Skip to content
Home » Sushrut Chikitsha arśaścikitsitam MCQs

Sushrut Chikitsha arśaścikitsitam MCQs

0%
0 votes, 0 avg
35

6. arśaścikitsitam

1 / 30

गुदावदरणं दाहो मूर्च्छा ज्वर: किस दग्ध का लक्षण है ?
"Gudāvaranam Daho Mūrchchā Javrah" is symptom of which dagdha

2 / 30

सुश्रुत अनुसार किस दोषज अर्श में शोधन चिकित्सा की जानी चाहिए ?
Shodhana chikitsā should be done in which doshaja arsha according to Sushruta

3 / 30

पृथकपर्णी कषाय का प्रयोग किस दोषज अर्श में करना चाहिए ?
Prthakaparnī kashāya should be used in which doshaja arsha

4 / 30

सुश्रुत अनुसार निम्न में से कौनसा द्रव्य षोडश प्रमेह नाशक है ?
Which if the following dravya is Shodasha Prameha Nāshaka according to Sushruta

5 / 30

सुश्रुत अनुसार औषधसाध्य अर्श की चिकित्सा हेतु प्रतिदिन कितनी हरीतकी का सेवन करना चाहिए ?
How many Harītakī should be used every day for aushadha sādhya arsha according to Sushruta

6 / 30

सुश्रुत अनुसार सर्व प्रकार के अर्श का नाश किस द्रव्य से होता है ?
Which dravya cures all types of Arsha according to Sushruta

7 / 30

तनु मूल वाले,ऊपर उभरे हुए और क्लेदयुक्त अर्श होता है
Tanu mūla, kleda yukta and elevated arsha are

8 / 30

गुदा में क्षार, अग्नि और शस्त्र का व्यतिक्रम होने से कौनसा विकार उत्पन्न होता है ?
What does vyatikrama of Kshāra, agni and shastra in gudā leads to

9 / 30

वात एवं कफजन्य अर्श में क्या चिकित्सा करनी चाहिए ?
What treatment should be done in Vāta and Kapha janya arsha

10 / 30

स्त्री हेतु अर्श यन्त्र का प्रमाण कितना होना चाहिए ?
Pramāna of Arsha yantra for Strī should be

11 / 30

सुश्रुत मतानुसार आर्द्रक और कुलथी का प्रयोग करना चाहिये
According to Sushruta, Ārdraka and Kulathī should be used in

12 / 30

अर्श यंत्र के छिद्र की लम्बाई कितने अंगुल होती है ?
Length of Arsha Chidra Yantra should be

13 / 30

अर्श चिकित्सा कितने कितने दिन के अन्तराल में करने का निर्देश है ?
Treatment of arsha should be done in how many days interval ?

14 / 30

चित्रकमूलकल्कान्वित कलश में निषिक्त तक्र का प्रयोग सुश्रुत ने किस रोग की चिकित्सा में निर्दिष्ट किया है ?
Chitrakamūlakalkānavita kalasha nishikta in Takra, Sushruta has advised this for the treatment of which disease

15 / 30

सुश्रुतानुसार भल्लातक विधान है
According to Sushruta. Bhallātaka Vidhāna is in

16 / 30

वात अनुलोमन किस दग्ध का लक्षण है ?
Vāta Anuloma is lakshan of which dagdha

17 / 30

.......... सु सुरसादीनां कषाये |
".......... su surasādinām kashāye"

18 / 30

अर्श चिकित्सा में कुल कितने भल्लातक का सेवन किया जाना चाहिए ?
Total number of Bhallātaka to be consumed in Arsha Chikitsā

19 / 30

......... अर्शसां साधनोपाय: - सुश्रुत
........... Arshasām Sādhanopāyo

20 / 30

चतुर्विध साधनोपाय किसके कहे गए है
Chaturvidha sādhanopāyo are said for

21 / 30

कर्कश,स्थिर व् पृथु अर्श की चिकित्सा है
Treatment of Karkasha, Sthira and Prithu Arsha

22 / 30

हिंग्वादि चूर्ण का प्रयोग किस दोषज अर्श में करना चाहिए ?
Himgavādi chūrna should be used in which doshaja arsha?

23 / 30

किस दोषज अर्श में संशमन चिकित्सा प्रयुक्त करनी चाहिए ?
Samshamana chikitsā should be done in which doshaja arsha

24 / 30

सुश्रुत अनुसार अर्श यंत्र का आकार होना चाहिए -
According to Sushruta, shape of Arsha yantra should be

25 / 30

मृदु,प्रसृत एवम् अवगाढ़ अर्श है
Mridu, prasrita avagādha arsha is

26 / 30

अर्श चिकित्सा में प्रयुक्त कृष्णतिल का अनुपान क्या है ?
Anupāna of Krishna Tila in Arsha Chikitsā

27 / 30

अल्प दोष, लक्षण व् उपद्रव युक्त अर्श की चिकित्सा है
Treatment of Alpa Dosha, lakshana and upadrava yukta Arsha is

28 / 30

अर्श में श्रेष्ठ चिकित्सा है -
Best treatment in arsha is -

29 / 30

पित्त एवं रक्तजन्य अर्श में क्या चिकित्सा करनी चाहिए ?
Treatment for Pitta and Rakta janya Arsha

30 / 30

स्त्री हेतु अर्श यंत्र का प्रमाण होना चाहिए -
Pramāna of Arsha Yantra for females is -

Your score is

The average score is 75%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *