Skip to content
Home » Sushrut Chikitsha madhumēhacikitsitam MCQs

Sushrut Chikitsha madhumēhacikitsitam MCQs

0%
0 votes, 0 avg
28

13. madhumēhacikitsitam

1 / 21

सुश्रुत अनुसार तुवरक के फल को किस ऋतु के आगमन में एकत्रित करना चाहिये ?
According to Sushrut, fruit of tuvarak should be collected during onset of which ritu ?

2 / 21

शर्करां चिरसंभूतां भिन्नति च तथाश्मरीम् | किस द्रव्य के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Sharkaram chirasambhutam bhinnati ch tathashmarim" is said in relation to which dravya ?

3 / 21

महावीर्य, कुष्ठमेहापह: पर: किसके लिए कहा गया है ?
"Mahavirya , kushthameha param" is said for which of the following ?

4 / 21

मधुमेह में प्रयुक्त तुवरक तैल का परिहार काल क्या है ?
What is the avoidance period of madhumeha in tuvarak tail ?

5 / 21

शिलाजतु निर्माण के समय किस गण के क्वाथ की भावना दी जाती है ?
During Shilajatu formation, bhavna of kwath of which gana is given ?

6 / 21

सुश्रुत अनुसार शिलाजतु का वीर्य है -
According to Sushrut, virya of Shilajatu is -

7 / 21

सुश्रुत अनुसार शिलाजतु कितने धातुओ से निर्मित किया जा सकता है ?
According to Sushrut, Shilajatu can be formed from how many dhatu ?

8 / 21

तुवरक तैल प्रयोग में परिहार काल है -
Avoidance period of tuvarak tail is -

9 / 21

प्रमेह के रुग्ण को शिलाजतु की कितनी मात्रा का सेवन करना चाहिए ?
A person suffering from prameha should take how much quantity of Shilajatu ?

10 / 21

कुष्ठ चिकित्सा में तुवरक तैल का प्रयोग कितने समय तक करने का विधान किया है ?
In kushtha chikitsa, tuvarak tail should be used upto which duration ?

11 / 21

शिलाजतु का अनुरस है -
According to Sushrut, anurasa of Shilajatu is -

12 / 21

सुश्रुत अनुसार श्रेष्ठ शिलाजतु का लक्षण नही है -
According to Sushrut, which of the following is not a symptom of shreshtha Shilajatu -

13 / 21

आचार्य सुश्रुत ने मधुमेह विषयक अध्याय किस स्थान मे वर्णित किया है
Acharya Sushrut has mentioned madhumeha related adhyay in which sthan ?

14 / 21

सुश्रुत अनुसार सामान्यत: शिलाजतु का विपाक है
According to Sushrut, vipak of Shilajatu is -

15 / 21

आचार्य सुश्रुत ने मधुमेह की चिकित्सा में प्रयोज्य शिलाजतु की मात्रा बताई है -
According to Sushrut, quantity of Shilajatu used in treatment of madhumeha is -

16 / 21

महावीर्य .......... कुष्ठमेहापह: परं किस औषधि के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Mahavirya ............ kushthameha param" is said in relation to which aushadh ?

17 / 21

सुश्रुत अनुसार शिलाजतु की उत्पत्ति किस मास में होती है ?
According to Sushrut, Shilajatu occurs in which month ?

18 / 21

तुवरक किस व्याधि के नाशनार्थ उत्कृष्ट है ?
Tuvarak is considered best to destroy which disease ?

19 / 21

सुश्रुत ने मधुमेह चिकित्सा में किस धातु का निर्देश किया है -
Which Dhatu is used by Sushruta in the treatment of Madhumeha

20 / 21

सुश्रुत अनुसार शिलाजतु का अनुरस है -
According to Sushrut, anurasa of Shilajatu is -

21 / 21

सुश्रुत के अनुसार कितने तुला शिलाजतु सेवन करने से व्यक्ति 1000 वर्ष की आयु को प्राप्त करता है ?
According to Sushrut, a person can live for 1000 years by intake of how much Tula of Shilajatu ?

Your score is

The average score is 80%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *