Skip to content
Home » Sushrut Chikitsha 4dhūmanasyakavalagrahacikitsitam MCQs

Sushrut Chikitsha 4dhūmanasyakavalagrahacikitsitam MCQs

0%
0 votes, 0 avg
10

40. dhūmanasyakavalagrahacikitsitam

1 / 64

सुश्रुत अनुसार धूमवर्ति की लंबाई कितनी होनी चाहिये ?
According to Sushrut, how much should be the length of dhumavarti ?

2 / 64

वामनीय धूम मे धूमनेत्र का प्रमाण (सुश्रुत)
Praman of Dhooma netra is vamaniya dhooma ( Sushrut )

3 / 64

हिनातिशुद्धे शिरसि ......... आचरेत्
"hina atishuddhe shirasi ....... aacharet"

4 / 64

किस कार्य के अन्त में प्रायोगिक धूमपान का प्रयोग करना चाहिए ?
Use of prayogik dhoompan should be done by the done of which activity ?

5 / 64

सुश्रुत अनुसार प्रायोगिक धूमनेत्र में अग्र भाग का परिणाह किसके सदृश्य होना चाहिए ?
According to Sushrut, girth ( parinah ) of agra bhāva in prayogik dhumanetra should be similar to ?

6 / 64

अवपीडन एवं ध्मापन नस्य किस दोष की शान्ति हेतु लिए जाते है ?
Avapīdana and Dhmāpana Nasya are given for pacification of which dosha ?

7 / 64

सुश्रुतानुसार वैरेचनिक धूमपान का प्रमाण क्या है ?
According to Sushrut, what is the praman of Vairechanik dhumpan ?

8 / 64

सुश्रुत अनुसार पित्त के रोगियों के लिए नस्य का काल है -
According to Sushrut, time of nasya for the patients of pittaj disorders is -
ed

9 / 64

सर्पदंश द्वारा संज्ञारहित पुरुषो के लिए कौनसा नस्य का प्रयोग करना चाहिए ?
Which nasya is used in the unconscious person due to snake bite

10 / 64

मस्तुलुंग का बाहर निकलना शिरोबिरेचन के ....का लक्षण है
Expulsion of mastulunga is the symptom of ........ of shirovirechana .

11 / 64

सुश्रुत अनुसार प्रायोगिक धूमनेत्र की लम्बाई कितनी है ?
According to Sushrut, how much is the length of prayogik dhumanetra ?

12 / 64

सुश्रुत अनुसार कासघ्न एवं वामनीय धुम्रपान ग्रहण करना चाहिए -
According to Sushrut, kasaghna & vamaniya dhoompan should be taken -

13 / 64

सुश्रुत अनुसार छर्दि और दिवास्पन के अन्त में किस धूमपान का प्रयोग करना चाहिए ?
According to Sushrut, which dhumpan should be used at the end of chhardi & diwaswapna ?

14 / 64

कफ दोष की अधिकता में किस प्रकार का कवल धारण करना चाहिए ?
Which type of kaval should be taken in excess of kapha dosh ?
ed

15 / 64

सुश्रुत के अनुसार धूमपान के काल हैं
According to Sushrut, kaal of dhumpan is -

16 / 64

मज्जा से नस्य किस दोष प्रकोप में देय है ?
Nasya with majja is given in which predominant dosha ?

17 / 64

स्नेहन नस्य की शुक्ति मात्रा है -
Shukti Mātrā of Snehana Nasya is -

18 / 64

सुश्रुत के अनुसार कवल के भेद कितने हैं ?
According to Sushrut, how many types of kaval are there ?

19 / 64

मुख और नासिका के द्वारा पान किए गए धूम को किस स्थान से बाहर निकलना चाहिए ?
Dhūma taken from Mouth and Nose should be blown out by

20 / 64

तिलतण्डुलयवागुपीतेन पातव्यो ............. ।
"Tilatandulayavagu pitena paatvyo ........... "

21 / 64

.......... यावदश्रुप्रवृत्ति: किस धूमपान के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"............ yaavad ashrupravatti" is said in relation with which dhoompan ?

22 / 64

सुश्रुत के अनुसार प्रायोगिक धूमपान ग्रहण करना चाहिए
According to Sushrut, prayogik dhoompan should be taken -

23 / 64

सुश्रुत अनुसार स्नैहिक नस्य की उत्तम मात्रा है -
According to Sushrut, uttam matra of snaihik nasya is -

24 / 64

सुश्रुत मतानुसार, नस्य व्यापद के कितने प्रकार बताए गए है ?
According to Sushruta, how many types of Nasya Vyāpada are mentioned ?

25 / 64

तालुगलशोष निम्न में से किसका लक्षण है ?
Talugalashosh is the symptom of which of the following ?

26 / 64

आचार्य सुश्रुत के अनुसार प्रतिमर्श नस्य का विधान प्रतिदिन कितनी बार बताया गया है ?
Āchārya Sushruta has indicated use of Pratimarsha Nasya how many times a day ?

27 / 64

सुश्रुत अनुसार निम्न में से किस द्रव्य द्वारा वामनीय धूमवर्ति का निर्माण करना चाहिए ?
According to Sushrut, formation of vamaniya dhooma varti should be done through which dravya ?

28 / 64

अवपीड़न एवं ध्मापन नस्य किस दोष की शांति हेतु लिए जाते है ?
Intake of avapidan & dhmapan nasya should be done for suppressing which dosh ?

29 / 64

सुश्रुत के अनुसार कवल के कितने भेद हैं ?
According to Sushrut, how many types of kaval are there ?

30 / 64

सुश्रुत अनुसार नस्य व्यापद के कितने प्रकार बताये गए है ?
According to Sushrut, how many types of nasya vyapad are being mentioned ?

31 / 64

आचार्य सुश्रुत अनुसार धूमपान के भेद
According to Sushrut, types of dhumpan -

32 / 64

सुश्रुत अनुसार निम्न में से किसका वर्णन प्रतिमर्श के काल में नहीं किया गया है ?
According to Sushrut, which of the following is not mentioned in the intake period of pratimarsh ?

33 / 64

सुश्रुत अनुसार किस द्रव्य का प्रयोग कासघ्न धूमवर्ति निर्माण में किया जाता है ?
According to Sushrut, which dravya is used for the formation of kasaghna dhooma varti ?

34 / 64

सुश्रुत अनुसार स्नैहिक धूमपान किस दोष का शमन करता है ?
According to Sushrut, snaihik dhoompan suppress which dosha ?

35 / 64

कषायतिक्तमधुरै: कटुष्णै ........ व्रणे कवल के किस प्रकार के बारे में कहा गया है ?
"Kashayatiktamadhurae katushane ........ vrane" is said for which type of kaval ?

36 / 64

दोष दर्शन होने तक कौनसे धूम का सेवन करना चाहिए ?
Intake of which dhoom should be done upto dosh darshan ?

37 / 64

पित्त दोष में नस्य के लिए किसका प्रयोग करते है ?
What should be used for nasya in pitta dosh ?

38 / 64

स्नेहिक धूमनेत्र का प्रमाण सुश्रुतानुसार
Praman of Snehika dhumanetra according to Sushrut is -

39 / 64

सुश्रुत अनुसार स्नैहिक नस्य किस विकार में प्रयुक्त होता है ?
According to Sushrut, snaihik nasya is used in which disease ?

40 / 64

तद् द्विविधम् - शिरोविरेचनं स्नेहनं च किसके लिए कहा गया है ?
"Tad dvividham - shirovirechanam snehanam cha" is said for which of the following ?

41 / 64

सुश्रुत अनुसार, किस दोष प्रकोप में शोधन कवल धारण करना चाहिए ?
According to Sushruta, in which dosha prakopa, Shodhana Kavala should be used ?

42 / 64

कफयुक्त वात प्रकोप में किसके नस्य प्रयोग करना चाहिए ?
In predominance of vaat along with kapha, nasya should be given with ?

43 / 64

सुश्रुत अनुसार वैरेचनिक धूम्रपान का ग्रहण करना चाहिए -
According to Sushrut, vairechanik dhumpan should be taken -
ed

44 / 64

कासघ्न धूमनेत्र का प्रमाण सुश्रुतानुसार
According to Sushrut, praman of kasaghna dhooma netra -

45 / 64

सुश्रुतानुसार वातज रोगियों के लिए नस्य का काल है -
According to Sushrut, for vat disorder patients , time of nasya is -

46 / 64

सुश्रुत अनुसार धूमपान के लिए व्रणनेत्र का परिणाह किसके सदृश्य होना चाहिए ?
According to Sushrut, girth ( parinah ) of vrana netra should be similar to -

47 / 64

सुश्रुत अनुसार किस अवस्था में धूमपान का प्रयोग निषिद्ध है ?
According to Sushrut, in which condition dhumrapan is contraindicated ?

48 / 64

असंचार्या तु या मात्रा ........ सः प्रकीर्तित:
"Asancharyaa tu yaa matra ......... sa prakirtita"

49 / 64

मुख एवं नासिका से कितने उच्छ्वास तक प्रायोगिक धूमपान करना चाहिए ?
From mukha and Nashika how many puffs of Prāyogika dhūmapāna should be taken

50 / 64

केवल वात दोष में किसका नस्य देते है ?
Which nasya is given only in vaat dosh ?

51 / 64

श्लेष्मिक रोगियों के लिए नस्य का काल है।(सुश्रुत)
Time of nasya for the shleshmika patients is -

52 / 64

सुश्रुतानुसार प्रतिमर्श नस्य के काल है
According to Sushrut, kaal of pratimarsh nasya is -

53 / 64

शिरोविरेचनीय नस्य की मात्रा है -
Quantity of Shirovirechan nasya is -

54 / 64

लाघवं शिरसो योगे सुखस्वप्नप्रबोधनं । विकारोपशम: शुद्धिरिन्द्रियाणां मनः सुखं। किसके सम्यक योग का लक्षण है ?
"Laghavam shiraso yoge sukhaspawnaprabodhanam , vikaro upsham shuddhirinidriyanam manah sukham" is the samyak yog of -

55 / 64

मुखं संचार्यते या तु मात्रा सा.......स्मृतः
"Mukha sancharyate ya tu matra sa ........ smruta"

56 / 64

सुश्रुत अनुसार स्नेहिक धूमनेत्र का परिमाण
According to Sushruta , parimāna of snehika dhūmametra is -

57 / 64

सुश्रुत के अनुसार धूमपान कितने प्रकार का होता है ?
According to Sushrut, Dhumpan is of how many types ?

58 / 64

सुश्रुत अनुसार "ग्रासन्तरेषु .......... इति।" किस धूमपान के सन्दर्भ में कहा गया है ?
According to Sushrut, "Grasaantareshu ........ iti" is said in relation with which dhumapan ?

59 / 64

सुश्रुत अनुसार अकाल में धूमपान करने से कौनसा व्यापद उत्पन्न होता है ?
According to Sushruta, Vyāpada obtained by the dhūma pāna in Akāla

60 / 64

सुश्रुत अनुसार "मूत्रोच्चार क्षवथु हसित रुषित मैथुनान्तेषु" इस अवस्था में किस धूमपान का प्रयोग करना चाहिए ?
According to Sushrut, "mutrocchar kshavathu hasit rushita maithunaanteshu" in this condition which dhumapan should be used ?

61 / 64

सुश्रुत के अनुसार नस्य के भेद हैं -
According to Sushrut, types of nasya are -

62 / 64

वात-पित्त दोष में नस्यार्थ स्नेह -
Sneha for Nasya in Vāta Pitta Dosha is

63 / 64

सुश्रुत अनुसार स्नैहिक नस्य की मध्य मात्रा है -
According to Sushrut, madya matra of snaihik nasya is -

64 / 64

धूमवर्ति निर्माण हेतु कितने प्रमाण तक वेष्टन करना चाहिए ?
For making Dhūma vartī veshtana is done for how much pramāna

Your score is

The average score is 80%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *