Skip to content
Home » Dr̥ṣṭigatarōgapratiṣēdh Adhyāyaḥ

Dr̥ṣṭigatarōgapratiṣēdh Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
27

17. Dr̥ṣṭigatarōgapratiṣēdh Adhyāyaḥ

1 / 67

मन:शिलाद्यञ्जन का प्रयोग किस व्याधि मे किया जाता है ?
Manashiladya anjan is used in which disease ?

2 / 67

सुश्रुत अनुसार लिंगनाश वेधन हेतु प्रशस्त शलाका की लम्बाई कितने अंगुल बताई गयी है ?
Length of Shalākā for vedhana in Limganāsha according to Sushruta

3 / 67

सुश्रुत मतानुसार याप्य नेत्र रोग की चिकित्सा हेतु क्या प्रयुक्त करते है ?
According to Sushruta, what is used for the treatment of Yāpya netraroga ?

4 / 67

दिवान्ध्यरात्र्यान्ध्यहराञ्जन निर्माण मे किसके पुष्पों का प्रयोग होता है ?
Whose flowers (pushpa) should be used for the formation of divaandhyaratryaandhyaanjan ?

5 / 67

कफज रोगो मे किस द्रव्य के द्वारा विरेचन देना चाहिए ?
Virechana with which dravya should be given in kaphaja disorders ?

6 / 67

एक व्यक्ति दिन में देख पाता है और रात में नहीं, वहीं दूसरा व्यक्ति दिन में नहीं देख पाता और रात को देख सकता है , तो इन दोनों व्यक्तियों की चिकित्सार्थ कौनसा कर्म करेंगे ?
A person is able to see in the day but not in the night and the other is not able to see in the day but can see in the night, which karma is done for the treatment of these person?

7 / 67

न चेदर्द्धेन्दुघर्माम्बुबिन्दुमुक्ताकृतिः स्थिरः - यह किस सन्दर्भ मे आया है ?
"Na chedardendhugharmānbubindumuktākrutih sthiram" is in the context of

8 / 67

लिंगनाश की चिकित्सार्थ वेधन कर्म किससे करने का निर्देश मिलता है ?
Vedhana karma for the treatment of Limganāsha should be done with

9 / 67

तर्पणे चैव हितं प्रयोजितं स जाङ्गल च यः पुटाह्वयः किस तिमिर की चिकित्सार्थ निर्दिष्ट है ?
"Tarpane chaiva hitam prayojitam sa jangal ch yah putahva" is indicated for the treatment of which timir ?

10 / 67

लिंगनाश में सम्यक वेधन होने पर बुद्धिमान वैद्य को वेध्य स्थान पर किसके दुग्ध से सिंचन करना चाहिए ?
After samyaka vedhana in Limganāsha, simchana at the vedhya sthāna should be done which whose milk by the vaidhya

11 / 67

स्त्रोताञ्जनादियोग किस व्याधि में प्रयोज्य है ?
Strotanjanaadiyog is used in which disease ?

12 / 67

रसाञ्जनाद्यञ्जन का प्रयोग किस नेत्ररोग में प्रशस्त माना गया है ?
Use of rasanjananadyaanjan is idea in which netraroga ?

13 / 67

गोधायकृदञ्जन का प्रयोग किस नेत्रगत रोग में करते है ?
Use of godhayakrudanjan is done in which netraroga ?

14 / 67

निम्न में से कौन से शाक दृष्टि रोग में हितकारक होते है ?
Which of the following shāka is beneficial in Drishti roga

15 / 67

लिंगनाश शस्त्रकर्म में सम्यक वेधनोपरांत नेत्र का सिंचन किसके द्वारा करने का निर्देश मिलता है ?
What is used for netra simchana after samyaka Vedhana for Limganāsha shastra karma

16 / 67

काश्मर्याद्यन्जन किसके लिए उत्तम है
Kāshmaryādhyanjana is best for

17 / 67

सर्व प्रकार के तिमिर मे लोह पात्र में रखे किस घृत का सेवन करना चाहिए ?
In all types of timira which Ghrita kept in iron pot is consumed

18 / 67

सुश्रुत अनुसार प्रशस्त शलाका का परिणाम किसके सदृश्य बताया गया है ?
According to Sushrut, measurement of ideal shalaka should be similar to ?

19 / 67

पित्त विदग्ध दृष्टि में किस घृत का सेवन करवाना चाहिए ?
Intake of which ghrut should be done in pitta vidagdha drushti ?

20 / 67

अञ्जन लगाने के पश्चात् प्रयुक्त की जाने वाली वस्तु को क्या कहते है ?
An object used after applying anjana is called as ?

21 / 67

सर्व प्रकार के तिमिर रोग में किस पात्र में रखा हुआ पुराणघृत हिताकारी होता है
Purāna ghrita kept in which vessel is beneficial for all types of timira roga

22 / 67

रक्तज तिमिर मे किस गण की औषधि का नस्य रूप में प्रयोग करते है ?
Medicine of which gana is used in the form of nasya in raktaja timira ?

23 / 67

गुटिकाञ्जन का प्रयोग किस नेत्ररोग में प्रशस्त माना गया है ?
Use of gutikaanjan is best in which netraroga ?

24 / 67

नक्तान्ध्यहराञ्जन निर्माण में किस द्रव्य की भावना दी जाती है ?
Bhāvanā of which dravya is given in the formation of Naktāndhyaharānjana ?

25 / 67

पित्तहरशीताद्यञ्जन निर्माण में किस की भावना देनी चाहिए ?
Whose bhavna should be given in pittaharashitadya anjan ?

26 / 67

लिंगनाश मे वेधन के लिए किस शस्त्र का प्रयोग किया जाता है ?
Which shastra is used for vedhana purpose in Linganāsha ?

27 / 67

कफविदग्ध दृष्टी में किस घृत का पान निर्दिष्ट है ?
Intake of which ghrut is Indicated in kaphavidagdha drushti ?

28 / 67

स्त्रोतोञ्जन को कृष्ण सर्प मुख में कितने दिनों तक रखना चाहिए व?
Sroto anjana should be kept in mouth of black snake for how many days

29 / 67

परिम्लायि में किस तिमिर समान चिकित्सा करने का निर्देश दिया है ?
In parimlayi, similar treatment of which timir is indicated ?

30 / 67

काच रोग का नाश करने के लिए स्त्रोतोञ्जन को अजा दुग्ध की कितने दिनों तक भावना देनी चाहिए ?
To get rid of Kācha roga, for how many days bhāvanā of Ajā kshīra is given to strotānjana

31 / 67

वातज तिमिर मे किस गण की औषधि का नस्य रूप में प्रयोग करते है ?
Medicine if which gana is used in the form of nasya in Vātaja timira ?

32 / 67

निरभ्र इव घर्मांशुर्यदा दृष्टिः प्रकाशते।..... सम्यग् ज्ञेया या चापि निर्व्यथा । - यह किस सन्दर्भ मे कहा गया है ?
"Nirabhra iva gharmāmshuryadā drishtih prakāshate. .......... samyag jneyā yā chāpi nirvyathā" has been said in context of

33 / 67

तिमिर रोग में राग प्राप्ति होने पर क्या चिकित्सा करनी चाहिए ?
What should be done when rāga is developed in timira patient

34 / 67

सुश्रुतानुसार अरागि प्रथम पटलगत तिमिर की साध्यासाध्यता मानी गई है ?
Sādhyāsādhyātā of Arāgi Prathama patala gata timira according to Sushruta is

35 / 67

सुश्रुत अनुसार किस लिङ्गनाश में शस्त्रकर्म निर्दिष्ट है ?
According to Sushrut, shastrakarma is indicated in which linganash ?

36 / 67

सुश्रुत अनुसार कफज लिङ्गनाश में शस्त्रकर्मोपरान्त कितने दिन तक पथ्य पालन का निर्देश किया गया है ?
According to Sushrut, pathya should be followed for how many days after surgical procedure ?

37 / 67

. मन:शिलाद्यञ्जन निर्माण मे किस द्रव्य की भावना दी जाती है ?
Bhavna of which dravya is given in formation of manashiladya anjan ?

38 / 67

तिमिर अवस्था वाले कांच मे सर्वप्रथम क्या चिकित्सा की जाती है ?
Which treatment should be done first in kacha having condition of timir ?

39 / 67

नेत्र रोगों में "हितं च विद्यात .....घृतं सदा" किसके लिए कहा गया है
"Hiram cha vidhyāta......ghritam sadā" this has been said for what in netra roga

40 / 67

वेधन के पश्चात् विद्ध स्थान को किससे सिंचित करना चाहिए ?
After vedhana, viddha place simchana is done with

41 / 67

सुश्रुतानुसार याप्य नेत्र रोग की चिकित्सा हेतु किसका प्रयोग करते है ?
What should be done for Yāpya netra roga Chikitsā according to Sushruta

42 / 67

दैवकृत छिद्र से अन्यत्र वेधन होने पर किस द्रव्य से सेक देना चाहिए ?
After vedhana on daivakruta chidra , seka should be given with which dravya ?

43 / 67

प्रथम पटलाश्रित तिमिर होता है
Timira residing in first and second patala is

44 / 67

हितं च विद्यात् ........ सदा कृतञ्च - निम्न में से किस घृत के सन्दर्भ मे कहा गया है ?
" Hitam cha vidyāt ....... sadā krutancha " is said in context to which ghruta ?

45 / 67

पित्तज तिमिर मे किस गण की औषधि का नस्य रूप में प्रयोग करते है ?
Nasya of which medicine of which gana is used in pittaja timira ?

46 / 67

सुश्रुत अनुसार षड याप्य रोगो में सर्वप्रथम किस चिकित्सा का निर्देश है ?
According to Sushrut, which treatment should be done first in six yapya disorders ?

47 / 67

द्वितीय पटल प्राप्त तथा रागयुक्त तिमिर होता है
Dvitīya patala prāpta and rāga yukta timira is

48 / 67

सुश्रुतानुसार कफज लिंगनाश में शस्त्र कर्मोपरान्त कितने कितने दिनों पर पट्टबन्धन खोलने का निर्देश दिया गया है ?
After shastra karma of Kaphaja Limganāsha bandage should be opened after how many days according to Sushruta

49 / 67

कुब्ज़काद्याञ्जन में क्या मिलाकर प्रगोग करना चाहिए ?
What should be added with kubjakadyaanjan for using it ?

50 / 67

हरेण्याद्यञ्जन का प्रयोग किस व्याधि मे किया जाता है ?
Harenyadya anjan is used in which disease ?

51 / 67

गोमूत्रादि रसक्रिया से नाश होता है
Gomūtrādi rasakriyā cures

52 / 67

किस तिमिर में पंचांगुल तैल का प्रयोग निर्दिष्ट किया गया है ?
Panchāmgula taila is advised in which timira roga

53 / 67

निम्न में से क्या सम्यक् वेधन का लक्षण है ?
Which of the following is the symptoms of Samyaka vedhana

54 / 67

अजामेदोअ्ञ्जन का प्रयोग किस व्याधि मे किया जाता है ?
Ajāmedā anjana is used in which disease t

55 / 67

हितं च विद्यात् ........ सदा कृतञ्च - निम्न में से किस घृत के सन्दर्भ मे कहा गया है ?
"Hitam cha vidhyāta ..........sadā kritancha" has been said in context of which ghrita

56 / 67

निम्न में से क्या तिमिर रोग का पथ्य है ?
Pathraw for timira roga

57 / 67

अपाङ्गप्रदेश में वेधन होने पर चिकित्सार्थ किस घृत का प्रयोग करना चाहिए ?
If vedhan is done in apanga region, which ghrut should be used ?

58 / 67

वातज तिमिर मे किस द्रव्य के द्वारा विरेचन देना चाहिए ?
Virechan with which dravya should be given in Vataj Timir ?

59 / 67

द्वितीय पटल आश्रित, राग प्राप्त तिमिर होता है
Dvitīya patala āshrita Rāga prāpta timira is

60 / 67

लिङ्गनाश मे शस्त्र कर्म दौरान रोगी को किस ओर देखना चाहिए ?
In which direction a patient should look during shastra karma of limganāsha

61 / 67

कुब्ज़काद्याञ्जन किस व्याधि में प्रयोज्य है
"Kubjakādhyānjana" is used in which disease

62 / 67

पित्तज तिमिर मे किसके घृत को औषधि से सिद्ध करके नस्य रुप मे लेना चाहिए ?
In Pittaja timira, which Ghrita is used with the prepared medicine for nasya

63 / 67

रक्तज और पित्तज रोगो मे किस द्रव्य के द्वारा विरेचन देना चाहिए ?
Virechana with which dravya should be given in pittaja and raktaja diseases ?

64 / 67

गुटिकाञ्जन का प्रयोग किस व्याधि मे किया जाता है ?
Use of gutika anjan is done in which disease ?

65 / 67

विवर्जयेत् ......... तिमिरे रागमागते।
"Vivarjayet ........... timire ragmagate"

66 / 67

निम्न में से "कुब्जकाद्यञ्जन" का रोगाधिकार है ?
Rogādhikāra of Kubjakādhyānjana

67 / 67

सुश्रुतानुसार तृतीय पटलगत तिमिर की सध्यासाध्यता मानी गयी है ?
Sādhyāsādhyātā of Tritīya patalagata timira according to Sushruta is

Your score is

The average score is 65%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *