Skip to content
Home » Slēṣmābhiṣyandapratiṣēdh Adhyāyaḥ

Slēṣmābhiṣyandapratiṣēdh Adhyāyaḥ

0%
0 votes, 0 avg
22

11. Slēṣmābhiṣyandapratiṣēdh Adhyāyaḥ

1 / 38

प्रक्लिन्नवर्त्म में कौनसा अंजन प्रयोग करने का निर्देश मिलता है ?
Use of which anjan is indicated in praklinnavartma ?

2 / 38

स्त्रोतोञ्जन किस रोग के लिए कहा गया है ?
Strotonjana is said for which disease ?

3 / 38

कफज नेत्ररोगों के लिए वर्णित वर्त्यंजन में समाविष्ट द्रव्य है -
Dravya included in vartyaanjan used for kaphaj netra disorders is -

4 / 38

नेत्रकण्डूहर अंजन में भावना द्रव्य है -
Bhavna dravya in netrakanduhar anjan is -

5 / 38

उत्तम नादेय लवण, श्वेत मरीच और मनःशिला सम प्रमाण में लेकर अञ्जन करने से कौनसा विकार नष्ट होता है ?
Anjana with equal quantities of shveta marīcha, manah shilā and uttama nādeya lavana cures which disease

6 / 38

योगांजन के घटक द्रव्यों को किसके साथ घोटना अपेक्षित है ?
The ingredient of Yogānjana, are mixed with

7 / 38

रूक्ष पुटपाक का प्रयोग किस नेत्ररोग में वर्णित है ?
Use of ruksha putapak is mentioned in which netraroga ?

8 / 38

सुश्रुत अनुसार कफज अभिष्यन्द में अपतर्पण के कितने दिन बाद तिक्तघृत का प्रयोग करना चाहिए ?
According to Sushrut, after how many days of apatarpan use of tiktaghrut should be done in kaphaj abhishyand ?

9 / 38

वर्त्यंजन में कौनसे द्रव्यों के पुष्प लेने का निर्देश मिलता है ?
Flower of which dravya is taken in vartyaanjan ?

10 / 38

अनुलेपन किस अभिष्यंद में करने का निर्देश मिलता है ?
Use of anulepan is indicated in which abhishyand ?

11 / 38

कफाधिमंथ में वर्णित पूर्वकर्म है -
Purvakarma mentioned in kaphadhimanth is -

12 / 38

अंजन वर्ती में कौनसा भस्म प्रयुक्त किया गया है ?
Which bhasma is used in anjan varti ?

13 / 38

सुश्रुत मतानुसार, कफज अभिष्यंद में अपतर्पण के कितने दिन पश्चात तिक्त घृतपान करना चाहिए ?
Siravedhan should be done on which day after snehan ?

14 / 38

तिक्त घृतपान किस नेत्ररोग में निर्दिष्ट है ?
Tikta ghrutapan is indicated in which netra disease ?

15 / 38

बालासग्रथित, पिष्टक व प्रक्लिन्नवर्त्म की चिकित्सा कफज अभिष्यंद के समान करने का निर्देश है मगर एक कर्म ऐसा है जिसका प्रयोग इन व्याधियों में विशेष रूप से निर्दिष्ट है -
Treatment of balāsagrathita, pishtaka and praklinnavartama is advised like that of kaphaja abhishyanda, but what is that karma which is specially advised in these diseases

16 / 38

श्लेष्माभिष्यंद की चिकित्सा का आद्य उपक्रम है -
Primary treatment of kaphaj abhishyand is -

17 / 38

अपतर्पण किस अभिष्यंद में करने का निर्देश मिलता है ?
Apatarpan is indicated in which abhishyand ?

18 / 38

वर्त्यांजन का प्रयोग किस नेत्र रोग में निर्दिष्ट है ?
Use of vartyaanjan is indicated in which netraroga ?

19 / 38

कफाभिष्यंद में स्वेदनार्थ प्रयुक्त द्रव्य है -
Dravya used for swedan purpose in kaphabhishyand is -

20 / 38

सुरा की भावना किस अंजन योग में है ?
Bhavna of sura is given in which anjan yog ?

21 / 38

क्षारांजन के लिए कौनसी शलाका प्रयोग करने का उल्लेख है ?
Use of which shalaka is mentioned for ksharanjan ?

22 / 38

वर्त्यंजन का घटक नही है -
Not an ingredient of vartyaanjan is -

23 / 38

नेत्रकण्डूहर अंजन का घटक द्रव्य है -
Ingredient in netra kanduhar anjan is -

24 / 38

पिष्टक रोग में प्रयुक्त अंजन है -
Anjan used in pishtak disease is -

25 / 38

कवलग्रह किस अभिष्यंद में करने का निर्देश मिलता है ?
Use of kaval graha is indicated in which abhishyand ?

26 / 38

श्लेष्माभिष्यंद की चिकित्सा के सन्दर्भ में सत्य कथन है -
Correct statement related to treatment of shleshmābhishyanda is -

27 / 38

बृहतीद्वय का प्रयोग कौनसे अंजन में वर्णित है ?
Use of bruhatidway is mentioned in which anjan ?

28 / 38

वर्त्यांजन का प्रयोग किस अभिष्यंद में निर्दिष्ट है ?
Use of vartyaanjan is indicated in which abhishyand ?

29 / 38

चमेली पुष्पकलिका का प्रयोग कौनसे अंजन में वर्णित है ?
Use of chameli pushpanalika is mentioned in which anjan ?

30 / 38

सैन्धव लवण किस अंजन योग में उपस्थित है ?
Saindhav lavan is present in which anjan yog ?

31 / 38

कफाभिष्यंद में अनुलेपनार्थ प्रयुक्त द्रव्य है -
Dravya used for anulepan purpose in kaphajabhishyand is -

32 / 38

योगांजन का घटक द्रव्य नही है -
Not an ingredient of yoganjan is -

33 / 38

क्षाराञ्जन का प्रयोग किस नेत्ररोग में निर्दिष्ट है ?
Use of ksharanjan is indicated in which netra disease ?

34 / 38

श्लेष्माभिष्यन्द की प्रथम चिकित्सा है -
First treatment of shleshmabhishyand is -

35 / 38

योगांजन प्रयुक्त है
Yogānjana is used for

36 / 38

कफाभिष्यंद में कितने वर्त्यंजन योग वर्णित है -
How many vartyanjana yoga are mentioned in kaphābhishyanda ?

37 / 38

वार्ताकादि अञ्जन का प्रयोग किस नेत्ररोग में निर्दिष्ट है ?
Use of vartakadi anjan is indicated in which netraroga ?

38 / 38

क्षारांजन का भावना द्रव्य है -
Bhavna dravya of ksharanjan is -

Your score is

The average score is 73%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *