Skip to content
Home » Jvarapratiṣēdh Adhyāyaḥ

Jvarapratiṣēdh Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
6

39. Jvarapratiṣēdh Adhyāyaḥ

1 / 128

सुश्रुत अनुसार कफोल्बण ज्वर मुक्ति अथवा मारकता काल है -
According to Sushrut, time period of kapholban jwaramukti or marakta is -

2 / 128

तृष्णा एवं दाह से पीड़ित व्यक्ति में शिरोलेप हेतु किस द्रव्य के स्वरस का प्रयोग करना चाहिए ?
For a person suffering from trushna & daha, swaras of which dravya is used for shirolepa ?

3 / 128

आचार्य सुश्रुत ने किस ज्वर की चिकित्सा में "त्रासन" का निर्देश किया है ?
Ācharyā Sushruta has indicated "Trāsana" Chikitsā for which Jwara ?

4 / 128

मस्तिष्क शून्य की अवस्था में किस घृत से नस्य देना चाहिए ?
In condition of mastishka shunya, nasya should be given with which ghrut ?

5 / 128

Assertion (A : यदि वातकफ ज्वर रोगी तृष्णा महसूस करता है तो अल्प मात्रा में उष्ण जल सेवन दिया जा सकता है Reason (R) : उष्णोदक कफ का विलय करेगा और अग्नि का वर्धन करेगा।
Assertion (A: if a patient with vāta kapha jvara feels thirsty then warm water in small quantities can be given Reason(R): ushnodaka causes kapha reduction and agni vardhana

6 / 128

घृताभ्यक्तो रसौदनम् किस ज्वर की चिकित्सा है ?
"Ghrutabhyakto rasaudanam" is the treatment of which jwara ?

7 / 128

सुश्रुत अनुसार अतिलंघन का उपद्रव है -
According to Sushrut, complication of atilanghan is -

8 / 128

सुश्रुत मतानुसार ज्वर में घृतपान कितने दिन पश्चात् करना चाहिए ?
According to Sushrut, ghrutapan should be done in jwara after how many days ?

9 / 128

उदकांशात्र्या: क्षीरं शिंशपासारसंयुक्तं | तत् क्षीरदोषं क्वथितं पेयम् | | सुश्रुत ने किस रोग की चिकित्सा में कहा है ?
"udakanshaatryaa kshiram shinshapasarasanyuktam , tta kshiradosham kwatthitam peyam" is said by Sushrut for treatment of which disease ?

10 / 128

पिपल्यादि कषायन्तु ........ परिपाचनं
"Pipplyadi kashayantu ......... paripachanam"

11 / 128

वेपथुर्वीषमो वेग: कण्ठौष्ठ परिशोषणं किस ज्वर का लक्षण है ?
"Vepathu vishamo vegah kanthoshtha parishoshanam" is the symptom of which jwara ?

12 / 128

संहृष्टरोमा स्त्रस्ताङ्गो मन्दसन्तापवेदनः किस ज्वर का लक्षण है ?
"Sanhrushtaroma strastango mandasantapavedan" is the symptom of which jwara ?

13 / 128

द्वौ कालानुवर्तते किस ज्वर के सम्बन्ध में कहा गया है ?
"dwo kalanuvartate" is said in relation with which jwara ?

14 / 128

सुश्रुत अनुसार समसन्निपातिक ज्वर और समसन्निपातिक अतिसार में प्रथमतः किसकी चिकित्सा करनी चाहिए ?
According to Sushruta, treatment of which of the following should be done first in Samasannipātika Jwara & Samasannipātika Atisāra ?

15 / 128

मृदौ ज्वरे लघौ प्रचलेषु मलेषु च किस ज्वर का लक्षण है ?
"Mrudo jware laghau prachaleshu maleshu ch" is the symptom of which jwara ?

16 / 128

सर्वविकराणामयं राजा किस व्याधि के लिए कहा गया है ?
"Sarva vikaranamayam raja" is said for which disease ?

17 / 128

सुश्रुत अनुसार प्रकुपित दोष अस्थि एवं मज्जा धातु में आश्रित होकर किस ज्वर को उत्पन्न करते है ?
According to Sushrut, violated dosh resides in asthi and majja dhatu to develop which jwara ?

18 / 128

किस स्थिति में जलौका से रक्तमोक्षण कराने का निर्देश किया है ?
Raktamokshana with Jalukā is indicated in which condition ?

19 / 128

क्षतक्षीणे क्षये श्वासे हृद्रोगे चैतदिष्यते किस योग की फलश्रुति है ?
*Kshatakshine kshaye shwase hrudroge chaitadishyate" is the beneficiary of which yog ?

20 / 128

ओजोनिरोधज सन्निपातिक ज्वर में किस दोष का प्राधान्य होता है ?
Which dosh is predominant in ojonirodhaj sannipatik jwara ?

21 / 128

कफपित्त ज्वर में प्रयुक्त शर्कराकुटकी योग का अनुपान क्या है ?
What is the anupan of sharkarakutaki yog used in kaphapittaj jwara ?

22 / 128

सुश्रुत के अनुसार नवज्वर में वर्जनीय है
According to Sushrut, contraindicated in nava jwara is -

23 / 128

जब मल कोष्ठ में पहुँच कर पक गए हो एवं स्त्रोतस में रुक गए हो तो ज्वर से पीड़ित व्यक्ति में कौनसी चिकित्सा करनी चाहिए ?
What treatment should be done in jvara when mala gets pakva in koshtha and gets stagnated in srotasa

24 / 128

सुश्रुत के अनुसार "वक्त्रवैरस्यं" किस ज्वर का लक्षण है ?
According to Sushrut, "vaktravairasya" is the symptom of which jwara ?

25 / 128

सुश्रुत अनुसार वातज ज्वर में किस कषाय का प्रयोग करना चाहिए ?
According to Sushrut, which kashay should be used in Vataj jwara ?

26 / 128

सुश्रुतोक्त प्रह्लादन तैल में तिल और काँजी का अनुपात है
According to Sushrut, ratio of tail & kanji in pralhadan tail is -

27 / 128

जीर्ण ज्वर में वर्णित लाक्षादि तैल के निर्माण हेतु तिल तैल से कितना गुना तक्र का प्रयोग करना चाहिए ?
In the formation of Lakshadi tail mentioned in jirna jwara, takra should be used how many as that of Til tail ?

28 / 128

इच्छाद्वेषौ मुहुश्चापि शीतवातातपादिषु किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"Icchadwesho muhushchapi shitavatatapadishu" is the purvaroop of which disease ?

29 / 128

ज्वर उपद्रव से युक्त पुरुष के व्रण की साध्यासाध्यता होती है -
Sadhyasadhyata of vrana of purusha having complication of jwara is -

30 / 128

हीनदोष प्रकोप से तीन दिन तक आने वाले ज्वर की साध्यासाध्यता होती है -
What is the sādhyāsādhyatā of fever that lasts for three days due to hīna dosha prakopa

31 / 128

ज्वर में पक्व दोषो का निर्हरण क्रम है -
Nirharan krama of pakva dosh in jwara is -

32 / 128

मूर्च्छा शिरोरुग् वमथु: क्षव: किस ज्वर का लक्षण है ?
"Murccha shirorug vamathu kshava" is the symptom of which jwara ?

33 / 128

सुश्रुत अनुसार अभिन्यास ज्वर की साध्यासाध्यता बताई गयी है -
According to Sushrut, Sadhyasadhyata of abhinyaas jwara is said as -

34 / 128

हुताशन शब्द किसके लिए आया है ?
The word "Hutashan" has been said for ?

35 / 128

वातज ज्वर के पूर्वरूप में क्या चिकित्सा की जानी चाहिए ?
What treatment should be done in the purvaroop of vataj jwara ?

36 / 128

निम्नलिखित में से कौन सा लक्षण ज्वरमुक्त का नहीं है ?
Which of the following is not a symptom of Jvara mukti

37 / 128

सुश्रुत अनुसार वर्धमानपिप्पली का प्रयोग किस ज्वर में निर्दिष्ट है ?
According to Sushrut, use of Vardhaman pippali is indicated in which jwara ?

38 / 128

मध्यदोष प्रकोप में ज्वर का वेग कितने दिन तक बना रहता है ?
In madhyadosh prakop, episode of jwara persists for how many days ?

39 / 128

मन्दाग्नि व तृष्णा से पीड़ित ज्वरी व्यक्ति में चिकित्सा हेतु किसका सेवन कराना चाहिए ?
Intake of which of the following should be done in a patient of jwara having mandaagni & trushna ?

40 / 128

औषधिगन्धजन्य ज्वर में किस दोषशामक चिकित्सा का विधान है ?
Which doshashamak chikitsa is indicated in aushadigandhajanya jwara ?

41 / 128

सुश्रुत अनुसार वातज ज्वर में अनुवासन के लिए निषिद्ध स्नेह कौनसा है ?
According to Sushrut, which sneha is contraindicated for anuvasan in Vataj jwara ?

42 / 128

शम्भूक्रोध उद्भावो घोरो बलवर्णाग्निसादक: किस व्याधि के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Sambhukrodh udbhavo ghoro balavarnaagnisadakah" is said in relation to which disease ?
ed

43 / 128

अंतक रोगसंकरम कौनसे ज्वर के लिए प्रयुक्त हुआ है ?-
Antak rogasankaram is used for which Jwara ?

44 / 128

प्रह्लादन तैल में तिल और कांजी का अनुपात कितना होता है ?
Ratio of Tila and Kānjī in Pralhādana Taila is -

45 / 128

तृतीयक एवं चतुर्थक ज्वर में किस दोष का आधिक्य होता है ?
Which dosh is in excess in tritiyak and chaturthak jwara ?
ed

46 / 128

घ्राणकर्णााक्षिवदनवर्त्मरोगव्रणापहं किस योग के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Ghrana karna akshi vadan vartmaroga vranapaham" is said in relation with which yog ?

47 / 128

जन्मादौ निधने चैव प्रायो विशति देहिनम् किस व्याधि जे सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Janmado nidhane chaiva prayo vishati dehinam" is said in relation to which disease ?

48 / 128

पक्तिश्चिरेण दोषाणाम् उन्माद: श्यावदन्तता किस ज्वर का लक्षण है ?
"Paktishchirena doshanam unmada shyavadanta" is the symptom of which jwara ?

49 / 128

सुश्रुत अनुसार किस क्वाथ का प्रयोग कफज ज्वर में नहीं किया जाता है ?
According to Sushrut, which kwath is not used in kaphaj jwara ?

50 / 128

सुश्रुत के अनुसार गम्भीर ज्वर का लक्षण नही है
According to Sushrut, not a symptom of gambir jwara is -

51 / 128

नलादि क्वाथ का प्रयोग किस ज्वर में प्रयुक्त करते है ?
Use of nalaadi kwatha is done in which jwara ?

52 / 128

पिण्डीकोद्वेष्टनं तृष्णा सृष्टमूत्रपुरीषता किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Pindiko udveshtanam trushna srushtamutrapurishata" is the symptom of which dhatugat jwara ?

53 / 128

उपवासश्रमकृते क्षीणे वाताधिके ज्वरे इस अवस्था में किस चिकित्सा का प्रयोग करना चाहिए ?
"Upvasashramakrute kshine vaatadhike jware" in this condition which treatment should be used ?

54 / 128

प्रलेपक ज्वर किस दोष की अधिकता से उत्पन्न होता है ? (सुश्रुत)
Pralepak jwara occurs due to the excess of which dosh? (Sushrut)

55 / 128

सुश्रुत अनुसार विषम ज्वर में प्रातः काल किस द्रव्य के स्वरस का घृतपान करना चाहिए ?
According to Sushrut, ghrutapan of which dravya swaras should be done in the morning in visham jwara ?

56 / 128

घोरं अंतक रोगसंकरम् कौनसे ज्वर के लिए प्रयुक्त हुआ है ?
"Ghoram antak rogasankaram" is used for which jwara ?

57 / 128

शोष रोगियों के प्राणों का नाशक किस ज्वर को कहा गया है ?
Which jwara is called as prāna nāshaka of shosha patients ?

58 / 128

नात्युष्णगात्रता च्छर्दिरङ्गसादो अविपाकता किस ज्वर का लक्षण है ?
"Natyushnagatrata chhardirangasado avipakata" is the symptom of which jwara ?

59 / 128

सुश्रुत अनुसार प्रकुपित दोष मेदोधातु में आश्रित होकर किस ज्वर को उत्पन्न करते है ?
According to Sushrut, violated dosh resides in med dhatu to develop which jwara ?

60 / 128

हृदयोत्क्लेश: सदनं छर्दि अरोचकौ किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Hrudyo utklesha sadanam chhardi arochako" is the symptom of which dhatugat jwara ?

61 / 128

कफज ज्वर की पूर्वरूपावस्था में क्या चिकित्सा की जानी चाहिए ?
What treatment should be done in the purvaroop condition of kaphaj jwara ?

62 / 128

हीनदोष प्रकोप में ज्वर का वेग कितने दिनों तक बना रहता है ?
In hindosh prakop, episode of jwara persists for how many days ?

63 / 128

कटी व पृष्ठ की जकडाहट से पीड़ित और प्रदीप्त अग्नि वाले ज्वरी व्यक्ति में क्या चिकित्सा करनी चाहिए ?
What treatment should be done to a patient of jwara suffering from stiffness of katī and prushtha and having pradīpta agni ?

64 / 128

निर्भुग्ने कलुषे नेत्रे कर्णा शब्दरुगन्वितौ किस ज्वर का लक्षण है ?
"Nirbhugne kalushe netre karna shabdarugvinto" is the symptom of which jwara ?

65 / 128

........... अहोरात्र एककालं प्रवर्तते
"......... ahoratra ekakalam pravartate"

66 / 128

. "तमःप्रवेशनं हिक्का कासः शैत्यं वमिस्तथा" किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Tama praveshanam hikka kasa shaityam vamistatha" is the symptom of which dhatugat jwara ?

67 / 128

पद्मकादि कषाय का प्रयोग किस ज्वर में निर्दिष्ट है ?
Use of padmakadi kashay is indicated in which jwara ?

68 / 128

निम्न में से पञ्चसार में किसका समावेश नहीं है ?
Which of the following is not included in panchasaar ?

69 / 128

सुश्रुत अनुसार पित्तोल्वण ज्वरमुक्ति अथवा मारकता काल है -
According to Sushrut, time period of pittolvan jwarmukti or marakta is -

70 / 128

सुश्रुत अनुसार अभिशापज ज्वर का लक्षण है -
According to Sushrut, symptom of Abhishāpaja Jwara is -

71 / 128

सुश्रुत अनुसार जीर्ण ज्वर में किस घृत का प्रयोग निर्दिष्ट है ?
According to Sushrut, which ghrut is Indicated in jirna jwara ?

72 / 128

सुश्रुत अनुसार कितने दिन के अनन्तर ज्वरघ्न कषाय का प्रयोग करना चाहिए ?
According to Sushruta, jwaraghna kashāya should be used under how many days ?

73 / 128

सन्निपातज ज्वर की पूर्वरूपावस्था में स्नेहन एवं संशोधन के अयोग्य व्यक्ति में क्या चिकित्सा की जानी चाहिए ?
In the purvaroop condition of sannipataj jwara, what treatment should be done in a person contraindicated for snehan & sanshodhan ?

74 / 128

जो ज्वर बिना उतरे 7 दिन/10 दिन/12 दिन तक बना रहे उसे कहते हैं ?
Jwara without leaving stays for 7 days / 10 days / 12 days is called as ?

75 / 128

पञ्चमूली कषाय का पाचन हेतु प्रयोग किस ज्वर में करना चाहिए ?
Use of panchamooli kashay for pachan should be done in which jwara ?

76 / 128

भूताभिषङ्गोत्थ मानसज्वर में क्या चिकित्सा की जानी चाहिए ?
What treatment should be done in bhutabhishangottha manasajwar ?

77 / 128

वेगस्तीक्ष्णो अतिसारश्च निद्राSल्पत्वं तथा वमि: किस ज्वर का लक्षण है ?
"Vegastikshno atisarashch nidra alpatvan tatha vami" is the symptom of which jwara ?

78 / 128

पंचकोल घृत का प्रयोग किस ज्वर में निर्दिष्ट है ?
Use of panchakol ghrut is Indicated in which jwara ?

79 / 128

शेफस: स्तब्धता मोक्ष: किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Shefasa stabdhata moksha" is the symptom of which dhatugat jwara ?

80 / 128

चित्तविभ्रंश किस ज्वर का लक्षण है ?
Chittavibhrash is the symptom of which jwara ?

81 / 128

हृस्वमूल यूष का प्रयोग किस दोषज ज्वर में पथ्य माना गया है ?
Use of hrusvamool yush is considered beneficial in which doshaj jwara ?

82 / 128

ज्वर के पूर्वरूप में जृम्भा किस दोष की प्रबलता से होती है ?
In the purvaroop of jwara, jrumbha occurs due to dominance of which dosh ?

83 / 128

मुस्तक, कुटकी व इन्द्रयव के कषाय में क्षौद्र मिला कर सेवन कराने से किस ज्वर का पाचन होता है ?
Intake of mustak, kutaki and indrayav kashay mixed with kshaudra leads to pachan of which jwara ?

84 / 128

निद्रोपेत् ........ , क्षीणमेनं ........ सन्निपतिक ज्वर के विषय मे सही विकल्प का चयन करें ।
"Nidropet ....... , Kshinamen ........" select the correct option with subject to sannipatik jwara .

85 / 128

. सुश्रुत अनुसार विषम ज्वर के कितने आगमन काल माने गए है ?
According to Sushrut, how many arrival period ( aagaman kaal ) are mentioned of visham jwara ?

86 / 128

स्वेदश्छर्दनविभ्रमौ किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Swedashchhardanavibhramo" is the symptom of which dhatugat jwara ?

87 / 128

दोष: स्वल्पोSपि संवृद्धो देहिनामलेरित: किस ज्वर की सम्प्राप्ति है ?
"Dosha swalpo api sanvruddho dehinaamlerit" is the smprapti of which jwara ?

88 / 128

वातज ज्वर हेतु प्रयुक्त गुडूच्यादि स्वरस में गुडूची स्वरस एवं शतावरी स्वरस का क्रमश: अनुपात है -
Ratio of guduchi swaras and shatavari swaras in guduchyadi swaras used in Vataj jwara respectively is -

89 / 128

औपत्यक एवं मद्यज ज्वर में कारणीभूत दोष है -
Causative dosh in aaupatyak & madyaj jwara is -

90 / 128

दोषा: प्रकुपिता: स्वेषु कालेषु स्वै: प्रकोपणै: व्याप्य देहमशेषेण किस व्याधि की सम्प्राप्ति के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Dosha prakupita sweshu kaleshu swey prakopanay vyapya dehamsheshen" is said for smprapti of which disease ?

91 / 128

मुहुर्दाहो मुहु: शीतं किस ज्वर का लक्षण है ?
"muhurdaho muhu shitam" is the symptom of which jwara ?

92 / 128

सुश्रुत के अनुसार लंघन के अयोग्य ज्वर है
According to Sushrut, jwar contraindicated for langhan is -

93 / 128

अभक्तरूक् पिपासा च तोदो मूर्च्छा बलक्षय: किस ज्वर का लक्षण है ?
"Abhaktaruk pipasa ch todo murccha balakshay" is the symptom of which jwara ?

94 / 128

स्वेदावरोध सन्ताप: सर्वांगग्रहण तथा किस व्याधि के लक्षण है ?
"Svedāvarodha Santāpah Sarvāngagrahana Tathā" is the symptom of which disease ?

95 / 128

दोषोSल्पोहितसम्भूतो ज्वरोत्सृष्टस्य वा पुनः किस ज्वर की सम्प्राप्ति के सम्बन्ध में कहा गया है ?
"Dosho alpohitasambhuto jwarotsrushtasya va punah" is said in relation to smprapti of which jwara ?

96 / 128

सुश्रुत अनुसार विषम ज्वर में किस घृत का प्रयोग करना चाहिए ?
According to Sushrut, which ghrut should be used in visham jwara ?

97 / 128

दौर्गन्ध्यारोचकौ ग्लानि च असहिष्णुता किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Daurgandhya arochako glani ch asahiushnata" is the symptom of which dhatugat jwara ?

98 / 128

निम्न में से किस अवस्था में यवागु का प्रयोग निषिद्ध है ?
In which of the following condition use of yavagu is contraindicated ?

99 / 128

तिक्त सिद्ध शीतल जल प्रयोज्य है
Tikta siddha jala is used -

100 / 128

सुश्रुत अनुसार ज्वर के कितने भेद बताए गए है ?
According to Sushrut, how many types of jwara are mentioned ?

101 / 128

स्वेदावरोध: सन्ताप: सर्वांगग्रहणं तथा किसका सामान्य लक्षण है ?
"Swedavarodh santap sarvangagrahanam tatha" is the common symptom of ?

102 / 128

सुश्रुत के अनुसार विषम ज्वर में पथ्य है
According to Sushrut, pathya is visham jwara is -

103 / 128

तृष्णा मूर्च्छा भ्रमो दाहः स्वप्ननाश: शिरोरूजा किस ज्वर का लक्षण है ?
"Trushna murccha bhramo daha swapnanash shiroruja" is the symptom of which jwara ?

104 / 128

आमाशयस्थे दोषे तु सोत्क्लेशे ......... परं ज्वर चिकित्सा हेतु सही विकल्प चुनिए।
Select the correct option for jwar chikitsa - "aamashayasthe doshe tu sotkleshe ....... param"

105 / 128

अन्तर्दाहो महाश्वासो मर्मच्छेद सुश्रुत के अनुसार किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
According to Sushrut, "Antardaho mahashwaso marmachheda" is the symptom of which dhatugat jwara ?
ed

106 / 128

. "शस्यते नष्टशुक्राणां बंध्यानां गर्भदं परं" किस योग के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Shasyate nashtashukranam bandhyanam garbhadam param" is said in relation to which yog ?

107 / 128

ज्वर कि एकांतिक (एकाहीक ) चिकित्सा है -
Solitary treatment of Jwara is -

108 / 128

नागरादि क्वाथ का प्रयोग किस ज्वर में किया जाना चाहिए ?
Use of Nagraadi kwatha should be done in which jwara ?

109 / 128

सुश्रुत अनुसार प्रकुपित दोष किस धातु में आश्रित होकर सन्तत ज्वर को उत्पन्न करते है ?
According to Sushrut, violated dosh resides in which dhatu to form santat jwara ?

110 / 128

उद्वेग हास्य कम्पन रोदनं किस ज्वर का लक्षण है ?
"Udveg hasya kampan rodanam" is the symptom of which jwara ?

111 / 128

श्रीपण्र्यादि क्वाथ का प्रयोग किस ज्वर को नष्ट करता है ?
Use of Shripanryadi kwath destroys which jwara ?

112 / 128

शिरोग्रह: प्रतिश्याय: कासः स्वेदाप्रवर्तनम्' किस ज्वर का लक्षण है ?
Shirograha pratishyay kasa sweda apravartanam" is the symptom of which jwara ?

113 / 128

खरजिह्व: शुष्ककण्ठ: स्वेदविण्मूत्रवर्जित: किस ज्वर का लक्षण है ?
"Kharajihva shushkakantha swedavinmutravarjit" is the symptom of which jwara ?

114 / 128

लघुत्वं शिरसः स्वेदो मुखमापाण्डु पाकि च किसका लक्षण है ?
"laghutvam shirasa swedo mukhmapandu paki ch" is the symptom of ?

115 / 128

विबद्ध: सृष्टदोषश्च रूक्ष: पित्तानिलज्वरी इस अवस्था में किसका प्रयोग करना चाहिए ?
"Vibaddha srushtadoshashch ruksha pittaanilajwari" in this condition what should be used ?

116 / 128

. सुश्रुत अनुसार वातोल्बण ज्वरमुक्ति अथवा मारकता काल है -
According to Sushrut, time period of vaatolban jwarmukti or marakta is -

117 / 128

विक्षेपणं च गात्राणां किस धातुगत ज्वर का लक्षण है ?
"Vikshepanam ch gatranam" is the symptom of which dhatugat jwara ?

118 / 128

तीक्ष्णे ज्वरे गुरौ देहे विबद्धेषु मलेषु च किस ज्वर का लक्षण है ?
"Tikshane jware guro dehe vibaddheshu maleshu ch" is the symptom of which jwara ?

119 / 128

दर्शनस्पर्शनाभ्यां च सर्वरोगहरं शिवम्। अधृष्य: सर्वभूतानां वलिपलितवर्जित:।। किस योग के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Darshanasprashanabhyam ch sarvarogaharam shivam , adhrushya sarvabhutanam valipalitvarjit" is said in relation with which yog ?

120 / 128

सप्तच्छदादि क्वाथ का प्रयोग किस ज्वर में किया जाना चाहिए ?
Saptachchhadadi kwath should be used in which jwara ?

121 / 128

पटोलनिम्बयूषस्तु पथ्य: ............. | ज्वर चिकित्सार्थ पथ्य पालन हेतु सही विकल्प चुनिए।
"Patolanimbayushastu pathya .......... " Select the correct option for following pathya is the treatment of jwara.

122 / 128

सुश्रुत अनुसार महाकल्याणक घृत का निरन्तर सेवन करने से व्यक्ति कितने वर्ष की आयु प्राप्त करता है ?
According to Sushrut, a person gains how many years of life by regular intake of Mahakalyanak ghrut ?

123 / 128

सुश्रुत के अनुसार प्रलेपक ज्वर का वेग रहता है
According to Sushrut, attack of pralepak jwara is -

124 / 128

वातपित्तजन्य ज्वर में पथ्य है -
Beneficial ( pathya ) in vaatpittaj jwara is -

125 / 128

. "सरुजेSनिलजे कार्यं स उदावर्ते ............. "
"Saruje anilaje karyam sa udavarte ........ "

126 / 128

सुश्रुत अनुसार ज्वर की एकांतिक ( एकाहिक ) चिकित्सा है -
According to Sushrut, exclusive ( ekantika ) treatment of jwara is -

127 / 128

ज्वर रोगी में भ्रम की अवस्था उत्पन्न होने पर क्षौद्र, सिता एवं अभया का किस रूप में प्रयोग करना चाहिए ?
Kshaudra, sita and abhaya should be used in which form for a patient of jwara with condition of bhrama ?

128 / 128

सुश्रुतानुसार अभिघात ज्वर चिकित्सा में वर्ज्य है -
According to Sushrut, contraindicated in the treatment of abhighat jwara is -

Your score is

The average score is 54%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *