Skip to content
Home » Karṇagatarōgapratiṣēdh Adhyāyaḥ

Karṇagatarōgapratiṣēdh Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
20

21. Karṇagatarōgapratiṣēdh Adhyāyaḥ

1 / 51

दीपिका तैल का घटक द्रव्य है
Ingredient of Dīpikā taila is -

2 / 51

गुग्गुल द्वारा कर्णधूपन किस रोग कि चिकित्सा मे वर्णित है ?-
Karnadhūpana with Guggula is mentioned in the treatment of which of the following ?

3 / 51

. पित्तज कर्णशूल की चिकित्सा हेतु काकोल्यादि गण के द्रव्यों में कितना गुना क्षीर मिलाकर प्रयोग करना चाहिए ?
For the treatment of pittaja karnashūla , how many times kshīra should be added in dravyas of kākolyādi gana ?

4 / 51

गुग्गुल द्वारा कर्णधूपन किस रोग की चिकित्सा में वर्णित है ?
Karnadhupan with guggul is mentioned in the treatment of which roga ?

5 / 51

सुश्रुत मतानुसार बिल्वादि तैल से कर्णपूरण इंगित है -
According to Sushruta, Karnapūrana with Bilvādi taila is indicated in -

6 / 51

कृमिकर्ण में निम्न में से किस तैल का प्रयोग किया जाना चाहिए ?
Use of which of the following tail is used in krumikarna ?

7 / 51

गोमूत्र में हरताल चूर्ण मिलाकर कर्णपूरण करने से कौनसा कर्णगत रोग नष्ट होता है ?
Karnapuran with hartal churna mixed with gomutra destroys which karnagat disorder ?

8 / 51

लाक्षारसाञ्जनं सर्जश्चूर्णितं कर्णपूरणम्। किस कर्णगत रोग की चिकित्सा है ?
"Laksharasanjan sarjashchurnitam karnapuranam" is the treatment of which karnagat disorder ?

9 / 51

क्लेदन, स्वेदन और शोधन यह निम्न में से किस कर्ण रोग का चिकित्सा क्रम हैं ?
Kledan, swedan and shodhan is the sequence of treatment in which karnarog ?

10 / 51

कर्णशूल में पथ्य नही है
What is not pathya in karnashoola?

11 / 51

दीपिका तेल निर्माणार्थ किस काष्ठ का प्रयोग होता है ?
Which kashtha is used in formation of Dipika tail ?

12 / 51

अश्वत्थपत्र तैल का प्रयोग निर्दिष्ट है -
Use of ashvatthapatra tail is indicated in -

13 / 51

अर्काङ्कुर स्वरस का रोगाधिकार है -
Rogadhikar of arkankura swaras is -

14 / 51

पित्तज विसर्पवत् किसकी चिकित्सा करते है ?
Pittaj visarp like Chikitsa is done for which of the following ?

15 / 51

बाधिर्य की चिकित्सार्थ किन अन्य व्याधियों के चिकित्सा उपक्रमो का प्रयोग किय़ा जा सकता हैं ?
For badhirya treatment, line of treatment of which other diseases can be applied ?

16 / 51

किस कर्णगत रोग में कर्णशूल समान चिकित्सा निर्दिष्ट है ?
In which karnagat disorder, similar treatment is indicated as that of karnashoola ?

17 / 51

काकोल्यादौ दशक्षीरं तिक्तं चात्र हितं हवि किस कर्णशूल की चिकित्सा है ?
"Kakolyadau dashakshīram tiktam chātra hitam havi" is the treatment of which karnashoola ?

18 / 51

इंगुदी एवं सर्षप तैल का प्रयोग किस दोषज कर्णशूल में निर्दिष्ट है ?
Use of ingundi and sarshap tail is indicated in which doshaj karnashoola ?

19 / 51

कर्णस्राव की चिकित्सार्थ कर्ण में छिडकने हेतु उपयोगी मिश्रण है-
Combination used to sprinkle in karna for the treatment of karnastrāva is -

20 / 51

दीपिका तैल का रोगाधिकार है .....
Rogadhikar of Dipika tail is ........

21 / 51

कर्णकण्डु में किस दोषनाशक चिकित्सा का प्रयोग करना चाहिए ?
Which doshanashak treatment should be used in karnakandu ?

22 / 51

प्रतिश्याय समान चिकित्सा किस कर्णरोग में करना चाहिए ?
In which karnarog, similar treatment should be done as that of pratishyay ?

23 / 51

स कर्णविट्को द्रवतां यदा गतो विलायतो घ्राणमुखं प्रपद्यते किस व्याधि का लक्षण है ?
"Sa karnavitko dravatān yadā gato vilāyato ghrānamukham prapadyate" is the symptom of which disease ?

24 / 51

दीपिका तैल का घटक द्रव्य है .......
Ghatak dravya of Dipika tail is ........

25 / 51

कफज कर्णशूल में किस गण के द्रव्य के कषाय से सिद्ध तैल का प्रयोग करना चाहिए ?
In kaphaja karnashūla, oil prepared with which dravya kashāya gana is used

26 / 51

कफहृतसर्व किसकी चिकित्सा के लिए कहा गया है ?
"Kaphahrutasarva" is said for the treatment of ?

27 / 51

सामान्यं..........घृतपानं रसायनं ।
"Samanyam .......... ghrutapanam rasayanam"

28 / 51

स्त्री दुग्ध में रसांजन को घिस कर मधु के साथ प्रयोग करना किसकी चिकित्सा है ?
Rasānjana rubbed in strī dugdha is used along with madhu in the treatment of ?

29 / 51

बिल्व तैल का प्रयोग निर्दिष्ट है -
Use of Bilvatail is indicated in -

30 / 51

कर्णक्षवेड् में किस तैल को कोष्ण करके कान में भरना उत्तम है ? सुश्रुत
In karnasved, which tail is considered best when it is lukewarm & applied in karna ?

31 / 51

सुरसादौ कृतं तैलं पंचमूले महत्यपि किसके सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Surasadau krutam tailam panchamoole mahatyapi" is said in relation to ?

32 / 51

. "नाडीस्वेदोSथ वमनं धूमो मूर्द्धविरेचनम्" किस कर्णगत रोग की चिकित्सा है ?
"Nadiswedoatha vamanam dhumo murddhavirechanam" is the treatment of which karnagat disorder ?

33 / 51

सुश्रुत अनुसार कर्णप्रक्षालनार्थ हितकर है -
According to Sushrut, beneficial for karnaprakshalan is -

34 / 51

अष्टविध मूत्र का प्रयोग किस कर्णरोग में करना चाहिए ?
Use of ashtavidh mutra should be done in which karnarog ?

35 / 51

कर्णशूल की सामान्य चिकित्सार्थ भोजन में कितनी बार पाक किया हुआ बलातैल प्रशस्त माना गया है ?
In the common treatment of karnashūla , ideally how many times pāka of balātaila is done in bhojana ?

36 / 51

पूतिकर्ण एवं कर्णस्त्राव की चिकित्सार्थ निर्दिष्ट कर्णपूरण कौनसा है ?
Karnapūrana indicated in pūtikarna and karnastrāva
ed

37 / 51

पित्तज विसर्पवत चिकित्सा किसमे करते है ?
Treatment similar to Pittaja Visarpa is done in -

38 / 51

वार्ताक धूम का प्रयोग किस कर्णगत रोग में निर्दिष्ट है ?
Use of vaartak dhooma is indicated in which karna disorder ?

39 / 51

सुश्रुत अनुसार कर्णशूल की चिकित्सार्थ घृतपान किस समय निर्दिष्ट है ?
According to Sushrut, for the treatment of karnashoola, ghrutapan is indicated during which time ?

40 / 51

सामान्यं कर्णरोगेषु........रसायनम् |
Samanyam karnarogeshu ........... rasayanam |

41 / 51

सुश्रुत मतानुसार, दुर्गन्धयुक्त कर्णस्त्राव कम करने के लिए कौनसे द्रव्य से धूपन किया जाता है ?
According to Sushruta, which of the following is used for Dhūpana Karma to reduce the foul smelling Karnastrāva ?

42 / 51

निरन्नो निशि तत्सर्पि: पीत्वोपरि पिबेत् पयः किस कर्णगत रोग की चिकित्सा है ?
"Niranno nishi tatsarpi pitvopari pibet paya" is the treatment of which karnagat disorder ?

43 / 51

कर्ण बाधिर्य में किस तैल द्वारा कर्णपूरण करते है ?
Karnapuran with which tail is done in karna baadhirya ?

44 / 51

स्त्री दुग्ध में रसांजन को घिस कर मधु के साथ मिलाकर कर्णपूरण करना किस व्याधि में प्रशस्त बताया गया है ?
Rasānjana rubbed in strī dugdha is used along with madhu for the purpose of karnapūrana is considered as ideal in which disease ?

45 / 51

दीपिका तैल निर्माणार्थ बृहत्पञ्चमूल को कितने प्रमाण में लेना चाहिए ?
In the formation of dipika tail , bruhatpanchmool should be taken in how much quantity ?

46 / 51

कर्णप्रक्षालनार्थ किसका प्रयोग करना चाहिए ?
What should be used for karnaprakshalan purpose ?

47 / 51

कुक्कुटवसा निर्माण हेतु किस क्षीर का प्रयोग किया जाता है ?
Which kshir should be used for the formation of kukkuta vasaa puran ?

48 / 51

दीपिका तैल निर्माणार्थ किसका काष्ठ प्रयोग किया जाता है ?
Which kashtha is used in the formation of dipika tail ?

49 / 51

स्नेहन, स्वेदन पश्चात् तीक्ष्ण नस्य द्वारा शिरोविरेचन का प्रयोग किस कर्णगत रोग में निर्दिष्ट है ?
Snehan, swedan and afterwards shirovirechan through tikshna nasya is indicated in which karnagat disorder ?

50 / 51

सुश्रुत मतानुसार रात्रि में अन्न का सेवन निषिद्ध तथा घृतपान पश्चात मंदोष्ण दुग्ध पिलाना किस रोग में बताया गया है ?
In which disease is it forbidden to eat food at night and drink diluted milk after ghrutapāna ?

51 / 51

कर्णपाक की चिकित्सा किसके समान करनी चाहिए ?
Treatment of karnapaak should be done similar to ?

Your score is

The average score is 82%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *