Skip to content
Home » Chāyāvipratipatty Adhyāyaḥ

Chāyāvipratipatty Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
26

31. Chāyāvipratipatty Adhyāyaḥ

1 / 37

यमराज के राष्ट्र जाने वाले रोगी के किस अंग पर पसीना आता है ?
A person leaving to place of yamarāja sweats from which organ

2 / 37

किस प्रकार सोने वाला रोगी जीवित नही रहता ?
Patient sleeping in which position does not stay alive

3 / 37

एक दूसरे के उपद्र्व स्वरूप किन रोगों का उत्पन्न होना मृत्यु का सूचक है ?
Manifestation as complication of each other of which of the following diseases is indicative of death

4 / 37

संक्षिप्ते विषमे स्तब्धे रक्ते .....। - यह किस से सम्बंधित अरिष्ट लक्षण है ?
Samkshipte Vishama stabdhe rakte......... this arishta lakshana is related to

5 / 37

गुह्य स्थान पर उत्पन्न हुआ शोथ किसको मार डालता है
Shotha in guhya sthāna is deadly for

6 / 37

निम्न में से सत्य कथन है -
Which of the following is a true saying

7 / 37

किन रोगो का दारुण होना मृत्यु का सूचक है ?
Which diseases when severe are deadly

8 / 37

सुश्रुत अनुसार छाया के भेद
Types of chāyā according to Sushruta

9 / 37

श्वास या कास रोगी मे किस जगह का शोथ होने पर उसे क्षीण समझना चाहिए ?
A patient of Shvāsa and kāsa should be considered weak if swelling is found in which of the following organs

10 / 37

जिह्वा का कौन सा वर्ण का होना नष्ट आयु का घोतक है ?
What colour of tongue signifies Nashtāyu

11 / 37

किस स्थान में उत्पन्न शोथ स्त्री को मार देता है ?
Shotha in which of the following sthāna kills a women

12 / 37

पुरुष मे सहसा निम्न मे से किन चीजों की प्राप्ति होने पर उसे गतप्राण समझना चाहिए ?
Sudden gain of which of the following in a person is indicative of his death(gataprāna)

13 / 37

आचार्य सुश्रुत अनुसार मृत्यु के कारण
Causes of death according to Sushruta are

14 / 37

रोगी मे किन का ठंडा होना मृत्यु का सूचक है ?
Coldness of which of the following organs is indicative of death

15 / 37

जिस मनुष्य के दांत खंजन पक्षी की तरह नील वर्ण के हो गए हों उसको....समझना चाहिए
If teeth of a person looks blue like that of a bird named Lamghana then he should be considered.........

16 / 37

शरीर के अवयव सम्बंधित कौन सा अरिष्ट सत्य है ?
Which arishta is true in relation to organs

17 / 37

निम्न में से किस लक्ष्ण से युक्त रोगी की चिकित्सा त्याग देनी चाहिए ?
Patient presenting with which of the following symptom should not be accepted for treatment

18 / 37

किस स्थान में उत्पन्न शोथ पुरुष को मार देता है ?
Shotha in which of the following organs kills a man

19 / 37

निम्न में से कौन से उपद्रव बलवान रोगी को भी प्राणों से वियुक्त कर देते है ?
Which of the following complications kills even the strong patient

20 / 37

रोगी द्वारा किस अंग के चूसने पर उसे प्रेत रूप समझना चाहिए ?
A patient should be considered already dead or like spirit if he sucks which of the following organ

21 / 37

सुश्रुत अनुसार छाया के भेद
Types of chāyā according to Sushruta

22 / 37

रोगी के किस अंग पर वायु की गांठ उत्पन्न होने पर गतायु निश्चित है ?
Formation of bolus of Vāyu on which of the following organ ensures death of the patient

23 / 37

बिना विषपान किये किन अंगों से रक्त निकलने पर रोगी की चिकित्सा वर्जित है ?
Oozing of blood from which of the following organs of a patient without Visha pāna is contraindicated for treatment

24 / 37

निम्न में से किस लक्षण से युक्त रोगी का जीवित रहना दुर्लभ है?
Appearance of which of the following symptom is indicative of less chances of survival of a person

25 / 37

यमलोक को जाने वाले रोगी मे किस प्रकार की गन्ध आती है?
A patient ready to depart to yamaloka smells like

26 / 37

कुटिला स्फुटिता वाअपि शुष्का वा यस्य...। - यह किस से सम्बंधित अरिष्ट लक्षण है ?
Kutilā sphutitā vā api shushkā vā yasya...... this arishta lakshana is related to

27 / 37

रोगी का कौन सा नेत्र अंदर घुस जाने पर चिकित्सा नही करनी चाहिए ?
Which sided eye of a patient that has moved inwards should not be treated?

28 / 37

कुटिला स्फुटिता वाअपि शुष्का वा यस्य...। - यह किस से सम्बंधित अरिष्ट लक्षण है ?
Kutilā sphutitā vā api shushkā vā yasya...... this arishta lakshana is related to

29 / 37

लुनन्ति चाक्षिपक्ष्माणि सोअ्चिराद् याति मृत्यवे - यह किस अंग के अरिष्ट लक्षण का घोतक है ?
"Lunanti chākshipakshamāni soachirāda yāti mrityave" this arishta lakshana signifies which organ

30 / 37

जाम्बवाभासौ - किस अंग का अरिष्ट लक्षण है?
"Jāmbavābhāsau" is arishta lakshana of which organ

31 / 37

रोगी की दी हुई बलि किस जानवर द्वारा नही खाई जाना रोगी के यमलोक जाने का लक्षण है ?
Which animal does not eat the offering(bali) given by the patient and is indicative of his death and arrival at yamaloka

32 / 37

विप्रसारणशीलो वा न स जीवति मानवः - यह किस अंग के विषय में कहा गया है ?
"Viprasāranashīlo vā na sa jīvita mānavah" this has been said for which organ

33 / 37

रोगी मे सहसा किस का नष्ट होना मृत्यु का सूचक है ?
Sudden absence of which of the following is indicative of death

34 / 37

दांतो का कौन से वर्ण का होना नष्टायु का लक्षण है ?
Which colour of teeth is indicative of Nashtāyu

35 / 37

किस पंछी की तरह सांस लेने पर रोगी की चिकित्सा वर्जित है ?
Treatment is contraindicated for a patient breathing like which bird

36 / 37

श्वास या कास रोगी मे किन उपद्रवों के उत्पन्न होने पर रोगी को क्षीण समझना चाहिए ?
Patient of Shvāsa and kāsa with which of the following complications is considered Kshīna

37 / 37

किस जल द्वारा प्यास का शान्त न होना अरिष्ट सूचक है ?
Unable to quench thirst by which water is Arishtasūchaka

Your score is

The average score is 68%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *