Skip to content
Home » Shonit Varaniya Adhayay

Shonit Varaniya Adhayay

0%
0 votes, 0 avg
51

14. Shonit Varaniya Adhayay

1 / 68

आर्तव है
Aartava is

2 / 68

..................... पुरुषं विद्यात्'' (सुश्रुत सूत्र १४)
"............... purusham vidhyāta"(Sushruta)

3 / 68

धातुक्षय वृद्धि किसके निम्मित होती है ?-
Dhātukshaya Vruddhi is because of -

4 / 68

सुश्रुत अनुसार रस से शुक्र धातु बनने में कितना समय लगता है
According to Sushruta how long does it take in the formation of shukra

5 / 68

रक्तमोक्षण का निषेध है
Raktamokshana is contraindicated in
ed

6 / 68

सुश्रुतानुसार रक्त मोक्षण से पूर्व देय है
What should be given before raktamokshana according to Sushruta

7 / 68

........ पुरुषं विद्यात् - सुश्रुत
.......... purusham vidhyāta (Sushruta)

8 / 68

तस्माद्ययत्नेन संरक्ष्यं........जीव इति स्थिति
Tasmādhyatanena samrakshyam........jīva iti sthiti

9 / 68

रक्त मे पृथ्वी महाभूत के कारण कौनसा गुण होता है
Which guna does blood has due to prithavī mahābhūta

10 / 68

सुश्रुतानुसार रक्त अतिस्राव को रोकने के उपाय निम्न में से हैं
According to Sushruta, what are the ways to stop excessive bleeding

11 / 68

अहरहर्गच्छति किस के लिए कहा गया है ?
"Aharahargacchati" is said for which of the following ?

12 / 68

हृदय से अधोमार्ग की ओर जाने वाली धमनियों की संख्या है
What is the number of dhamanis moving away from heart downwards

13 / 68

स्कन्दयते ......... |
“Skandayate..........”

14 / 68

शस्त्रविस्रावण कितने प्रकार से किया जाता है
Shastra Visrāvana is done in how many types

15 / 68

रजो दर्शन की आयु क्या है (सुश्रुत)
What is the age of rajo darshana(menstruation) according to Sushruta ?

16 / 68

रसादि सप्त धातुओं की क्षय वृद्धि ......... के अधीन होती है |
Kshaya vriddhi of rasādi seven dhatus depends on

17 / 68

रस जलसंतान की तरह ......... होता है |
Rasa is...............like jalasantāna

18 / 68

रस राग को प्राप्त किस स्थान पर होता है
Rasa rāga prāpti occurs in

19 / 68

सुश्रुत ने हृदय से निकलने वाली कितनी धमनियाँ मानी है
According to Sushruta how many dhamanis originate from heart

20 / 68

प्रच्छान विधि करते समय किसका बचाव करना चाहिए ?
What should be taken care while doing prachchāna

21 / 68

रक्त के गुण हैं
Guna of rakta are

22 / 68

रस का संवहन किस तरह होता है
How does “Rasa samvahana” happens

23 / 68

रस एक धातु में कितने समय तक ठहरता है
For how long Rasa stays in each dhātu

24 / 68

आचार्य सुश्रुत के अनुसार रस धातु से शुक्र बनने तक का समय है
According to Āchārya Sushruta how long does it take in the formation of shukra dhatu from rasa dhatu

25 / 68

तस्माद्ययत्नेन संरक्ष्यं .......जीव इति स्थिति
"Tasmādhyatnena samrakshyam........... jīva iti sthitī"

26 / 68

स्त्रियों में रज की प्रवृति किससे होती है
Raja pravriti in females is by

27 / 68

रक्त के अधिक स्रुत होने से अग्नि......हो जाती है
Due to excessive bleeding agni becomes........

28 / 68

......पुरुषं विद्यात्। रिक्त स्थान भरें
.........purusham vidhyāta. Complete the sentence

29 / 68

सुश्रुत अनुसार शस्त्र द्वारा रक्तविस्त्रावण के कितने भेद निर्दिष्ट किये गए है ?
According to Sushruta, how many types of Raktavistrāvana by Shastra is indicated?

30 / 68

गर्भ होता है
Garbha is

31 / 68

रक्त में विस्त्रता किसका गुण है
Visratā of rakta is guna of

32 / 68

सुश्रुत के अनुसार जो मनुष्य समय समय पर रक्तमोक्षण कराते है उन्हें कौनसे रोग उत्पन्न नहीं होंगे ?
People who get raktamokshana done regularly does not suffer from which diseases according to Sushruta

33 / 68

अनिष्ट पिपीलिकानां किस दोष से दूषित रक्त का लक्षण है ?
“Anishta pipīlikānām”is symptom of blood dushita due to which dosha

34 / 68

कांजिकाभं किस दोष दूषित रक्त का लक्षण है ?
“Kamjikābham “ is the symptom of which dosha dushita rakta ?

35 / 68

चिरस्त्रावी मांसपेशीप्रभ रक्त किसकी दुष्टि के कारण होता है
“Chirasrāvī māmsapeshīprabha” this type of blood is due to dushti of

36 / 68

रक्तविस्रावण के अयोग्य है
Contraindicated for Rakta Visrāvana are

37 / 68

रक्त के स्त्रुत होने पर (रक्तमोक्षण के बाद) अग्नि की क्या स्थिति होती है (सुश्रुत)
What is the status of agni after blood letting in raktamokshana

38 / 68

देहस्य रुधिरं मूलं रुधिरेणैव धार्यते कथन है?
"Dehasya rudhiram mūlam rudhirenaiva dhāryate" is the statement of -

39 / 68

रसाद्रक्तं ततो मांसं मांसान्मेद: प्रजायते यह सन्दर्भ है
“Rasādraktam tato māmsam māmsānmeda prajāyate” find the correct reference

40 / 68

…....... प्रतिपीतस्य शोणितं मोक्षयेत्भिषक्'
“................pratipītasya shonitam mokshyetabhishaka”

41 / 68

वाजीकरण औषधियाँ किस कारण विरेचक औषधियों की तरह शुक्र का शीघ्र विरेचन करती है
Vājīkarana aushadhis are able to do shukra virechana like virechaka aushadhis due to which reason

42 / 68

रिक्त स्थान भरे - "तस्माद्य यत्नेन संरक्ष्यं ........ जीव इति स्थिति"
Fill in the blank - "Tasmādya Yatnena Samrakshyam....... Jīva Iti Sthiti"

43 / 68

रक्त की परिभाषा किसने दी है
Definition of rakta is given by?

44 / 68

रक्त में "कांजिकाभं विशेषतो दुर्गन्धि" यह लक्षण किस दोष के कारण है
“Kānjikābham visheshto durgandhi”this symptom in blood is due to which dosha dushti

45 / 68

चिरस्त्रावी किस दोष से दूषित रक्त का लक्षण है?
Chirasrāvī is symptom of which vrana

46 / 68

अतिरक्त स्त्राव के उपद्रव बताये गए है -
Complication of excessive bleeding

47 / 68

यदि प्रच्छान करने से रक्त प्रवर्तित न हो तो क्या प्रयोग करना चाहिये
If blood does not come out with prachchāna then what should be used

48 / 68

संधान क्रिया से रक्त का स्तंभन न होने पर क्या करना चाहिए
What should be done if rakta stambhana does not happen with sandhāna kriyā

49 / 68

सुश्रुतानुसार पुरूषो में रस कितने समय में शुक्र में परिणत हो जाता है
According to Sushruta, how long does it takes for conversion of rasa into "Shukra".

50 / 68

सभी धातुओं का तर्पण किसके द्वारा होता है। (सुश्रुत)
Tarpana of all dhatus occurs by

51 / 68

निम्न में से किस स्थिति में मनुष्य का रक्त ठीक से नही निकलता है
In which of the following cases blood does not come out properly

52 / 68

स खलवाण्यो रसो .......... प्राप्य रागमुपैति | ( सुश्रुत )
“Sa khalvānyo raso...........prāpya rāgamupaiti”(Sushruta)

53 / 68

सम्यक् रक्तविस्रावण का लक्षण नही है
Which of the following is not a symptom of samyaka raktavisrāvana

54 / 68

तर्पयति, वर्द्धयति, धारयति, यापयति किसके कर्म है ?
Tarpati, Varddhayati, Dhārayati, Yāpayati are the Karma of -

55 / 68

सुश्रुत मतानुसार, निम्नलिखित में से कौनसा कर्म रक्तस्तम्भन के लिए निर्देशित नहीं किया गया है ?
According to Sushruta, which of the following Karma is NOT mentioned for stopping bleeding ?

56 / 68

रक्त मे वायु महाभूत के कारण कौनसा गुण होता है
Which guna does rakta has due to vāyu mahābhūta

57 / 68

रक्त के अति स्राव होने पर अग्नि हो जाती है
What happens to agni when there is excessive bleeding

58 / 68

रक्तमोक्षण से पूर्व रोगी को ........देना चाहिए
Before raktamokshana what should be given to the patient

59 / 68

सुश्रुत अनुसार शुद्ध रक्त का लक्षण है -
According to Sushruta, characteristic of pure blood is

60 / 68

सम्यग् विस्रावण के लक्षण है
Symptoms of samyaga Visrāvana are

61 / 68

रजोदर्शन होने से पूर्व स्तन ,गर्भशय और योनि का विकास होता है
Breasts, uterus and vagina develop before menstruation due to

62 / 68

रक्त में लघुता किसका गुण है
Laghutā in Rakta is the guna of

63 / 68

सुश्रुतानुसार, रक्त स्त्राव रोकने हेतु निम्नोक्त कौन "संकोचयेत सिरा" के लिए उत्तरदायी है ?
As per Sushruta, to stop bleeding, which of the following is responsible for "Sankochayet Sirā" ?

64 / 68

गैरिकोदक प्रतिकाशं लक्षण है
"Gairikodaka pratikāsham" is the symptom of

65 / 68

तुरंत भोजन करने के बाद हि प्रच्छान करने पर क्या होता है
What happens if prachchāna is done soon after the patient had food

66 / 68

गेरू के पानी जैसा कौनसे दोष से दूषित रक्त होता है
Rakta that looks like gairika water is due to which dosha dushti

67 / 68

अहरहर्गच्छतीत्यतो ......
Aharahargachchatītyato.........

68 / 68

रस अर्चिसन्तान की तरह ....गामी होता है
Rasa like archisantāna is.............

Your score is

The average score is 82%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *