए प्रयुक्त किया गया है ?
According to Charaka, Vibuddhā is for

37 / 92

मध्यरोगमार्ग मे निम्न में से क्या आता है ?
Which of the following is part of MadhyaRogaMārga

38 / 92

ज्ञान का विषय क्या कहलाता है ?
Vishaya of Jnāna is

39 / 92

प्रत्यक्षपूर्व त्रिविधं त्रिकालं ................ ।। यह किस सन्दर्भ मे आया है ?
Pratyaksha pūrva Trividham Trikālam......... this is in context of

40 / 92

त्रिवर्ग किसके द्वारा सिद्ध होता है
Trivarga is determined by

41 / 92

जो वस्तु जैसी है उसे उसी प्रकार का और यथार्थ रूप में ग्रहण करना या अनुभव करना क्या कहलाता है ?
"To feel the object in the way it is and in its original condition" is called

42 / 92

सूर्य की उपस्थिति में तारों का प्रत्यक्ष न होना , यह ..................... का उदाहरण है।
A person is unable to see the stars in presence of sum , is an example of .................

43 / 92

गलगण्ड किस मार्गगत रोग है
Gala Ganda is which mārgagata roga?

44 / 92

अनुमान के निष्कर्ष को क्या कहा जाता है ?
Nishkarsha of Anumāna is called

45 / 92

चरक सूत्र 11 का वर्णन किसके द्वारा किया गया है ?
Charaka sutra 11 is explained by

46 / 92

आप्त पुरूष रज औऱ तम से मुक्ति कैसे प्राप्त करते हैं ?
How does a person with āpta gains mukti from raja and tama ?

47 / 92

ज्ञान के कर्ता को क्या कहते है ?
What is Kartā of Jnāna called
ed

48 / 92

पञ्चावयव वाक्य का प्रयोग किसके लिए किया जाता है ?
Panchāvyava vākya prayoga is for

49 / 92

परामर्श का शाब्दिक अर्थ क्या है ?
Shābadika artha of Parāmarsha is

50 / 92

आप्त का लक्षण नही है
Which of the following is not a characteristic of Āpta?

51 / 92

मानस रोगों का चिकित्सा सूत्र क्या है
What is the chikitsa sutra of mānasa roga?
ed

52 / 92

चरकोक्त तिस्त्रेषणीय अध्याय किस चतुष्क में आता है
Charaka samhita’s tisraishniya adhyāya falls under which chatushka?

53 / 92

षड्धातु

54 / 92

प्रमाण के पर्याय निम्न में से कौन से है ?
What are the Paryāya of Pramāna

55 / 92

किस प्रमाण के द्वारा वस्तु के नाम ,जाति, गुण , विशेष्य - विशेषण का पूर्ण ज्ञान होता है ?
Which pramāna gives the complete information about name, Jāti, Guna, Visheshya, Visheshana is

56 / 92

बर्फ के टुकड़े को देखकर उसे स्पर्श किये बिना ही शीतलता का ज्ञान होना - यह किस प्रकार का प्रत्यक्ष है ?
"Without touching the ice piece we can know about its coldness" this is which type of Pratyaksha

57 / 92

किस इन्द्रिय की व्याप्ति सभी इन्द्रियों में है
Which indriya pervades the other indriyas?

58 / 92

यथार्थानुभवः प्रमा , तत्साधनं च ............ ।।
Yathārthānubhavah pramāh, tatsādhanam cha ...........

59 / 92

शिष्ट और विबुद्ध किसके पर्याय है ?
Shista and Vibuddha are the synonyms of

60 / 92

निम्न मे से शाखा गत रोग मार्ग में क्या नही आता ?
Which of the following does not come under Shākhā gata Roga Mārga

61 / 92

किस प्रमाण के द्वारा दूर स्थित वस्तु का - "यह कुछ है " ये ज्ञान होता है, परन्तु उसके नाम ,जाति और विशेषता का ज्ञान नही होता ?
Due to which pramāna, for the distant object-yes it is something, this type of information is gathered, but the name, type and authority is not known

62 / 92

मन से त्वचा का किस प्रकार का सम्बंध है ?
How is Mana related to tvachā

63 / 92

योगज प्रत्यक्ष कितने प्रकार का है ?
Yogaja pratyaksha is of how many types

64 / 92

कोष्ठ का पर्याय है
Synonym of Koshtha is

65 / 92

प्रयोग ज्ञान विज्ञान सिद्धिसिद्धा: सुखप्रदा किस वैद्य के लक्षण है
“Prayoga jnāna vijnāna siddhisiddhāh sukhaprada” are characteristics of which vaidhya?

66 / 92

वैद्य शब्द की प्रतिष्ठा किन पर निहित् होती है ?
Dignity of Vaidya term depends on

67 / 92

त्वचा त्रिविध रोग मार्ग में से किसके अंतर्गत आती है ?
Tvachā comes under which of the Trividha Roga Mārga

68 / 92

गौ को देख कर उसके सम्पूर्ण वर्ग या जाति का ज्ञान होना - यह किस प्रकार का प्रत्यक्ष है ?
After seeing cow, the whole knowledge of its classification and Genus

69 / 92

चरक मतानुसार, रोगों के कितने प्रकार है?
Types of Roga are

70 / 92

ऐतिह्य और आगम किस प्रमाण के अन्य नाम है ?
Etihya and Āgama are names of which Pramāna

71 / 92

बीज से उत्पन्न होने वाले फल का ज्ञान किस प्रमाण से लगाया जाता है ?
By which Pramāna the fruit produced from the seed is known?

72 / 92

गरिष्ट भोजन करते देख होने वाले अजीर्ण का अनुमान करना - किसका उदाहरण है ?
Anumāna of Ajīrna by looking at heavy food intake is example of

73 / 92

निम्न में से 'पल्लवग्राही' कौनसा वैद्य होता है ?
Which of the following Vaidhya is "Pallawagrāhī"

74 / 92

क्रोध , लोभ, अहंकार , ईर्ष्या - किस इन्द्रिय से सम्बंदित है ?
Krodha, lobha, ahemkāra, Irshyā are related to which Indriya

75 / 92

शरीर और मन कर अनुसार स्वभाविक रूप से स्थित बल कौन सा है ?
According to body and mind svabhāvika sthita bala is

76 / 92

निम्नलिखित् मे से कौन से न्याय दर्शन के अनुसार प्रमेय है ?
Which of the following is Prameya according to Nyāya darshana

77 / 92

आहार चेष्टायोगजम है
“Āhāra CheshtaYogajama” is

78 / 92

व्याप्तिविशिष्टपक्षधर्मताज्ञानं ........... ।। यह किसके सन्दर्भ मे आया है ?
Vyāpti Vishishta Paksha Dharmatā Jnānam.......... This is in context of

79 / 92

निम्न में से कौन सी एषणा चरक द्वारा वर्णित नही है ?
Which of the following Eshnā is n it explained by Charaka

80 / 92

व्याप्ति के कितने भेद है ?
Types of Vyāpti are

81 / 92

शुक्र की रक्षा के लिए कितने प्रकार के मैथुन से बचना चाहिए ?
Types of intercourse to be avoided for Shukra Rakshā

82 / 92

शरीर का आश्रय बना कर प्रयुक्त होने वाली औषधियो के कितने भेद है ?
Types of Aushadhīs on the basis of Sharīra Āshraya

83 / 92

मथ्यमन्थनमन्थानसंयोग उदारहण किसके लिए दिया गया है
“ MadhyaManthanaManthānaSamyoga” this example has been given for

84 / 92

जलकर्षणबीजर्तुसंयोगात् सस्यसंभवः यह उदाहरण किसके लिए दिया गया है
“JalaKarshanaBējaRituSamyogāta sasyasambhavah” this sample has been given for?

85 / 92

शिरोहृद्वस्तिरोगाः किस मार्गगत रोग हैं
“ShiroHridaVastiRogāh” is which mārgagata roga?

86 / 92

पौष्टिक आहार और व्यायामादि चेष्टाओं के सेवन से उत्पन्न बल कौन सा है ?
Bala produced Paushtika Āhāra and Vyāyāmādi cheshtā is

87 / 92

आहारचेष्टायोगजम् क्या है
“ĀhāraCheshtaYogajama” is

88 / 92

आहार तथा व्यायाम द्वारा उत्पन्न बल कौन सा हैं ?
Bala due to Āhāra and Vyāyāma is

89 / 92

असात्म्येन्द्रियार्थ संयोग कितने प्रकार का है?
Asātmyendriyārtha samyoga is of how many types

90 / 92

दान , तपस्या ,यज्ञ , सत्य बोलना - इनसे किसकी प्राप्ति होती है ?
Dāna, Tapasyā, Jajna, Satya - what does a person achieve with these

91 / 92

कार्य से कारण का अनुमान क्या कहलाता है?
Anumāna of Kārana by Kārya is called

92 / 92

स्वार्थ और परार्थ किसके भेद है ?
Svārtha and Parārtha are types of

Your score is

The average score is 60%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

1 thought on “Charak Sutra 11 Trisheshaniy Adhayay”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *