Skip to content
Home » sushrut Nidan vātavyādhinidānam

sushrut Nidan vātavyādhinidānam

0%
0 votes, 0 avg
33

1. vātavyādhinidānam

1 / 106

गर्भपात व् अभिघात से उत्पन्न अपतानक होता है
Apatānaka due to garbhapāta and Abhighāta is

2 / 106

खुड़काश्रित: किस वातव्याधि को कहा गया है
"Khudakāshritah" has been said for which vāta vyādhi

3 / 106

किस वायु की विकृति से गुल्म रोग होता है ?
Distortion of which Vāyu causes Gulma ?

4 / 106

शिथिलौ स्विन्नौ शीतलौ सुविपर्ययो किसका पूर्वरूप है
"Shirhilau svinau shītalau suviparyayo" is Pūrvarūpa of

5 / 106

सूचीभिरिव निस्तोद: स्पर्शद्वेष: प्रसुप्तता। किस आवृत वायु का लक्षण है ?
"Suchibhiriva nistoda sparshadwesh prasuptatah" is symptom of which aavrut vayu ?

6 / 106

रससंवहनोद्यत् किस वायु का कार्य है ?
"Rasasanvahaodyat" is function of which vayu ?

7 / 106

उदर के ऊपरी भाग में होने वाली फुलावट (आमाशयोत्थितम्) को क्या संज्ञा दी गई है ?
What is the name given to bloating in upper part of abdomen ? ( Āmāshayotthitam)

8 / 106

3 वर्ष पुराना अर्दित होता है
3 years old Ardita is

9 / 106

सुश्रुत अनुसार पाददाह में किस दोष का प्राधान्य होता है ?
Dosha predominance in Padadaha according to Sushruta ?

10 / 106

परिपोटन लक्षण किसमें मिलता है ?
"Paripota" symptom is seen in ?

11 / 106

शिरश्चलति वाक्संगो नेत्रादीनां च वैकृतम्' किसके लिए कहा गया है
"Shirashchalati vākasamgo netrādinām cha vaikritam" had been said for

12 / 106

शिथिल,स्विन्न शीतल किस व्याधि के पुर्वरूप हैं
Shithila, svinna, shītala are Pūrvarūpa of which vyādhi

13 / 106

प्रायश: सुकुमाराणां मिथ्याहारविहाराणां । is explained by
Prāyashah sukumārānām mithyāhāravihāranām is described by

14 / 106

शुक्र दोष और प्रमेह है -
Shukra dosha and prameha are -

15 / 106

दाहो गात्रविक्षेपणम् क्लम: किसका लक्षण है
"Dāhow gātra vikshepanam klamah" is symptom of

16 / 106

प्राणाश्च अपि अवलम्बते' किस वायु के लिए कहा गया है
"Prānāshcha api avalambate" has been said for which vāyu

17 / 106

प्रणाश्च अवलम्बते का सम्बंध किससे है ?
"Pranashcha avalambte" is related to -

18 / 106

. 'अधः कायगुरुत्वं च' किस आवृत वात का लक्षण है ?
"adhah kayagurutvam ch" is symptom of which aavrut vaat ?

19 / 106

सुश्रुत अनुसार श्रेष्ठ वायु है
Best vāyu according to Sushruta is

20 / 106

वात, विष्ठा और मूत्र का अवरोध करने वाली उदर में तिरछी उत्पन्न ग्रन्थि को क्या कहते है ?
Oblique granthi in abdomen that causes avarodha of vāta, vishthā and mūtra is

21 / 106

कृत्स्नदेहचर यह वातदोष के कौनसे प्रकार का लक्षण है ?
"Krutsnadehachara" is characteristic of which type of Vāta dosha ?

22 / 106

सुश्रुत अनुसार स्वेद की प्रवृति कराना किस वायु का कर्म है ?
According to Sushruta , Sveda Pravritti(sweating) is karma of which vāyu

23 / 106

सुश्रुत ने वात के पांच भेदों का वर्णन कहाँ किया है
Where did Sushruta describe 5 types of Vāta

24 / 106

गुरूणि सर्वगात्राणि स्तंभनं चास्थिपर्वणाम् किस आवृत वात का लक्षण है ?
"Guruni sarvagatrani stambhanam chaasthiparvanaam" is symptom of which aavrut vaat ?

25 / 106

ग्रन्थिन्मन्दरूजोSव्रणान् किस स्थानगत कुपित वायु का लक्षण है
"Granthinmandarujoavranāna" is which sthāna gata kupita vāyu lakshana

26 / 106

आजानुस्फुटित वातरक्त होता है
Ājānusphutita Vāta Rakta is

27 / 106

सुश्रुत अनुसार अतिसार में किस वायु की दुष्टि होती है ?
Vāyu dushti in Atisāra according to Sushruta

28 / 106

प्रत्याधमान में दोष है
Dosha in pratyādhamāna is

29 / 106

रुक् च न कदाचित् प्रशाम्यति किस स्थानगत वायु का लक्षण है ?
"Ruk ch na kadachit prashamyati" is symptom of which sthanagat vayu ?

30 / 106

आचार्य सुश्रुत के अनुसार "पवनोत्तम" है
"Pavanottama" according to Sushruta is

31 / 106

सुश्रुतानुसार कितने वर्ष पुराना अर्दित ठीक नही होता है
According to Sushruta, how many years old Ardita does not get cured

32 / 106

गुल्माग्निसादातीसारप्रभृतीन् कुरुते गदान्" किस वायु के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Gulmagnisaadatisaraprabhrutin kurute gadan" is related to which vayu ?

33 / 106

सुश्रुत अनुसार गर्भपात के निमित्त होने वाला "अपतानक" रोग माना गया है ?
According to Sushruta, the cause of abortion considered to be "Apatanak" disease is -

34 / 106

ग्रंथि मंदरूजो" किस स्थानगत वायु का लक्षण है ?
""Granthi mandarujo" is symptom of which sthanagat vayu ?

35 / 106

असृक् क्षय किस व्याधि का हेतु है ?
"Asruka kshay" is the cause of which disease ?

36 / 106

विद्यान्मुक्तसन्धिप्रबन्धनम् किसका लक्षण है
"Vidhyānamuktasandhiprabandhanam" is the symptom of

37 / 106

मुक्तसन्धिप्रबन्धनं किसका लक्षण है ?
"Muktasandhiprabandhan" is symptom of ?

38 / 106

दण्डापतानक है
"Dandapatānaka is

39 / 106

सुश्रुतानुसर 1 वर्ष पुराना वातरक्त .....होता है
According to Sushruta, One-year-old Vāta Rakta is

40 / 106

आचार्य सुश्रुत अनुसार वायु की निम्न संज्ञा दी गयी है -
Terms given for vayu by acharya sushrut?

41 / 106

विमुक्तपार्श्वह्रदयं किसका लक्षण है ?
"Vimuktaparshvahrudyam" is the symptom of ?

42 / 106

मूर्च्छादाहभ्रमक्लमा:' किस आवृत वात का लक्षण है ?
"Murcchadahabhramaklama" is symptom of which avrut vaat ?

43 / 106

सुश्रुत के अनुसार "वक्त्रसंचारी" वायु है -
According to Sushrut, "Vaktrasanchari" vayu is -

44 / 106

तुनी रोग कहाँ से शुरू होता है
Beginning spot of tuni roga is

45 / 106

जो पक्षाघात केवल वात के कारण उत्पन्न होता है, उसकी साध्यासाध्यता है
Sādhyāsādhyātā of kevala Vātaja Pakshāghāta is

46 / 106

न्यस्ते तु विषमं पादे रुजः कुर्य्यात् समीरण: किस रोग के सन्दर्भ में कहा गया है ?
*Nyaste tu vishamam pade rujah kuryyat samiranah" is said in relation to which disease ?

47 / 106

स्वेद असृक् स्रावण किस वायु का कार्य है
Sveda asrika srāvana is karma if which vāyu

48 / 106

अतिसार में किस वायु की दुष्टि होती है ?
Which Vāyu gets vitiated in Atisāra ?

49 / 106

वायु का कौनसा प्रकार कुपित होने पर हिक्का -श्वास आदि रोगों को उत्पन्न करता है ?
Which type of vayu after getting violated causes hikka, shwas etc disorders ?

50 / 106

स्वेद की प्रवृत्ति करवाना किस वायु का कर्म है ?
Pravrutti of Sweda is Karma of which Vāyu ?

51 / 106

किस वायु को 'देहधृक' कहा गया है ?
Which vayu is said to be "Dehadhruka" ?

52 / 106

आजानु स्फुटित वातरक्त होता है
Ājānu sphutita Vāta Rakta t

53 / 106

जो पित्तादि दोषों से युक्त वात से पक्षाघात होता है, उसकी साध्यासाध्यता है (sushruta)
Sādhyāsādhyātā of Pakshāghāta that happens in association of pittadi dosha(Sushruta)

54 / 106

निमिलिताSक्षौ निश्चेष्टः स्तब्धाक्षो वाSपि कूजति किस व्याधि का लक्षण है ?
"Nimilitā Akshau Nishcheshtah Stabdhāksho Vā Api Kūjati" is the symptom of which disease ?

55 / 106

कफाधिकं च विण्मूत्रं रोमहर्ष: किस आवृत वायु का लक्षण है ?
"kafadhikam ch vinmutram romaharsh" is symptom of which aavrut vayu ?

56 / 106

आचार्य सुश्रुत ने पवनोतम कहा है :
“Pavanottama” according to Āchārya Sushruta is

57 / 106

वैवर्ण्यं स्फुरणं रौक्ष्यम् सुप्तिम् चुमुचुमायनम् किस स्थानगत वात का लक्षण है ?
"Vaivarnyam sphoranam raukshyam suptam chumchumayanam" is symptom of which sthanagat Vaat ?

58 / 106

.............. तं विद्यान्मुक्तसंधिप्रबंधनम्।'
".............. tam vidhyānamuktasandhiprabandhanam"

59 / 106

वन्हिसंगत वायु है -
"Vanhisangat" vayu is -

60 / 106

सुश्रुतानुसार पाददाह में दोष प्राधान्य
Dosha pradhānya in pāda dāha according to Sushruta

61 / 106

सुश्रुत के अनुसार अपतंत्रक में दोष प्रधान होता है
Dosha pradhānya in Apatāmtraka is

62 / 106

ग्रीवाचिबुकदन्तानां तस्मिन् पार्श्वे तु वेदना यह किस व्याधि का लक्षण है
"GrīvaChibukaDantānām tasmina pārshave tu Vedanā" is symptom of which vyādhi

63 / 106

अस्वेदहर्षौ मन्दोSग्नि: शीतस्तंभौ किस आवृत वायु का लक्षण है ?
"Aswedaharsho mandoagni shitastambhou" is symptom of which aavrut vayu ?

64 / 106

स्थम्भन आक्षेपन् स्वाप शोफ शूलानि किस स्थानगत वायु का लक्षण है ?
"Stambhan aakshepan swap shopha shulani" is symptom of which sthanagat vayu ?

65 / 106

सुश्रुत अनुसार प्रकुपित वायु किस स्थान में प्रविष्ट होकर आक्षेप उत्पन्न करता है ?
According to Sushrut, the predominant vayu enters which region to cause akshepak ?

66 / 106

सुश्रुत अनुसार पादहर्ष में किन दोषो का प्राधान्य होता है ?
Which doshas are predominant in paadharsh according to Sushrut ?

67 / 106

आक्षेप किस स्थानगत वायु का लक्षण है ?
Aakshepa is symptom of which sthānagata vāyu ?

68 / 106

सुश्रुत अनुसार अपतंत्रक में किस दोष का प्राधान्य होता है ?
According to Sushrut, which dosh is predominant in Apatantrak ?

69 / 106

गदगद में किस दोष का प्राधान्य है ?
Which dosh is predominant in "Gadgad" ?

70 / 106

गुल्माग्निसादातिसारप्रभृतीन् कुरुते गदान् किस वायु के सन्दर्भ में है
"GulmĀgnisādĀrisāraprabhritina kurute gadāna" is indicative context of which vāyu

71 / 106

किस आचार्य ने वात को "रोगसमूहराट" कहा है ?
Vata is described as "rogasamuharat" by which acharya?

72 / 106

आखुविषवत व्याधि है
Ākhuvishavata vyādhi is

73 / 106

दाहौष्ण्ये स्यादसृग्दर: किस आवृत वात का लक्षण है ?
"Dahoushneya syadasrugdar" is symptom of which aavrut vaat ?

74 / 106

सुश्रुत अनुसार पादहर्ष में किस / किन दोष / दोषो का प्राधान्य होता है ?
Dosha pradhānya in pādaharsha according to Sushruta

75 / 106

पादहर्ष में कारणीभूत दोष है -
Doshas involved in Padaharsha are -

76 / 106

निम्न में से कौनसा वायु कुपित होने पर बस्ति एवं गुदस्थान में रोगों को उत्पन्न करता है ?
After being violated, which vayu causes disorders in basti & guda region ?

77 / 106

छर्दि एवं दाह किस आवृत वात का लक्षण है ?
Chhardi and daha are symptoms of which aavrutavat ?

78 / 106

मूक, मिनमिन व गदगदात्व में कारणीभूत दोष है -
Causative dosha in Mūka, Minamina and Gadagadātva is -

79 / 106

आचार्य सुश्रुत ने "स्वयंभू" शब्द का प्रयोग किसके लिए किया है ?
Acharya Sushrut has given the term "Swayambhu" for ?

80 / 106

बाह्यायाम से पीड़ित में यदि वक्ष,कटि व् ऊरु का भन्जन हो जाए तो वह .......हो जाता है ।
A patient of Bāhyāyāma if suffers from fracture of Vaksha, Kati and Uru then it is.......

81 / 106

हृदयग्रहं पार्श्ववेदनाम् किस स्थानगत वायु का लक्षण है ?
"Hrudyagraham parshvavedanam" is symptom of which sthanagat vayu ?

82 / 106

त्रिकवेदना किस स्थान गत वात का लक्षण है
"Trikavedanā" is symptom of which sthāna gata vāyu

83 / 106

अव्यक्तो व्यक्तकर्मा" किसके सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Avyakto vyaktakarma" is said with reference to -

84 / 106

कोष्ट्रुरुकशिर्ष में किन दोषो का प्राधान्य है ?
Which doshas are predominant in Kroshtukshirsha ?

85 / 106

रुक न कदाचित प्रशाम्यति किस स्थानगत कुपित वायु का लक्षण है
"Ruka na kadāchita prashāmyati" is symptom of which sthāna gata prakupita vāyu

86 / 106

पादहर्ष में दोष प्राधान्य होता है -
Dosha predominance in Pādaharsha is -

87 / 106

बाह्वो कर्मक्षयकरी किसके लिए कहा गया है
"Bāhavo karmakshayakāri" has been said for

88 / 106

अस्थिगत कुपित वायु होने पर कौनसे लक्षण मिलते है ?
Which symptoms are seen when vayu gets violated with asthi ?
ed

89 / 106

विमुक्तपार्श्वहृदयं तदेव् आमाशयोत्थितं किस व्याधि के सन्दर्भ में कहा गया है ?
"Vimuktaparshvahrudyam tadev aamashyotithitam" is said in relation to which disease ?

90 / 106

शुक्रमेह की उत्पत्ति में कारण है -
Cause in occurence of Shukrameha is -

91 / 106

कितने वर्ष पुराना अर्दित असाध्य माना गया है ?
How many years old ardit is considered incurable (asadhya) ?

92 / 106

आवृत्य सकफो वायु: धमनी : शब्दवाहिनी:' किससे सम्बंधित है
"Āvritya sakapho vāyuh dhamanih shabdavāhinih" is related to

93 / 106

बाह्वो: कर्मक्षयकरी है -
"Bahvo karmakshaykari" is -

94 / 106

स्वेदासृक्स्त्रावणश्चापि पञ्चधा चेष्टयत्यपि किस वायु का कर्म है
"Svedāsrikastrāvanashchapi panchadhā cheshtyatyapi" is karma of which vāyu

95 / 106

एक वर्ष पुराना वातरक्त होता है
One year old Vāta Rakta is

96 / 106

सुश्रुत निदान स्थान प्रथम अध्याय का नाम है -
First chapter of Sushrut Nidan Sthan is named as -

97 / 106

रक्तादि धातुओं के क्षय से उत्पन्न पक्षाघात होता है
Pakshāghāta due to kshaya of raktādi dhātus is

98 / 106

अंशदेशस्थितो वायु:शोषयित्वांSसबन्धनम् किस व्याधि का लक्षण है
"Amshadeshasthito vāyuh shoshayitvāmasabandhanam" is symptom of which disease

99 / 106

दौर्बल्यं सदनं तन्द्रा वैवर्ण्य च किसका लक्षण है ?
"daurbalyam sadanam tantra vaivarnya ch" is symptom of -

100 / 106

केवल वात के प्रकोप से जो पक्षाघात होता है वह होता है
Pakshāghāta due to Vāta only is

101 / 106

. "निमिलिताक्षो निश्चेष्ट: स्तब्धाक्षो वाSपि कूजति" किस व्याधि का लक्षण है
"Nimilitāksho nishcheshtah stabdhāksho vāpi kūjati" is symptom of which vyādhi

102 / 106

पार्ष्णि प्रत्यंगुलिनां तू कण्डरा या अनिलार्दिता' किसके सन्दर्भ में है
"Pārshni pratyamgulināma tu kandarā ya anilārditā" is indicative the context of
ed

103 / 106

शुक्र दोष की उत्पत्ति में कारण है -
Cause of Shukra dosha Utapatti

104 / 106

ग्रन्थिमूर्ध्वमायतमुन्नतं किसका लक्षण है ?
"Granthimurdhvamayatamunnatam" is symptom of ?

105 / 106

सुश्रुत अनुसार 'रुक् च न कदाचित् प्रशाम्यति' किस धातुगत वायु का लक्षण है
According to Sushruta "Ruka na cha kadāchita prashāmyati" is which dhātugata vāyu lakshana

106 / 106

सुश्रुत अनुसार "हसतो जृम्भतो भाराद् विषमाच्छयनादपि" किस वातरोग का हेतु है ?
According to Sushrut, "Hasato jrumbhato bharad vishamachhyanadapi" is cause of which vaat disorder ?

Your score is

The average score is 78%

0%

Exit

Please click the stars to rate the quiz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *