Skip to content
Home » Hikkāpratiṣēdh Adhyāyaḥ

Hikkāpratiṣēdh Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
10

50. Hikkāpratiṣēdh Adhyāyaḥ

1 / 28

हिक्का व्याधि में प्रयुक्त हरीतकी का अनुपान क्या है ?
What is the anupāna of harītakī in hikkā disease ?

2 / 28

शालनिर्यास का धूम किस व्याधि में हितकारक है ?
Dhūma of shālaniṛyāsa is indicated in which disease?

3 / 28

हिक्का व्याधि में उर्ध्व दृष्टि लक्षण दिखाई देने पर साध्यासाध्यता होती है -
If there is an elevated vision symptom in the Hikkā disorder then what about its sāḍhyāsāḍhyatā?

4 / 28

शिर और ग्रीवा को कम्पायमान करती हुई हिक्का कौन सी होती है
Hikkā which devlops kaṃpāyamāna in shira and gṛīvā is known as-

5 / 28

हिक्का के लिए पथ्यतम किसे कहा गया है ?
Which is called as pathyatam for hikka ?

6 / 28

निम्न में से कौनसी हिक्का अनेक उपद्रवो से युक्त होती है ?
Which among the following hikkā consist of several updṛava?

7 / 28

. "मुखं कषायं अरतिगौरवं कण्ठवक्षसो:" किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"Mukhama kashāyama arati gauravama kantha vakshasō"is the pūravarūpa of which disease?

8 / 28

सर्वगात्रप्रकम्पिनी निम्न में से किस हिक्का का लक्षण है ?
"Saṛva gātra kaṃpinī"is the lakshana of which hikkā?

9 / 28

मुलेठी चूर्ण को शहद के साथ अवपीड़ नस्य हेतु प्रयुक्त करना किस व्याधि की चिकित्सा है ? (सुश्रुत )
Mulēthī chūrna along with madhu for the process of avapīda naṣya is indicated in which vyādhi

10 / 28

आचार्य सुश्रुत ने किस व्याधि की चिकित्सार्थ प्राणायाम का निर्देश किय़ा हैं ?
Acharya Sushrut has indicated pranayam for the treatment of which disease ?

11 / 28

जत्रुमूलात प्रधाविता है -
"Jatrumulat pradhavita" is -

12 / 28

एक व्यक्ति हिक्का से ग्रस्त होने के बावजूद अधिक क्षीण नही हुआ है , तो इस अवस्था में कौनसा कर्म कराना चाहिए ?
Despite being afflicted with a hikkā , there is less emaciation what action should be done in this condition?

13 / 28

सुश्रुत ने प्राणायाम का निर्देश किस व्याधि में किया है ?
Sushruta has suggested Pranayama in which disease ?

14 / 28

एक व्यक्ति विशेष रूप से कटु रस प्रधान द्रव्यों का सेवन करता है , तो उसे कौनसी हिक्का होने की सम्भावना होती है ?
If the person urge for the katu rasa, which type of hikkā is most probable ?

15 / 28

सुश्रुत अनुसार शुण्ठीक्षीर का रोगाधिकार है ?
According to Sushruta shuṇthī kshira is indicated in which disease?

16 / 28

नाभिप्रवृत्ता या हिक्का घोरा किस हिक्का के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Nābhi pṛavṛitta yā hikkā ghōrā"is mentioned for which hikkā?

17 / 28

जो हिक्का शिर व् ग्रीवा को कम्पायमान करती हुई रुकरुक कर एक बार में दो वेगों के साथ होती है, उसे क्या कहते हैं
The hikkā which produces kampa in Shira and Grīvā comes in intervals and have to Vega in one time is called

18 / 28

शुष्कौष्ठकण्ठजिह्वास्यश्वासपार्श्वरुजाकरी निम्न में से किस हिक्का का लक्षण है ?
" Shushkaukantha jihvāsyashwāsapārshvarujākarī " is the symptom of which of the following hikkā ?

19 / 28

सुश्रुत अनुसार जत्रुमूल से उत्पन्न होने वाली हिक्का कौनसी है ?
According to Sushruta hikkā whose origin is from jatrumūla is known as?

20 / 28

खजूर मस्तक की मज्जा एवं पिप्पली के सम भाग गृहीत चूर्ण को मधु के साथ सेवन कराना किस व्याधि में हितकारक है ?
In which disease it is suitable to give, the kharjūra majjā and pippalī in equal amount with honey

21 / 28

स्त्रीदुग्ध में रक्तचन्दन को घिस कर नस्य देना किस व्याधि में प्रशस्त माना गया है ?
Raktachandana rubbed in strīdugdha is given as nasya ideally in which disease ?

22 / 28

सर्पि:स्निग्धा .…... घ्नन्ति यवाग्व:
" Sarpih Snigdhā ......... ghnanti yavāgvah "

23 / 28

सुश्रुत अनुसार हिक्का के कितने प्रकार माने गए है ?
Types of hikkā according to Sushruta?

24 / 28

कोलास्थिमज्जा अञ्जनलाज चूर्णम् ......... निहन्यान्मधुनाSवलीढम् ।
" Kolāsthimajjā anjanalāja chūrnam .......... nihanyānmadhunā avalīdham "

25 / 28

मुहुर्मुहुर्वायुरुदेति सस्वनो यकृतप्लिहान्त्राणि मुखादिवाक्षिपन् किस व्याधि की निरुक्ति है ?
"Muhurmuhurvāyudeti sasvano yakrutaplihāntrāni mukhādivākshipan" is the etymology of which disease ?

26 / 28

हिक्का व्याधि में निम्न में से किसके मांसरस को फलाम्ल से संस्कृत कर पिलावे ?
In Hikkā, Phalāmla given to drink to the patient is prepared by mixing with Māmsa rasa

27 / 28

पिबेत्पलं वा लवणोत्तमस्य द्वाभ्यां पलाभ्यां हविष: समग्रम् किस व्याधि की चिकित्सा के संदर्भ में कहा गया है ?
" Pibetpalam vā lavanottamasya dvābhyām palābhyām havishah samagram " is said in relation to treatment of which disease ?

28 / 28

हिक्का व्याधि के सन्दर्भ में सही विकल्प चुनिये - " ........ पथ्यतमं ससैंधवं"
Select the correct option in relation to hikkā disease - " ............ pathyatam sasaindhvam "

Your score is

The average score is 74%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *