Skip to content
Home » Kaasapratiṣēdh Adhyāyaḥ

Kaasapratiṣēdh Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
14

52. Kaasapratiṣēdh Adhyāyaḥ

1 / 32

सुश्रुत अनुसार कल्याणक गुड़ का प्रतिदिन कितने प्रमाण में सेवन करना चाहिए ?
According to Sushrut, intake of kalyānaka guda should be done in how much quantity everyday ?

2 / 32

वासापत्र स्वरस से सिद्ध किये हुए घृत का सेवन करने से कौनसा कास नष्ट होता है ?
Intake of siddha ghruta from vāsā swarasa destroys which kāsa ?

3 / 32

फलत्रिकादिचूर्ण का प्रयोग किस व्याधि में करने का निर्देश है ? ( सुश्रुत )
Use of phalatrikādichūrna is indicated in which disease ? ( Sushrut )

4 / 32

कल्याणक गुड़ है -
Kalyānaka guda is -

5 / 32

विश्लिष्टवक्षा: स नरः सरक्तं ष्ठीवत्यभीक्षणं निम्न में से किस कास के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Vishlishtavaksāh sa narah saraktam shthīvatyabhīksvanam" is said in relation with which of the following kāsa ?

6 / 32

निम्न में से कौनसा घृत पाँचों प्रकार के कास को नष्ट करता है ?
Which of the following ghruta destroys all the five types of kāsa ?

7 / 32

विदारीगन्धादि घृत का प्रयोग किस कास में करने का निर्देश है ?
Use of vidārīgandhādi ghruta is indicated in which kāsa ?

8 / 32

सुश्रुत अनुसार क्षवथु वेग विधारण से कौनसा रोग होता है ?
According to Sushrut, which disease occurs due to retention of ksavathu vega ?

9 / 32

सुश्रुत अनुसार वेण्वादिवर्ति का रोगाधिकार है -
According to Sushrut, rogādhikāra of venvādivarti is -

10 / 32

सुश्रुत अनुसार वृद्धावस्था में उत्पन्न कास की साध्यासाध्यता होती है -
According to Sushrut, sādhyasādhyatā of kāsa occurring in old age is -

11 / 32

कुलीरादि घृत का रोगाधिकार है -
Rogādhikāra of kulīrādi ghruta is -

12 / 32

कांस्यस्वनतुल्यघोष किस व्याधि में होता है ?
"Kansyaswanatulyaghosh" is seen in which disease ?

13 / 32

सुश्रुत अनुसार कास व्याधि के कितने भेदों का वर्णन किया गया है ?
According to Sushrut, how many types of kāsa disease are being mentioned ?

14 / 32

गलतालुलेपः निम्न में से किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
"Galatālulepah" is the pūrvarūpa of which of the following disease ?

15 / 32

हिंगु का कोल प्रमाण में कांजी के साथ प्रयोग किस रोग की चिकित्सा में किया जाता है ?
Use of hingu in kola pramāna with kanjī is done in the treatment of which disease ?

16 / 32

सुश्रुत अनुसार निम्न में से कास का भेद नही है -
Of the following, not a type of kāsa according to Sushrut is -

17 / 32

कफज कास में सर्वप्रथम प्रयुक्त चिकित्सा उपक्रम है -
Primary treatment used in kaphaja kāsa is -

18 / 32

कांस्यस्वनतुल्यघोष: किस व्याधि में पाया जाता है ?
"Kānsyasvanatulyaghoshah" is seen in which disease ?

19 / 32

निरेति वक्त्रात्सहसा सदोष:' किस व्याधि से सम्बंधित है
"Nireti vaktratsahasa" is related to which disease ?
ed

20 / 32

निम्न में से "स्वशब्दवैषम्यं अरोचकोsग्निसादश्च" किस व्याधि का पूर्वरूप है ?
Of the following, "swashabdavaishamyam arochakoagnisādashcha" is the pūrvarōpa of which disease ?

21 / 32

पुंस्त्वस्य च वृद्धिहेतु:। स्त्रीणाञ्च वन्ध्याSSमयनाशनः किस योग के सन्दर्भ में कहा गया है ? ( सुश्रुत )
"Punstvasya ch vruddhihetuah , strīnāncha vandhyā āmayanāshanah" is said in relation to which yoga ?

22 / 32

भृशदुश्चिकित्स्यं किस कास के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Bhrusha dushchikitsyam" is said in relation with which kāsa ?

23 / 32

पञ्चकास नाशक घृत है -
Panchakāsa nāshaka ghruta is -

24 / 32

प्रसक्तमन्त: कफमीरणेन निम्न में से किस कास का लक्षण है ?
"Prasaktamantah kaphamīrena" is the symptom of which of the following kāsa ?

25 / 32

शिरोरुजा किस कास का लक्षण है ? ( सुश्रुत )
Shirorujā is the symptom of which kāsa ? ( Sushrut )

26 / 32

प्लीहारोगचिकित्साधिकार में कहे हुए षडङ्ग घृत को किस प्रकार के कास में प्रयुक्त करना चाहिए ?
Shadanga ghruta said in plīhārogachikitsādhikāra is used in which type of kāsa ?

27 / 32

क्षीणबलस्वरौजा: निम्न में से किस कास का लक्षण है ?
"Ksīnabalaswaraujā" is the symptom of which of the following kāsa ?

28 / 32

कास में प्रयुक्त आमलक चूर्ण का अनुपान क्या है ? ( सुश्रुत )
What is the anupāna of Āmalaka churna used in kāsa ?

29 / 32

पित्तज एवं क्षतज कास में किस गण के द्रव्यों का क्वाथ निर्माण कर प्रयोग किया जाना चाहिए ? ( सुश्रुत )
Dravyas of which gana should be used through kwātha formation in pittaja and ksataja kāsa ?

30 / 32

एक व्यक्ति के मुख का स्वाद निरन्तर तिक्त रहता है तथा उसका शरीर पाण्डु वर्ण हो गया है , तो वह किस प्रकार के कास से पीड़ित हो सकता है ?
A person continuously having the taste of mouth as Tikta and his body colour is pāndū then he is suffering from which kāsa
wait

31 / 32

निम्न में से कास व्याधि का हेतु है -
Of the following, cause of kāsa disease is -

32 / 32

सुश्रुत अनुसार अगस्त्यावलेह का प्रतिदिन कितनी मात्रा में सेवन करना चाहिए ?
According to Sushrut, Agastyāvaleha should be taken in which quantity daily ?

Your score is

The average score is 75%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *